आतिथ्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
यह लेख आतिथ्य की परिभाषा के सम्बन्ध में है। होटल प्रबंधन के शैक्षिक अध्ययन के लिये आतिथ्य प्रबंधन अध्ययन तथा आतिथ्य उद्योग देखें.

आतिथ्य एक मेहमान तथा मेजबान के मध्य संबंध अथवा सत्कारशीलता का कृत्य अथवा प्रचलन है। जोकि मेहमान, आगंतुक अथवा अजनबियों; आश्रयस्थल, सदस्यता क्लब, कन्वेंशन, आकर्षणों, विशेष घटनाओं का स्वागत तथा मनोरंजन तथा यात्रियों तथा पर्यटकों के लिये अन्य सेवाये हैं।

"आतिथ्य" का आशय उन लोगों के प्रति देखभाल तथा दयालुता प्रदान करना भी हो सकता है जिनको इसकी आवश्यकता है।

आतिथ्य का अर्थ[संपादित करें]

आतिथ्य शब्द का उद्गम लैटिन शब्द hospes से हुआ है जिसकी उत्पत्ति hostis से हुई जिसका मूल अर्थ है, शक्ति होना. शाब्दिक रूप से "मेजबान" का अर्थ "अजनबियों का स्वामी" होता है [1] hostire का अर्थ बराबर अथवा प्रतिपूर्ति करना होता है।

होमेरिक काल में आतिथ्य यूनानी देवकुल के मुख्य देवता जियस के आधीन था। जियस को 'ज़ेनिअस ज़ौस' (क्सेनोस का अर्थ है, अजनबी) की उपाधि भी प्रदान की गयी है जो इस तथ्य पर जोर देता है कि आतिथ्य सबसे महत्त्वपूर्ण था। एक यूनानी घर के बाहर से गुजरने वाले किसी अजनबी को परिवार द्वारा घर के अंदर आमंत्रित किया जा सकता था। मेजबान अजनबी के पैर धोने, खाना तथा शराब पेश करने तथा मेहमान के आरामदायक होने के बाद ही उसका नाम पूछ सकता था।

पवित्र आतिथ्य की यूनानी धारणा की व्याख्या टेलीमैकस तथा नेस्टर की कहानी में की गई है। जब टेलीमैकस नेस्टर से मिलने आया, नेस्टर इससे अनभिज्ञ था कि उसका अतिथि उसके पुराने मित्र ओडीसियस का पुत्र है। लेकिन फिर भी नेस्टर ने टेलीमैकस तथा उसकी पार्टी का मुक्तहस्त से स्वागत किया, इस प्रकार hostis "अजनबी" तथा hostire "समतुल्य या बराबर" के मध्य सम्बन्ध का प्रदर्शन किया कि किस तरह आतिथ्य की धारणा में ये दो मिलते हैं।

बाद में, नेस्टर के पुत्रों में से एक इस बात की देखभाल करते हुये कि उसे कोई तकलीफ न हो, टेलीमैकस के नजदीक के बिस्तर पर सो गया। नेस्टर ने एक बग्गी तथा घोड़े भी टेलीमैकस के लिये छोड़े जिससे वह पायलस से स्पारटा तक थल मार्ग से यात्रा कर सकें तथा अपने पुत्र पिसिसट्राटस को सारथी के रूप में नियुक्त किया। यह प्राचीन ग्रीक आतिथ्य के दो अन्य घटकों बचाव तथा मार्गदर्शन की व्याख्या करता है।

उपरोक्त कहानी तथा उसके वर्तमान अर्थ के आधार पर आतिथ्य का तात्पर्य अजनबी को मेजबान के बराबर/समतुल्य रखना, उसकी देखभाल करना तथा उसे सुरक्षित महसूस कराना होता है, तथा उसकी मेजबानी के अंत में उसे अगले पड़ाव का मार्गदर्शन प्रदान करना होता है।

समसामयिक प्रयोग[संपादित करें]

समसामयिक पश्चिम में आतिथ्य दुर्लभतः बचाव तथा अस्तित्व का मसला है, तथा अधिकतर शिष्टाचार तथा मनोरंजन से सम्बन्धित है। हालांकि इसमें आज भी अपने अतिथि के लिये आदर प्रदर्शित करना, उनकी आवश्यकताओं को पूरा करना तथा उनको बराबर का मानना शामिल है। व्यक्तिगत मित्रों एवं किसी के समूह के सदस्य की तुलना में अजनबियों के प्रति आतिथ्य का प्रदर्शन संस्कृतियों एवं उपसंस्कृतियों के अनुरूप भिन्न-भिन्न होता है।

आतिथ्य सेवा उद्योग में होटल, कैसीनो एवं आश्रयस्थल शामिल हैं जो अजनबियों को आराम तथा निर्देश प्रदान करते हैं, लेकिन केवल व्यापार संबंधों के भाग के रूप में. हॉस्पिटल, हॉस्पाइस एवं हॉस्टल शब्द भी "होस्पीटेलिटी" से लिये गये हैं तथा ये संस्थान व्यक्तिगत देखभाल की ओर अधिक इशारा करते हैं।

आतिथ्य आचरण शास्त्र एक विषय है जो आतिथ्य के प्रयोग का अध्ययन करता है।

पश्चिमी संदर्भ में, एथेन्स तथा येरुशलम के मध्य गतिशील तनाव के साथ दो अवस्थाओं में अधिक प्रगतिशील संक्रमण के साथ अन्तर देखा जा सकता है: एक व्यक्तिगत कर्तव्य बोध महसूस करने के आधार पर आतिथ्य तथा एक संगठित परंतु अज्ञात सामाजिक सेवाओं के लिये सरकारी संस्थानों पर आधारित होता है: जिनमें गरीब, अनाथ, बीमार, विदेशी, अपराधी आदि विशेष प्रकार के अजनबियों हेतु विशेष स्थान है। शायद, इस प्रगतिशील संस्थानीकरण को मध्य काल तथा पुनर्जागरण काल के मध्य संक्रमण से गठबंधित किया जा सकता है (इवान इलिच, द रिवर्स नार्थ ऑफ द फ्यूचर). "आय एम गोइंग टु गेट यू ए पिलो एण्ड मेक यू फील रिअल गुड", आतिथ्य का एक उदाहरण हो सकता है। यह अतिथि के आतिथ्य को दर्शाता है।

विश्व में आतिथ्य[संपादित करें]

बाइबल संबंधी तथा मध्यपूर्वी[संपादित करें]

स्वर्गदूतों को आतिथ्य प्रदान करते हुए, इब्राहीम

मध्य पूर्वीय संस्कृति में, आपके मध्य रहने वाले अजनबियों तथा विदेशियों की देखभाल को सांस्कृतिक मानदण्ड माना गया। ये मानदण्ड बाइबल संबंधी कई आज्ञाएं तथा उदाहरणों में प्रतिबिंबित किये गये हैं।[1]

संभवतः सर्वाधिक चरम उदाहरण जेनेसिस (प्रथम खण्ड) में दिया गया है। ईश्वर, फरिश्तों के समूह को आतिथ्य प्रदान करता है (जिन्हें वह केवल इंसान मानता है); जब भीड़ उनका बलात्कार करने का प्रयास करती है तो वे इस हद तक चले जाते हैं कि वे फरिश्तों के स्थान पर अपनी पुत्रियों को प्रस्तुत कर देते हैं। यह कहते हुये कि, "इन व्यक्तियों के साथ कुछ नहीं करो, क्योंकि ये मेरी शरण में आये हैं।" (जैनेसिस 19:8, एन आई वी)

मेजबान तथा अतिथि दोनों के लिये कठोर बाध्यतायें हैं। यह बंधन एक छत के नीचे नमक खाकर स्थापित किया जाता है, तथा इतना कठोर होता है कि एक अरबी कहानी बताती है कि एक चोर ने एक वस्तु का स्वाद यह सोच कर चखा कि वह चीनी है तथा, यह जानकर कि वह नमक है, उसने वो सभी चीजें वहां वापस रख दीं जो उसने उठाई थीं तथा चला गया।

प्राचीन विश्व[संपादित करें]

प्राचीन ग्रीक तथा रोमन लोगों के लिये आतिथ्य एक दैवीय स्थिति थी। मेजबान से अतिथियों की आवश्यकताओं को पूरा करना सुनिश्चित करने की अपेक्षा की जाती थी। प्राचीन ग्रीक शब्द ज़ीनिया, अथवा थिओज़िनिया देवता के शामिल होने पर अनुष्ठात्मक अतिथि-मित्रता संबंध को अभिव्यक्त करता है।

प्राचीन विश्व में आतिथ्य के महत्व का एक उदाहरण बाउसिस तथा फिलमोन की कहानी है। इस कहानी में, प्राचीन देवता जीयस तथा हार्मिस फ्रिगिया के शहर में साधारण किसान के रूप में वेश बदलकर जाते हैं। खाने तथा रात में रुकने की खोज में उन्होंने कई बन्द दरवाजे देखे, जब तक कि वे फिलमोन तथा बाउसिस के घर में नहीं आये. यद्यपि वह गरीब थे, परंतु दम्पत्ति ने अच्छे मेजबान की तरह व्यवहार करते हुए, अतिथि को उनके पास जो कुछ थोड़ा बहुत था वह दिया, तथा जब वह यह समझ पाते हैं कि उनके अतिथि वास्तव में भेष बदल कर आये देवता है, वे अपने घर की रक्षा करने वाले एक कलहंस (गूज़) को बलि करने का प्रस्ताव करते हैं। शहर में आई बाढ़ से शेष गैर सत्कारशील शहरी व्यक्तियों के स्थान पर उस दम्पति को बचाने के अलावा, पुरस्कार के रूप में देवता उनकी एक इच्छा पूरी करने का वचन देते हैं।

केल्टिक संस्कृतियों में आतिथ्य[संपादित करें]

केल्टिक सोसायटियों ने भी आतिथ्य की धारणा का सम्मान किया है, विशेषकर बचाव के संबंध में. एक मेजबान, जिसने एक व्यक्ति को शरण देने की स्वीकृति दी है, उससे अपने अतिथि को केवल भोजन तथा आश्रय देने की ही अपेक्षा नहीं की जाती परंतु उसे यह भी सुनिश्चित करना होता है कि उनकी देखभाल के अधीन मेहमान को कोई हानि न हो.

इसका वास्तविक जीवन का उदाहरण मूलतः 17वीं शताब्दी प्रारंभ के स्कॉटिश क्लान मैक ग्रेगर के इतिहास में है। क्लेन लेमान्ट का मुखिया ग्लेनस्ट्रा में मैक ग्रेगर मुखिया के घर में आया तथा उसने उसे बताया कि वह शत्रुओं से बचता घूम रहा है तथा शरण देने की प्रार्थना की. मैक ग्रेगर ने अपने मुखिया भाई का स्वागत किया तथा कोई प्रश्न नहीं किया। बाद में उस रात मैक ग्रेगर क्लेन के सदस्य लेमॉन्ट मुखिया को देखने आये, तथा उन्होंने मुखिया को सूचित किया कि वास्तव में लेमॉन्ट ने अपने पुत्र तथा वारिस की झगड़े में हत्या कर दी है। आतिथ्य के धार्मिक नियम को ध्यान में रखते हुए, मैक ग्रेगर ने लेमॉन्ट को न केवल उनके गोत्र के व्यक्तियों को सौंपने से मना किया बल्कि अगली सुबह उसे उसकी पूर्वजों की जमीन तक छोड़ा. इस कृत्य की बाद में प्रतिपूर्ति हुई जब मेक ग्रेगर्स भगोड़े घोषित किये गये, लेमॉन्ट ने उनके कई लोगों को सुरक्षित स्थान दिया.[2]

भारत में आतिथ्य[संपादित करें]

भारत संसार की सबसे पुरानी सभ्यताओं में से एक है, तथा प्रत्येक संस्कृति के समान उसकी अपनी पसंदीदा कहानियां हैं जिनमें से कुछ आतिथ्य पर भी हैं। जैसे कि कोई अनाड़ी अपना छोटा सा टुकड़ा बिन बुलाए मेहमान के साथ बांटता है, इस खोज में कि मेहमान भेष बदल कर आये देवता हो सकते हैं, जो उसकी उदारता का प्रचुर मात्रा में पुरस्कार देंगे. जैसे कि एक स्त्री, जितना संभव हो, प्रेमपूर्वक उतनी खिचड़ी पकाती है, उन सभी के लिये जो भूखे है, उस दिन तक जब वह खाने का अपना हिस्सा भी आखरी भूखे व्यक्ति को दे देती है, तथा भेष बदल कर आये हुए देवता उसे कभी न समाप्त होने वाला खिचड़ी का बर्तन पुरस्कार में देते हैं। अधिकतर वयस्क भारतीय अपने बालपन से इस प्रकार की कहानियां सुनते हुये बड़े हुए हैं। वे "अतिथि देवो भव" के दर्शन शास्त्र में विश्वास रखते हैं, जिसका अर्थ है "अतिथि भगवान होता है". इस मूल मन्त्र से घर में आये अतिथियों के संबंध में दयालुता का भारतीय दृष्टिकोण तथा अन्य सभी सामाजिक परिस्थितियां प्रमाणित होती हैं।

भारत का अर्थ आधुनिक भारत से नहीं है, 1947 में विभाजन के पहले भारत तथा पाकिस्तान एक ही देश थे। इसलिये जब भारतीय सभ्यता की बात की जाती है, इसका आश्य भारत तथा पाकिस्तान दोनों के संबंध में है।

सांस्कृतिक मूल्य या मान[संपादित करें]

सांस्कृतिक मान या मूल्य के रूप में आतिथ्य एक स्थापित समाजशास्त्रीय परिस्थिति है, जिसके बारे में लोग अध्ययन करते एवं लिखते हैं (संदर्भ देखें, एवं आतिथ्य आचार शास्त्र).

एक विशेष प्रकार के आतिथ्य का प्रदर्शन करते हुये कुछ क्षेत्र एक ही परंपरा में ढ़ल गये हैं। उदाहरण के लिए:

आतिथ्य आचार शास्त्र[संपादित करें]

"आतिथ्य आचार शास्त्र" शब्द का प्रयोग दो भिन्न, परंतु संबंधित, अध्ययन क्षेत्रों के लिये किया जाता है:

  1. आतिथ्य संबंधों एवं अभ्यासों में नैतिक दायित्वों का दार्शनिक अध्ययन.
  2. व्यापार आचार शास्त्र की शाखा जो वाणिज्यिक आतिथ्य एवं पर्यटन उद्योगों में आचार शास्त्र पर ध्यान केन्द्रित करती है।

क्या किया जाना चाहिये, बताने के लिये आचार शास्त्र जहाँ "क्या किया गया है" के परे जाता है; आतिथ्य आचार शास्त्र आतिथ्य से जुड़े हुये मसलों में "क्या किया जाना चाहिये " बताता है। आतिथ्य सिद्धांत एवं मानक विभिन्न संस्कृतियों एवं परंपराओं में; एवं पूरे इतिहास में आतिथ्य प्रचलनों, प्रक्रियाओं एवं संबंधों के जटिल विश्लेषण से लिये गये हैं। अंततः, आतिथ्य सिद्धांतों को वाणिज्यक एवं गैर-वाणिज्यक व्यवस्थाओं में प्रयुक्त किया गया है।

आचारण के एक मानक के रूप में, संपूर्ण इतिहास में आतिथ्य को एक कानून, एक आचार शास्त्र, एक सिद्धांत, एक कोड (संहिता), एक कर्त्तव्य, एक गुण इत्यादि के रूप में माना गया है। इन परामर्शों को अतिथियों, मेजबानों, नागरिकों एवं अपरिचितों के मध्य अनिश्चित संबंधों के निपटारे हेतु सृजित किया गया था। अपने प्राचीन उद्भव एवं मानव संस्कृतियों में सर्वव्यापकता के बावजूद, आतिथ्य के सिद्धांत पर नैतिक दार्शनिकों ने तुलनात्मक रूप से कम ध्यान दिया है, तथा उन्होंने अपना ध्यान अन्य नैतिक सिद्धांतों यथा - अच्छा, बुरा, सही एवं गलत आदि पर केन्द्रित किया।

अब तक नैतिक आदेश, या आचार शास्त्रीय दृष्टिकोण के रूप में आतिथ्य ने आचार शास्त्रीय व्यवहार हेतु कई अन्य परामर्शों को पीछे छोड़ा है: प्राचीन मध्यपूर्व, यूनान एवं रोमन संस्कृतियों में आतिथ्य का आचार शास्त्र एक कोड था जो अतिथियों एवं मेजबानों से एक निश्चित प्रकार के आचरण की माँग करता था। एक उदाहरणः शूरवीरता में स्टेशन (ठहराव) के व्यक्तियों द्वारा अन्य व्यक्तियों के माँगे जाने पर भोजन एवं आवास प्रदान करना आवश्यक है।

कई रूपों में, व्यवहार के ये मानक वर्तमान समय में वाणिज्यिक आतिथ्य उद्योग तक मौजूद रहे हैं, जहाँ प्राचीन विचारों के वंशज वर्तमान मानकों एवं प्रचलनों को सूचित करते रहते हैं।

प्रचलन में आतिथ्य आचार शास्त्र[संपादित करें]

वाणिज्यिक आतिथ्य व्यवस्थाओं में आचार शास्त्र. अनुप्रयुक्त आचार शास्त्र, आचार शास्त्र की वह शाखा है जो हमारे आचार शास्त्रीय सिद्धांतों एवं निर्णयों की पड़ताल करती है। अनुप्रयुक्त आचार शास्त्र की कई शाखायें हैं: व्यापार आचार शास्त्र, व्यावसायिक आचार शास्त्र, चिकित्सा आचार शास्त्र, शैक्षणिक आचार शास्त्र, पर्यावरणीय आचार शास्त्र एवं अन्य.

आतिथ्य आचार शास्त्र अनुप्रयुक्त आचार शास्त्र की एक शाखा है। व्यवहार में, यह अनुप्रयुक्त आचार शास्त्र की अन्य शाखाओं के संबंधों को मिलाता है, जैसे कि व्यापार आचार शास्त्र, पर्यावरणीय आचार शास्त्र, व्यावसायिक आचार शास्त्र, एवं अन्य. उदाहरण के लिए, जब एक स्थानीय आतिथ्य उद्योग तरक्की करता है, तब संभावित आचार शास्त्रीय दुविधायें प्रचुरता से सामने आती हैं: उद्योग के प्रचलनों का पर्यावरण पर क्या प्रभाव होता है? मेजबान समुदाय पर क्या प्रभाव होता है? स्थानीय अर्थव्यवस्था पर क्या प्रभाव होता है? स्थानीय समुदाय; बाहरी व्यक्तियों, पर्यटकों एवं अतिथियों के बारे में नागरिकों के रवैये पर क्या प्रभाव होता है? ये ऐसे कुछ प्रश्न हैं जो कि अनुप्रयुक्त आचार शास्त्र के एक संस्करण के रूप में आतिथ्य आचार शास्त्र पूछ सकता है।

चूँकि आतिथ्य एवं पर्यटन सम्मिलित रूप से विश्व में सबसे बड़े सेवा उद्योगों का सृजन करता है, अतः आतिथ्य एवं पर्यटन से जुड़े व्यक्तियों के लिये अच्छे और बुरे व्यवहार तथा सही और गलत कार्यों की बहुत संभावनायें हैं। इन उद्योगों में आचार शास्त्र आचरण संहिताओं, कर्मचारी मैनुअल, उद्योग मानकों (चाहे अस्पष्ट या स्पष्ट) एवं कई अन्य द्वारा निर्देशित होता है।

यद्यपि विश्व पर्यटन संगठन ने आचार शास्त्र के उद्योग अनुसार कोड प्रस्तावित किये हैं, आतिथ्य उद्योग के लिये वर्तमान में कोई वैश्विक संहिता नहीं है। वाणिज्यिक आतिथ्य व्यवस्थाओं में आचार शास्त्र संबंधी विभिन्न पाठ्य पुस्तकें हाल ही में प्रकाशित की गयी हैं एवं वर्तमान में आतिथ्य शिक्षा पाठ्यक्रमों में प्रयुक्त हो रही हैं।

यह भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. (Exodus 22:21, NIV)
  2. चार्ल्स मेककिनोन, स्कॉटिश हाइलेंडर्ज़ (1984, बार्न्स एंड नोबल बुक्स); पृष्ठ 76

अतिरिक्त पठन[संपादित करें]

  • क्रिस्टीन जेसज़े. (2006). एथिकल डिसीज़न-मेकिंग इन द होस्पीटेलिटी इंडसट्री
  • करेन लिबरमेन और ब्रूस निसन. (2006). एथिक्स इन द होस्पीटेलिटी एंड टूरिज़्म इंडसट्री
  • रोज़ालीन डफी और मिक स्मिथ. द एथिक्स ऑफ़ टूरिज़्म डेवलपमेंट
  • कॉनराड लैश्ले और एलिसन मोरिसन इन सर्च ऑफ़ होस्पीटेलिटी
  • कॉनराड लैश्ले और एलिसन मोरिसन द्वारा होस्पीटेलिटी: अ सोशल लेंस
  • रे ओल्डेनबर्ग द्वारा द ग्रेट गुड प्लेस
  • पॉल रुफिनो द्वारा कस्टमर सर्विस एंड द लग्ज़री गेस्ट
  • फुस्टेल डी कौलानगेस द एन्शिएन्ट सिटी: रिलिजन, लौज़, एंड इंस्टीट्यूशनज़ ऑफ़ ग्रीस एंड रोम
  • बोलकेज़ी होस्पीटेलिटी इन ऐन्टिक्विटी: लिवि'ज़ कांसेप्ट ऑफ़ इट्स ह्युमनाइज़िन्ग फ़ोर्स
  • जैकस डेरिडॉ॰ (2000). ऑफ़ होस्पीटेलिटी. ट्रांस. रेचल बौलबाय. स्टैनफोर्ड: स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.
  • स्टीव रीस. (1993). द स्ट्रेंजर'ज़ वेलकम: ओरल थिअरी एंड द एस्थेटिक्स ऑफ़ द होमरिक होस्पीटेलिटी सीन. एन आर्बर: मिशिगन प्रेस की यूनिवर्सिटी.
  • मिरिल रोज़ेलो. (2001). पोस्टक्लोनिअल होस्पीटेलिटी. द इमिग्रेंट एज़ गेस्ट. स्टैनफोर्ड सीए: स्टैनफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.
  • क्लिफोर्ड जे. रूट्स. (1999). ट्रेवल एंड ट्रांसलेशन इन द लेट टवेंटिअथ सेंचुरी. कैम्ब्रिज, एमए: हार्वर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस.
  • इम्मानुअल वेलिकोव्स्काय (1982). मैनकाइंड इन एम्नेज़िया. गार्डन सिटी, न्यू यॉर्क: डबलडे.

बाहरी लिंक[संपादित करें]