कॉकपिट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

कॉकपिट या फ्लाइट डेक आम तौर पर वायुयान के अगले भाग के निकट वह क्षेत्र होता है, जिससे पायलट वायुयान पर नियंत्रण रखता है। सिवाय कुछ छोटे वायुयान के, अधिकांश आधुनिक कॉकपिट बंद होते हैं और बड़े वायुयानों के कॉकपिट भी भौतिक रूप से केबिन से अलग होते हैं। कॉकपिट से वायुयान को जमीन पर और हवा में नियंत्रित किया जाता है।

1914 में पहली बार वायुयान में पायलट के कक्ष के लिए कॉकपिट शब्द का प्रयोग हुआ। लगभग 1935 से अनौपचारिक रूप से कॉकपिट का प्रयोग कार के चालक के बैठने की जगह, विशेष रूप से एक उच्च प्रदर्शन वाले में, के सन्दर्भ में भी किया जाने लगा और फॉर्म्यूला वन में यह आधिकारिक शब्दावली है। संभवत: यह शब्द अधिकांशतः एक रॉयल नेवी जहाज में कॉक्सवेन के स्टेशन के लिए नौकायन शब्द से एवं बाद में जहाज के पतवार नियंत्रण की स्थिति से संबंधित है।

एयरबस A380 कॉकपिट.अत्यधिक एयरबस कॉकपिट कंप्यूटरीकृत ग्लास कॉकपिट्स होते हैं जो फ्लाई-बाई-वायर प्रौद्योगिकी को भी पेश करता है। नियंत्रण स्तंभ को एक इलेक्ट्रॉनिक साइडस्टिक से प्रतिस्थापित किया गया है।
स्विस एचबी-आईज़ेडएक्स (HB-IZX) साब 2000 कॉकपिट
रॉबिन DR400/500
1936 डे हैविललैंड हौर्नेट मौथ कॉकपिट

वायुयान के कॉकपिट के उपकरण पैनल में उड़ान संबंधी उपकरण और नियंत्रण शामिल होते हैं जो पायलट को वायुयान उड़ाने में सक्षम बनाता है। अधिकांश वायुयानों में एक दरवाजा कॉकपिट को यात्री कक्ष से अलग करता है। 11 सितम्बर 2001 के आतंकवादी हमलों के बाद सभी प्रमुख हवाई कंपनियों ने कॉकपिट को अपहरणकर्ताओं के प्रवेश के विरुद्ध सुदृढ़ किया।

आम तौर पर एक बड़े वायुयान में कॉकपिट को फ्लाइट डेक के रूप में जाना जाता है। इस शब्द की उत्पत्ति आरएएफ के द्वारा अलग, ऊपरी प्लेटफार्म के लिए उपयोग किये जाने वाले शब्द से हुई है, जहां पायलट और सह-पायलट बड़ी तैरने वाली नौकाओं में बैठते थे।

अर्गनामिक्स (कर्मचारी परिस्थिति विज्ञान)[संपादित करें]

बंद केबिन के साथ सबसे पहला हवाई जहाज 1913 में इगोर सिकॉर्सकी के वायुयान दॅ ग्रैन्ड के रूप में दिखाई दिया. हालांकि, 1920 के दशक के दौरान ऐसे कई यात्री विमान थे जिसमें विमान के कर्मीदल खुली हवा में रहते थे जबकि यात्री एक केबिन में बैठते थे। द्वितीय विश्व युद्ध में सैन्य द्विपंखी वायुयानों और प्रथम लड़ाकू एवं हमलावर विमानों में भी खुले कॉकपिट होते थे। बंद कॉकपिट वाले आरंभिक वायुयान 1924 के फोकर ट्राई-मोटर, 1926 के फोर्ड ट्राई-मोटर, 1927 के लॉकहीड वेगा, द स्पिरिट ऑफ सेंट लुइस, सैन्य परिवहन विमान के रूप में प्रयोग किए जाने वाले 1931 के टेलर क्लब, जर्मन जंकर्स, एवं 1930 के मध्य दशक के दौरान डगलस और बोइंग कंपनियों द्वारा निर्मित यात्री विमान थे। प्रशिक्षण विमानों एवं फसलों के ऊपर कीटनाशक छीटने वाले विमानों को छोड़कर, 1950 के मध्य दशक तक खुले कॉकपिट वाले वायुयान प्राय: विलुप्त हो चुके थे।

लंडन हीथ्रो एयर पोर्ट, इंग्लैण्ड में उड़ान के वक़्त एक पायलट कॉनटिनेंटल एयरलाइंस बोइंग 777-200 के डेक पर देखा जा रहा है।

कॉकपिट खिड़कियां धूप रक्षक से सुसज्जित हो सकती हैं। अधिकांश कॉकपिटों में खिड़कियां होती हैं जिन्हें उस समय खोला जा सकता है जब वायुयान जमीन पर रहता है। बड़े विमानॉ में कांच की शीशे की लगभग सभी खिड़कियों में परावर्तन रोधी परत और बर्फ को पिघलाने के लिए एक आंतरिक तापन तत्व होता है। छोटा वायुयान एक पारदर्शी वायुयान छतरी से सुसज्जित हो सकता है।

अधिकांश कॉकपिटों में पायलट का नियंत्रण स्तंभ या नियंत्रक लीवर केंद्र में (मध्य लीवर) स्थित रहता है, यद्यपि कुछ सैन्य तीव्र गति वाले जेट वायुयानों एवं कुछ व्यावसायिक वायुयानों में पायलट पार्श्व-लीवर का उपयोग करता है (आम तौर पर यह बाहरी इंजन के हिस्से में और/या बायीं तरफ स्थित रहता है).

कॉकपिट की बनावट, विशेष रूप से तीव्र गति के सैन्य जेट वायुयान में वायुयान निर्माताओं के भीतर और विभिन्न निर्माताओं के बीच में तथा विभिन्न राष्ट्रों के बीच भी मानकीकरण हुआ है। एक सबसे महत्वपूर्ण घटनाक्रम "मूल छह" पद्धति थी, बाद में 1937 के समय से रॉयल एयर फोर्स के द्वारा "मूल टी" विकसित किया गया, जिसे पायलट उपकरण की स्कैनिंग का अनुकूलन करने के लिए तैयार किया गया था।

आधुनिक कॉकपिट के डिजाइन में कर्मचारी परिस्थिति विज्ञान और मानव कारक संबंधी चिंताएं महत्वपूर्ण हैं। कॉकपिट की बनावट एवं कार्य यह प्रदर्शित करता है कि नियंत्रण प्रणालियों को सूचना का अतिभार उत्पन्न किए बिना पायलट के द्वारा स्थिति के प्रति जागरूकता में वृद्धि करने के लिए तैयार किया गया है। अतीत में, कई कॉकपिटों, विशेष रूप से लड़ाकू विमान में, पायलटों के आकार को सीमित किया जो उसमें फिट हो सकते थे। अब, कॉकपिटों को प्रथम प्रतिशतक महिला शारीरिक आकार एवं 99वें प्रतिशतक पुरुष आकार को समायोजित करने के लिए तैयार किया जा रहा है।

तीव्र गति से चलने वाले एक सैन्य जेट वायुयान के डिजाइन में कॉकपिट से जुड़े हुए पारंपरिक "घुंडी एवं डायल" नहीं रहते हैं। अब इलेक्ट्रॉनिक डिस्प्ले लगभग पूर्ण रूप से उपकरण पैनलों का स्थान ले लेते हैं जो स्थान बचाने के लिए अक्सर स्वयं पुन:-समनुरूप बनाने योग्य होते हैं। जबकि अब भी कुछ कठोर तार वाले समर्पित स्विचों का अखंडता और सुरक्षा के लिए इस्तेमाल किया जाना चाहिए, कई पारंपरिक नियंत्रण प्रणालियों का स्थान बहु-कार्य वाली पुन:-समनुरूप बनाने योग्य नियंत्रण प्रणालियां या तथाकथित "कोमल कुंजी (सॉफ्ट की)" ले लेती हैं। पायलट को सिर ऊपर एवं आंख बाहर रखने की स्थिति - तथाकथित हैंड्स ऑन थ्रॉटल ऐंड स्टिक या एचओटीएएस (HOTAS) अवधारणा में बनाए रखने में सक्षम करने के लिए नियंत्रण प्रणालियों को लीवर एवं उपरोधक में शामिल किया जाता है। इन नियंत्रण प्रणालियों में नए नियंत्रण मीडिया जैसे कि हेल्मेट माउंटेड साइटिंग सिस्टम या डायरेक्ट वॉयस इनपुट (डीवीआई) के द्वारा और अधिक वृद्धि की जा सकती है। श्रवण डिस्प्ले में नई प्रगति वायुयान की स्थिति के संबंध में जानकारी एवं विमान प्रणालियों की बेहतर निगरानी के लिए चेतावनी वाली ध्वनियों के आकाशीय स्थानीकरण हेतु डायरेक्ट वॉयस आउटपुट की भी अनुमति प्रदान करता है। कॉकपिट की बनावट (डिजाइन) में एक केन्द्रीय अवधारणा "डिजाइन आई पोजिशन या "डीईपी" है।

आधुनिक विमानों में नियंत्रण पैनल का नक्शा समूचे उद्योग में व्यापक रूप से एकीकृत हो गया है। उदाहरण के लिए बहुसंख्यक प्रणालीगत नियंत्रण (जैसे कि विद्युत, ईंधन, जलदाब विज्ञान और दाबानुकूलन) आमतौर पर एक ऊपरी पैनल की छत पर स्थित होते हैं। आम तौर पर रेडियो पायलट की सीटों के बीच एक पैनल पर स्थित होते हैं जिसे धानी (Pedestal) कहा जाता है। स्वचालित उड़ान नियंत्रण प्रणालियों जैसे कि स्वचालन यन्त्र को आमतौर पर वायुरोधी शीशे के नीचे एवं मुख्य उपकरण पैनल के ऊपर ग्लेयरशील्ड पर स्थापित किया जाता है।

उड़ान संबंधी उपकरण[संपादित करें]

आईएऍफ़ (IAF) इल्यूशिन Il-76 के कॉकपिट के अन्दर काम कर रहे यूएसएऍफ़ (USAF) और आईएऍफ़ (IAF) के वायुसेना (airmen).

आम तौर पर आधुनिक इलेक्ट्रॉनिक कॉकपिट में आवश्यक समझे जाने वाले उड़ान संबंधी उपकरण हैं- एमसीपी (MCP), पीएफडी (PFD), एनडी (ND), ईआईसीएएस (EICAS), एफएमएस/सीडीयू (FMS/CDU) एवं एफएमएस/CDU तथा पूर्तिकर (बैक-अप उपकरण).

एमसीपी (MCP)[संपादित करें]

एक विधा नियंत्रण पैनल, जो आम तौर पर पायलट के सामने एक लंबे संकीर्ण पैनल के केन्द्र में स्थित होता है, का उपयोग हेडिंग (एचडीजी), गति (एसपीडी) ऊंचाई (एएलटी), ऊर्ध्वाधर गति (वी/एस), ऊर्ध्वाधर विमानचालन (वीएनएवी) और पार्श्व विमानचालन (एलएनएवी) को नियंत्रित करने के लिए किया जा सकता है। इसका उपयोग स्वचालन यन्त्र एवं स्वत:उपरोधक दोनों को संलग्न करने या अलग करने के लिए भी किया जा सकता है। एक क्षेत्र के पैनल को आमतौर पर "ग्लेयरशील्ड पैनल" के रूप में जाना जाता है। एमसीपी (MCP) इकाई के लिए एक बोइंग नाम (जिसे अनौपचारिक रूप से इकाई/पैनल के लिए एक सामान्य नाम के रूप में अपनाया गया है) है, जो विभिन्न ऑटोफ्लाइट कार्यों के चयन एवं मापदण्ड निर्धारण की अनुमति प्रदान करता है। एयरबस वायुयान की समान इकाई को एफसीयू (उड़ान नियंत्रण इकाई) के रूप में जाना जाता है।

पीएफडी (PFD)[संपादित करें]

प्राथमिक उड़ान डिस्प्ले आम तौर पर एक प्रमुख स्थान पर स्थित होगा, या तो केन्द्र में या एमएम में या कॉकपिट के किसी एक तरफ. अधिकांश स्थितियों में यह ऊंचाई सूचक, वायु की गति एवं उन्नतांश सूचकों (आम तौर पर एक टेप डिस्प्ले के रूप में) और ऊर्ध्वाधर गति सूचक की एक अंकीकृत प्रस्तुति को शामिल करता है। कई स्थितियों में यह हेडिंग सूचक के कूछ रूप एवं आईएलएस/वीओआर (ILS/VOR) विचलन सूचकों को शामिल करेगा. कई मामलों में संलग्न एवं सशस्त्र स्वत:आक्रमण प्रणाली विधाओं का एक सूचक उन्नतांश (ऊंचाई), गति, ऊर्ध्वाधर गति और हेडिंग के लिए चुने हुए मानों के संकेत के कुछ रूप के साथ उपस्थित रहेगा. पायलट ही एनडी के साथ अदला-बदली करने का निर्णय ले सकता है।

एन डी (ND)[संपादित करें]

विमानचालन डिस्प्ले, जो पीएफडी के समीप हो सकता है, वर्तमान मार्ग एवं अगले सन्दर्भ बिन्दु, वायु की वर्तमान गति एवं वायु की दिशा के संबंध में जानकारी दर्शाता है। यह पीएफडी से अदला-बदली करने के लिए पायलट द्वारा चयन योग्य हो सकता है।

पुरानी शैली के उपकरणों के साथ वीसी-10 (VC-10) (1960 दशक) द विकर्स वीसी10 एयरलाईनर ने वैशिष्ट्य कॉकपिट को पेश किया।
एक हॉकर सिड्ली ट्रिडेंट एयरलाइनर के बाद के वैशिष्ट्य कॉकपिट.

ईआईसीएएस/ईसीएएम (EICAS/ECAM)[संपादित करें]

इंजन के संकेत और विमानकर्मी को चेतावनी देने वाली प्रणाली (बोइंग के लिए इस्तेमाल की जानेवाली) या इलेक्ट्रॉनिक केन्द्रीकृत विमान मॉनिटर (एयरबस के लिए) पायलट को निम्नलिखित जानकारी की निगरानी करने की अनुमति प्रदान करेगी : N1, N2 और N3 के लिए ईंधन का तापमान, ईंधन प्रवाह, विद्युत प्रणाली, कॉकपिट या केबिन का तापमान एवं दाब, नियंत्रण सतह और ऐसी ही अन्य बातें. पायलट बटन दबा कर सूचना का प्रदर्शन करना चाह सकता है।

एफएमएस (FMS)[संपादित करें]

पायलट द्वारा उड़ान प्रबंधन प्रणाली/नियंत्रण इकाई का प्रयोग निम्नांकित सूचना दर्ज करने एवं उसकी जांच करने के लिए किया जा सकता है: उड़ान योजना, गति नियंत्रण, विमान चालन नियंत्रण और ऐसी ही अन्य बातें.

पूर्तिकर (बैक-अप) उपकरण[संपादित करें]

कॉकपिट के एक कम प्रमुख हिस्से में, अन्य उपकरणों की विफलता की स्थिति में, पूर्तिकर (बैक-अप) उपकरणों का एक सेट होगा, जो उड़ान संबंधी बुनियादी जानकारी जैसे कि गति, ऊंचाई, हेडिंग और विमान की ऊंचाई को दर्शाएगा.

वांतरिक्ष उद्योग प्रौद्योगिकियां[संपादित करें]

संयुक्त राज्य अमेरिका में संघीय उड्डयन प्रशासन (एफएए)() (FAA) और राष्ट्रीय वैमानिकी एवं अंतरिक्ष प्रशासन (एनएएसए) ((NASA)) ने कॉकपिट की बनावट के कर्मचारी परिस्थिति विज्ञान संबंधी पहलुओं पर शोध किये हैं एवं उन्होंने विमान उद्योग की दुर्घटनाओं की छानबीन की है। कॉकपिट डिजाइन अनुशासनों में संज्ञानात्मक विज्ञान, तंत्रिका विज्ञान, मानव एवं कम्प्यूटर की पारस्परिक क्रिया, मानव कारक संबंधी इंजीनियरिंग, मानव शरीर मापन का अध्ययन एवं कर्मचारी परिस्थिति विज्ञान शामिल हैं।

वायुयान डिजाइनों ने पूरी तरह से डिजिटल "कांच की कॉकपिट" को अपनाया है। ऐसे डिजाइनों में, विमान चालन संबंधी नक्शे सहित उपकरण एवं गेज, एआरआईएनसी 661 (ARINC 661) नामक एक यूजर इंटरफेस मार्कप लैंग्वेज का प्रयोग करते हैं। यह मानक एक स्वतंत्र कॉकपिट प्रदर्शन प्रणाली के बीच इंटरफेस को परिभाषित करता है, जो आम तौर पर एक ही निर्माता द्वारा निर्मित होता है और वैमानिकी उपकरण और उपयोगकर्ता के अनुप्रयोग जिसकी इसके द्वारा प्रदर्शन (डिस्प्ले) एवं नियंत्रण प्रणालियों के माध्यम से समर्थन किये जाने की आवश्यकता होती है, अक्सर विभिन्न निर्माताओं द्वारा निर्मित होते हैं। समग्र प्रदर्शन प्रणाली और इसे संचालित करने वाले अनुप्रयोग के बीच अलगाव, अत्यधिक विशेषज्ञता और स्वतंत्रता की अनुमति प्रदान करता है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • कांच का कॉकपिट
  • उड़ान संबंधी उपकरण

संदर्भ[संपादित करें]

बाहरी लिंक्स[संपादित करें]