ओरॅस्त ख़्वोलसन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
ओरॅस्त ख़्वोलसन

ओरॅस्त ख़्वोलसन (रूसी:Орест Данилович Хвольсон, अंग्रेज़ी: Orest Khvolson) एक रूसी भौतिकविज्ञानी थे। १९१६ में अल्बर्ट आइंस्टीन द्वारा सामान्य सापेक्षता सिद्धांत की घोषणाके बाद ख़्वोलसन ने उसपर गहरा अध्ययन किया और १९२४ में ब्रह्माण्ड में गुरुत्वाकर्षक लेंसों के पाए जाने की भविष्यवाणी की। गुरुत्वाकर्षक लेंस के ऊपर अध्ययन करने वाले और उसकी घोषणा करने वाले यह पहले वैज्ञानिक थे।[1] पचपन साल बाद, १९७९ में, इनकी भविष्यवाणी सच साबित हुई जब ट्विन क्वेज़ार नाम की वस्तु की एक के बजाए दो-दो छवियाँ देखी गयी।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]