गैल्वानी सेल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Galvanic cell with no cation flow.png
दो अर्ध सेलों को लवण-सेतु से जोड़कर बना सेल (जिंक-कॉपर गैल्वानी सेल)
आजकल तरह-तरह के सेल और बैटरियाँ बाजार में उपलब्ध हैं।

गैल्वानी सेल (galvanic cell) या वोल्टाई सेल (voltaic cell) एक विद्युतरासायनिक युक्ति है अपने अन्दर होने वाली रेडॉक्स अभिक्रिया के फलस्वरूप विद्युत ऊर्जा प्रदान करता है। इसके ये नाम क्रमशः लुइगी गैल्वानी तथा एलेसान्द्रो वोल्टा के नाम पर रखे गये हैं जिन्होने इस क्षेत्र में सबसे पहले काम किया। सेल के अन्दर दो भिन्न धातुएँ होतीं हैं जो एक लवण-सेतु (साल्ट ब्रिज) के माध्यम से जुड़ी होतीं हैं।

वोल्टा ने वोल्टाई पाइल (voltaic pile) का आविष्कार किया जो प्रथम विद्युत बैटरी थी। साधारण प्रयोग में बैटरी एक सेल को भी बैटरी कह दिया जाता है किन्तु बैटरी का वास्तविक अर्थ 'एक से अधिक सेलों का संयोजन' है।[1] This cell is also called 'syed' or 'galloesa'.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "battery" (def. 4b), Merriam-Webster Online Dictionary (2008). अभिगमन तिथि: १८ अप्रैल २०१४