कंधा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Shoulder
Shoulder joint.svg
Diagram of the human shoulder joint
Gray327.png
Capsule of shoulder-joint (distended). Anterior aspect.
लैटिन articulatio humeri
ग्रे की शरी‍रिकी subject #81 313

कंधा तीन हड्डियों का बना होता है : हंसली(हंसली), कंधे की हड्डी (कंधे ब्लेड) और प्रगंडिका(ऊपरी बांह की हड्डी)और उसके साथ ही मास्पेशिया, कंडर के शोथ और बंध भी सम्मिलित हैं. कंधे की हड्डियों के बीच के जोड़ो से कंधे का जोड़ बनता है कंधे का प्रमुख जोड़ है- ग्लेनोह्युमरल जोड़ (कंधे का जोड़) मानव के शरीर रचना विज्ञान के अनुसार, कंधे के जोड़ में शरीर के वे हिस्से होते है जहाँ प्रगंडिका कंधे की हड्डी से जुडती है.[1] कंधा जोड़ के क्षेत्र में संरचनाओ का समूह है.[2]

जोड़ में दो प्रकार के उपास्थि होते हैं. पहली प्रकार की उपास्थि होती है सफ़ेद उपास्थि जो हड्डियों की सीमाओं पर होती है (जिसे संधि उपास्थि कहा जाता है). ये हड्डियों को एक दूसरे पर फिसलने और खिसकने देती है. जब इस प्रकार की उपास्थि घिसने लगती है (एक प्रक्रिया जिसे गठिया कहते है), जोड़ दर्दनाक और कठोर हो जाता है. कंधे में दुसरे प्रकार की उपास्थि होती है लेब्र्म, जो संधि उपास्थि से साफ तौर पर अलग होती है. यह उपास्थि गोला ओए गर्तिका जोड़ के सिरों पर उपस्थित उपास्थि से अधिक रेशेदार और कठोर होती है. इसके अलावा यह उपास्थि गर्तिका जहाँ जुडती है उसके ऊपर भी पाई जाती है.[3]

कंधा हाथ और भुजाओ में गति के लिए लचीला होना चाहिए और उठाने, खीचने और धक्का देने जैसी क्रियाओ के लिए मजबूत भी होना चाहिए. इन दो कार्यो के बीच समझोते से कई प्रकार की कंधे से जुडी समस्याएँ हो सकती है जो की अन्य जोड़ जैसे, नितंब में नहीं होती.

कंधे के जोड़[संपादित करें]

कंधे में तीन तरह के जोड़ होते है- ग्लेनोह्युमरल, असंकुट तथा जत्रुक संबंधी और स्टरनोक्लेविक्युलर.

ग्लेनोह्युमरल जोड़[संपादित करें]

ग्लेनोह्युमरल जोड़ कंधे का प्रमुख जोड़ होता है जिसे आमतौर पर कंधे का जोड़ कहते संधर्बित करते है. यह एक गोला और गर्तिका जोड़ है जो भुजा को गोल घुमाने और अन्दर और बहर चलाने में उपयोगी है. यह प्रगंडिकाके शीर्ष और पार्श्विक कंधे की हड्डी के बीच के जोड़ से बनता है (खासकर कंधे की हड्डी का ग्लेनोइड खात) कंधे का गोला प्रगंडिका का गोल, मध्यवर्ती अग्रस्थ सतह है और गर्तिका ग्लेनोइड खात से बना है,जो की पार्श्विक कंधे की हड्डी का कटोरी जैसा हिस्सा है. खात और कंधे व शारीर के बीच के अपेक्षकृत ढीले संयोजनों के खोकलेपन के कारण भुजा में भयंकर चंचलता होती है जिसके कारण दुसरे जोड़ो की अपेक्षा यहाँ आसानी से विस्थापन हो जाता है.

संपुट एक नरम ऊतक का लिफाफा है जो ग्लेनोह्युमरल जोड़ को घेरता है और कंधे की हड्डी, प्रगंडिका और द्विशिरस्क को भी उससे जोड़ता है. यह एक पतली, नरम श्लेष झिल्ली से रेखांकित है. यह संपुट कोराकोह्युम्रल स्नायु के कारण मजबूत होता है जो कंधे की हड्डी की कोराकोइड प्रक्रिया को प्रगंडिका बड़ी ग्रंथिका से जोड़ता है. तीन अन्य प्रकार के स्नायु भी होते है जो प्रगंडिका की छोटी ग्रंथिका को पार्श्विक कंधे की हड्डी से जोड़ते है और जिन्हें सामूहिक तौर पर ग्लेनोह्युमरल स्नायु कहा जाता है.

एक प्रकार के स्नायु को सेमीसरक्यूलेयर ह्युमेरी कहते है जो ट्युबरकलम माइनस की पिछली तरफ और प्रगंडिका के मेजस के बीच तिरछी पट्टी है. यह पट्टी संपुट जोड़ की सबसे महत्वपूर्ण और मजबूत स्नायु है.

स्टरनोक्लेविक्युलर जोड़[संपादित करें]

स्तेर्नोक्लाविकुलर हंसुली के मध्यवर्ती सिरों पर मेंयुब्रिम या स्टेरनम के सबसे उपरी भाग के साथ पाया जाता है. हंसली त्रिकोनिय और गोल होती है और मेंयुब्रिम उत्तल होती है, व ये दोनों हड्डियाँ संधियों में विभाजित है. जोड़ में एक चुस्त सम्पुट होता है और पूर्ण संधिपरक चक्र जो जोड़ की स्थिरता को सुरक्षित रखता है. कस्तोक्लाविक्युलर स्नायु गति पर प्रमुख बंधन है, इसीलिए,जोड़ को प्रमुख रूप से स्थिरता देता है. जोड़ पर प्रस्तुत फैब्रोकार्टिलेजीनस चक्र गति की सीमा को बड़ाता है. स्तेर्नोकलाविक्यूलर विस्थापन दुर्लभ है, हालाँकि प्रत्यक्षा अघात से क्षति हो सकती है.[4]

कंधे के संचलन[संपादित करें]

कंधे की मास्पेशियाँ और उसके जोड़ उसे एक उल्लेखनीय श्रेणी की गति से हिलने देती है, जिसके कारण यह मानव शारीर का सबसे चंचल जोड़ है.[कृपया उद्धरण जोड़ें] कंधा खींचना, समिपकर्ष (जैसे की मक्खी),घूर्णन,धड के आगे-पीछे की तरफ उठाना और सैजिटल तल से पूरे ३६० घुमाना जैसे कार्य कर सकता है. इस प्रकार गति की भयानक श्रेणी से कंधा अत्यंत अस्थिर बन जाता है, और विस्थापन और चोट से और ज्यादा उन्मुख हो जाता है.[5]

निम्नलिखित में कंधे की चेष्टा के लिए प्रयुक्त विभिन्न [6]शब्द है.

नाम विवरण मांसपेशियां
स्कंधास्थी त्याग( उर्फ़ कंधे की हड्डी का स्मीप्कर्ष)[7] कंधे की हड्डी पीठ के साथ मध्यवर्ती गति से पीछे घूमती है,जिससे भुजा और कंधे का जोड़ भी पीछे घूमता है. दोनों कंधे की हड्डियों को त्यागने से "कंधे की ब्लेड को साथ निचोड़ने" की सनसनी होती है. रोम्बोइदीयस, प्रमुख,लघु और टरापेजियस
स्कंधास्थि अतिकाल [8] (उर्फ़ स्कंधास्थि का अपहरण ) स्कंधास्थि तर्क के विपरीत गति. कंधे की हड्डी पीठ के साथ आगे की ओर घूमती है, जिससे भुजा और कंधे का जोड़ भी आगे घूमता है. यदि दोनों स्कंधास्ती लंबी हैं, तो स्कंधास्ती अलग हो जाती है और प्रमुख वक्षपेशी मस्पेशियाँ साथ में निचुड़ जाती है. अग्रस्थ सेराटस(प्रमुख प्रस्तावक), लघु और प्रमुख वक्षपेशी
स्कंधास्थि ऊंचाई [9] कंधे की हड्डी एक बेवशी गति में उठायी जाती है. लीवेटर कंधे की हड्डी, त्रपेजियास के उपरी फाइबर
स्कंधास्थि अवसाद [10] कंधे की हड्डी ऊंचाई से कम है. कंधे की हड्डी दबी हुई हो सकती है जिससे गर्दन और कंधों द्वारा गठित कोण कुंठित होता है, जो झुके हुए कंधो की उपस्थिति देता है. मामूली वक्षपेशी, त्रापेजियस.सबक्लेविस, लातिस्सिमस दोरसी के निचले फाइबर.
हाथ अपहरण [11] हाथ अपहरण तब होता है जब बाहें पक्ष में आयोजित हो जाती हैं, धड़ की लंबाई के सामानांतर और फिर धड के तल से उठी हुइ होती है . इस आन्दोलन को दो भागो में बांटा जा सकता है: भुजाओ का सही अपहरण ,जो प्रगंडिका से मेरूदंड के सामानांतर होता है; और स्कंधास्ती का उपरी घूर्णन जो ह्युमरस को उसके बिंदु सीधे होने तक उठाता है. असली अपहरण:सुप्रस्पिनाट्स (पहले 15 डिग्री);त्रिकोण उर्ध्व घूर्णन त्रपेजियस,अग्रस्थ सेराटस
हाथ का समिप्कर्ष [12] हाथ का समिप्कर्ष हाथ के अपहरण से अभिमुख गति है. यह दो भागो में बांटा जा सकता है: कंधे की हड्डी का निचला घूर्णन और भुजाओ हा असली समिप्कर्ष . निचला घूर्णन: लघु वक्षपेशी,प्रमुख वक्श्पीशी. सब्क्लेविस, लेतिसिमस दोरसी (स्कंधास्ती अवसाद के समान,प्रमुख वाश्पेक्षी के साथ जो त्रपेजियास के निचले फैबर का स्थान ले लेता है.
बांह मोड़ [13] प्रगंडिका को धड के तल के बाहर से घुमाया जाता है ताकि वह आगे की तरफ रहे. प्रमुख वाश्पेक्षी,कोराकोब्राचीआलीस ,द्विशिरस्क पेशी , त्रिकोन के अग्रस्थ फाइबर.
शाखा विस्तार [14] प्रगंडिका को धड के ताल के अन्दर से घुमाया जाता है ताकि वह पीछे की तरफ रहे. लेटिमस डोरसीऔर प्रमुख बेलनाकार,त्रिशिस्क का लम्बा सिरा,देल्टाकर के प्रष्ट फाइबार
हाथ की औसत दर्जे का घूर्णन [15] हाथ की औसत दर्जे का घूर्णन कोहनी को ९० डीग्री के कोण की अवस्था में रखकर और उंगलियों को जमीन के सामानांतर तानकर आसानी से देखा जा सकता है. औसत दर्जे का घूर्णन तब होता है जब कंधे से हाथ इस प्रकार घुमाया जाता है ताकि उंगली सीधा इशरा करने के स्थान पर शरीर के पर इशारा करे. सबस्केप्युलेरिस, लेटीस्सिमस डोरसी, प्रमुख बेलनाकार,प्रमुख वशपेक्षी, त्रिकोनाकर के अग्रस्थ फाइबार.
हाथ का पार्श्व घूर्णन [16] हाथ की औसत दर्जे के घूर्णन के विपरीत. इन्फ्रास्पाईनेट्स और लघु बेलनाकार,त्रिकोनाकर के पिछले फाइबार.
हाथ सरकमडकशन [17] एक परिपत्र गति में कंधे का मूवमेंट ताकि अगर कोहनी और उँगलियाँ पूरी तरह से तन जाती है तो विषय हवा में शरीर के पीछे से चक्र खीचता है. सरकमडकशन में, हाथ जमीन के समानांतर ऊपर नहीं उठाते है, ताकि बनाया गया वृत्त शीर्ष पर चपटा हो. प्रमुख वक्षपेशी,सबसकाप्युलेरिस,कोरकोब्रचिआलीस, द्विशिरस्क पेशी,काक पेशी, त्रिभुजाकार,लेटीसीमास डोरसी, प्रमुख और लघु बेलनाकार

प्रमुख मांसपेशियों[संपादित करें]

जो मस्पेशियाँ कंधे के मूवमेंट के लिए जिम्मेदार होती हैं वे प्रगंडिका, कंधे की हड्डी और हंसुली से जुडी हुई होती हैं. जो मस्पेस्जियाँ कंधे को घेरती हैं वे कंधे की कपालिका और बगल को बनाती हैं.

नाम कुर्की कार्यप्रणाली
सेरटस पूर्वकाल छाती की तरफ की आठ पसलियों की सतह पर उत्पन्न होती हैं और कंधे की हड्डी के मध्यवर्ती सीमा की पूरी अग्रस्थ लम्बाई में निवेश करती है. यह कंधे की हड्डी को वक्ष दीवार से जोड़ता है और घूर्णन व कंधे के अपहरण में सहायक है.
सब्क्लविस हंसुली के नीचे स्थित है और पहली पसली से उत्पन्न होती है और हंसुली की सब्क्लेविकल नाली में निवेश(घुसना) करती है. यह पार्श्विक हंसुली को अवनत करता है व हंसुली को स्थिर करने का कम भी करता है.
लघु पक्ष्पेशी तीसरी, चौथी और पांचवी पसली के पास वाली उपस्थि से उमड़ती है और कंधे की हड्डी के कराकोइड प्रक्रिया की उपरी सतह और मध्यवती सीमा में निवेश करती है. यह मांसपेशी श्वसन में सहायक है,कंधे की हड्डी का मध्यवर्ती घूरना, कंधे की हड्डी की रक्षा करती है,और कंधे की हड्डी को न्यूनतम तरीके से फैलाती है.
स्‍टर्नोक्‍लेडोमैस्‍टायड स्टर्नम(स्टरनों, हंसुली (क्लेइडो) और खोपड़ी की टेम्पोरल अस्थि की कर्णमूल प्रक्रिया से जुड़ता है. इनमे से ज्यादातर क्रियाएँ झुकती है और सर को घुमती है. कंधे के सम्बन्ध में, तथापि,यह सर के जुड़े होने पर स्तेर्नोक्लेविक्युलर जोड़ के उठने पर यह श्वसन में भी सहायक है.
लीवेटर स्केप्युले पहली चार ग्रीवा रीड की हड्डी के अनुप्रस्थ प्रक्रियाओं से उमड़ती है और कंधे की हड्डी के मध्यवर्ती सीमा में निवेश करती है. यह कंधे की हड्डी को ऊपर और नीचे घुमाने में सक्षम है.
तिर्यग्वर्ग बड़ी और छोटी तिर्यग्वर्ग (एक साथ काम करती है ) T1 और T2 रीड की हड्डी की रीड सम्बन्धी प्रक्रिया से और साथ ही सांतवी ग्रीवा की रीड सम्बन्धी प्रक्रिया से उमड़ती है. कंधे की हड्डी के मध्यवर्ती सीमा में निवेश करती है, स्कंधासती मेरूदंड से कंधे की हड्डी के निचले कोण के स्तर के चरों ओर ये कंधे की हड्डी के साथ लीवेटर स्केप्युले के घूर्णन के लिए जिम्मेदार है,और साथ ही कंधे की हड्डी के समीप्कर्ष के लिए भी.
त्रपेजियस पश्चकपाल हड्डी, स्नायु न्युकेई,सांतवी ग्रीवा की रीड सम्बन्धी प्रक्रिया और रीड की हड्डी सम्बन्धी सभी प्रक्रियाएं और सुप्रस्पैनल स्नायु के तुल्य हिस्से से उमड़ती है. पार्श्विक हंसुली, एक्रोमाइओन प्रक्रिया और कंधे की हड्डी की मेरूदंड में निवेश करती है. फइबर के विभिन्न हिस्से दबी हुई कंधे की हड्डी पर अलग अलग क्रियाए प्रस्तुत करते है, ऊपरी घूर्णन, उठाने की क्रिया और समीप्कर्ष.
त्रिकोन, पूर्वकाल फाइबर पूर्ववर्ती सीमा और हंसुली के पार्श्विक तिहाई ऊपरी सतह पर से उमड़ती है. अग्रस्थ फईबार कंधे के अपहरण में शामिल होते है जब कन्धा बहार की तरफ से घूमता अहि. अग्रस्थ त्रिकोण सक्त अनुप्रस्त मोड़ में कमजोर होती है पर प्रमुख वक्षपेशी के कंधे के अनुप्रस्थ मोड /कंधे के मोड़ (जब कोहनी कंधे से थोड़ी सी निम्न होती है)के समय में सहायक होती है.
त्रिकोन, मध्यम फाइबर पार्श्विक सीमा और एकरोमाँईओन की उपरी सतह पर से उमड़ती है. मध्य फाइबर कंधे अपहरण में शामिल रहते हैं, जब कंधे को आंतरिक दिशा में घुमाया जाता है, कंधे के मोड़ में शामिल होते हैं जब कंधे को आंतरिक दिशा में घुमाया जाता है, और कंधेके अनुप्रस्थ अपहरण में शामिल होते है (कंधे का बाह्य घुमाव) - लेकिन सख्त अनुप्रस्थ विस्तार के दौरान महत्वपूर्ण तौर पर उपयोग में नहीं लाया जाता (जब कंधे को अन्दर से घुमाया जाता है)
त्रिकोन, पिछले फाइबर कंधे की हड्डी के मेरूदंड के पार्श्विक सीमा के निचले होंठ, इसके त्रिकोणीय सतह के मध्यवर्ती बिंदु से उमड़ती है. पश्व फईबर अनुप्रस्थ विस्तार में जोरदार तरीके से शामिल होता है खासकर तब जब लेटिमस डोरसी मांसपेशी सख्त अनुप्रस्थ विस्तार में कमजोर हो. पश्व त्रिकोण एक मुख्य कंधे का हैपरएक्स्तेंसर भी है.

अंग को घुमानेवाली पेशी कफ[संपादित करें]

अंग को घुमाने वाली पेशी कफ एक शरीररचना शब्द है जो मांसपेशियों के समूह को और उनके टेडन को कहा जाता है जो कंधे को स्थिर करने का कम करता है. यह टेंडन और मस्पेशियाँ(कफ पेशी, इन्फ्रासपिनेटस,लघु बेलनाकार और सब्स्केप्युलेरिस) जो प्रगंडिका के सर (पिंड) को विवर(मुख) के ग्लेनोइड में पकड़ के रखता है.

दो फिल्मी थैली जैसी संरचनाओं जिन्हें पुट्ठा कहते है, वे हड्डी, टेडन और मांसपेशियों के बीच खिसकने की क्रिया को आराम से होने देता है. ये घूमने वाली पेशी कफ को एक्रोमिन के अस्थिवत चाप से बचाते है.

कंधे का भार मापन[संपादित करें]

चित्र:Shoulder 2.jpg
यांत्रिक कंधे का एंड्रोप्रोथेसिस, ९-चैनल दूर्मापी विज्ञानं ट्रांसमीटर अंतर्जीवी ६ भर कोम्पोनेंट्स को मापने के लिए.

कंधे के सामान्य और पेथोलोजिक कार्य को समझने के लिए ग्लेनोह्युमारल जोड़ के बल की जानकारी होना आवश्यक है. यह अस्थिभंग के उपचार और जोड़ को बदलने के लिए सर्जरी का आधार बनाता है, स्थरीकरण और डिज़ाइन रोपण को ओपटीमाइज करने और कंधे के एनेलेटिक और बायोकेमिकल मोडल्स की जाँच करने और सुधरने के लिए. ज्युलीयास वोल्फ इंस्टीट्युट में यांत्रिक कंधारोपण से जोड़ के संधार्ग बल और गति को अलग अलग गतिविधियों के दौरान जीवित ऊतक के अन्दर मापा जा सकता है.[18]

अतिरिक्त छवियां[संपादित करें]

चिकित्सा सम्बन्धी समस्याएँ[संपादित करें]

  • कंधे की समस्याएँ
  • अंग को घुमानेवाली पेशी कफ की उद्वत सम्बन्धी समस्याएँ

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

  • कंधे करधनी (वक्षीय कटिबंध )
  • गेल्नोह्युमारल जोड़ (कंधे का जोड़)
  • एक्रोमयोक्लेविक्युलर जोड़
  • स्तेर्नोक्लेविक्युलर जोड़
  • कंधे पर चिप

टिप्पणियां[संपादित करें]

  1. Shoulder+joint को ई-मेडिसिन शब्दकोष पर देखें
  2. Shoulder को ई-मेडिसिन शब्दकोष पर देखें
  3. "labrum tear Johns Hopkins Orthopaedic Surgery". www.hopkinsortho.org. http://www.hopkinsortho.org/labrum_tear.html. अभिगमन तिथि: 2010-05-16. 
  4. Sternoclavicular संयुक्त Dislocations http://lifeinthefastlane.com/2010/02/sternoclavicular-joint-dislocation/
  5. वैज्ञानिक कुंजी खंड मैं, हठ योग के स्नायु कुंजी, रे लंबी संस्करण एमडी FRCSC, तीसरा, स्नातकोत्तर. 174
  6. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_01.html
  7. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_02.html
  8. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_02.html
  9. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_03.html
  10. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_03.html
  11. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_05.html
  12. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_06.html
  13. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_07.html
  14. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_07.html
  15. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_08.html
  16. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_08.html
  17. http://www.med.umich.edu/lrc/coursepages/M1/anatomy/html/modules/upper_limb_module/upper_limb_08.html
  18. vivo में आरोपण कंधे माप के भार के साथ कंधे instrumented, जूलियस Wolff Institut , Charité - Universitätsmedizin बर्लिन

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

Wiktionary-logo-en.png
कंधा को विक्षनरी,
एक मुक्त शब्दकोष में देखें।