आइरी-शून्य

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
आइरी-शून्य की तीन छवियां — A मेरिनर ९ द्वारा, B वाइकिंग १ द्वारा और C मार्स ग्लोबल सर्वेयर द्वारा ली गई थी I

आइरी-शून्य (Airy-0), मंगल ग्रह पर एक खड्ड या क्रेटर है जिसका स्थान उस ग्रह की प्रधान मध्याह्न रेखा की स्थिति को परिभाषित करता है | यह आरपार लगभग ०.५ कि. मी. (०.३१ मील) है और सिनस मेरिडियन क्षेत्र में विशाल क्रेटर आइरी के भीतर स्थित है |

इसे ब्रिटिश शाही खगोलविद श्रीमान् जॉर्ज बिडेल आइरी (१८०१ -१८९२) के सम्मान में नामित किया गया था, जिन्होंने १८५० में ग्रीनविच पर याम्योत्तर वृत्त दूरदर्शी को निर्मित किया था | उस दूरबीन के स्थान को बाद में पृथ्वी की प्रधान मध्याह्न रेखा को निर्धारित करने के लिए चुना गया था |

मंगल के प्रधान मध्याह्न रेखा के रूप में इस खड्ड का चयन १९६९ में मेरिनर ६ और ७ की तस्वीरों के आधार पर मेर्टोन डविएस द्वारा किया गया था |[1]

References[संपादित करें]

  1. Morton, Oliver (2002). Mapping Mars: Science, Imagination, and the Birth of a World. New York: Picador USA. pp. 22–23. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0-312-24551-3.