अल्ताई भाषा-परिवार

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अल्ताई भाषा परिवार का फैलाव
अल्ताई भाषाएँ मध्य एशिया के अल्ताई पर्वत क्षेत्र में शुरू हुईं

अल्ताई (अंग्रेज़ी: Altaic languages, ऑल्टेइक लैन्गवेजिज़) एक भाषा-परिवार है जिसमें तुर्की भाषाएँ, मंगोल भाषाएँ, तुन्गुसी भाषाएँ, जापानी भाषाएँ और कोरियाई भाषा आती हैं। अल्ताई भाषाएँ यूरेशिया के बहुत ही विस्तृत क्षेत्र में बोली जाती हैं जो पूर्वी यूरोप से लेकर मध्य एशिया से होता हुआ सीधा जापान तक जाता है। इस परिवार में कुल मिलकर लगभग ७० जीवित भाषाएँ आती हैं और इन्हें बोलने वालों की तादाद वर्तमान विश्व में लगभग ५० करोड़ है।

विवाद[संपादित करें]

बहुत से भाषावैज्ञानिकों के इस भाषा-परिवार के अस्तित्व को मानाने के बावजूद कुछ ऐसे विद्वान भी हैं जो इसे नहीं मानते। इनका कहना है कि ऐसा कोई भाषा-परिवार नहीं है और इन सब पृथक भाषाओँ को ज़बरदस्ती एक समूह में ठूंसा जा रहा है। यह बात सभी मानते हैं कि इन भाषाओँ की बहुत सी चीज़ें आपस में मिलती हैं। अल्ताई भाषा-परिवार के हिमायती कहते हैं कि यह इसलिए है क्योंकि यह सभी एक ही प्राचीन आदिम-अल्ताई भाषा की संतानें हैं। अल्ताई भाषा-परिवार के विरोधी कहते हैं कि ऐसी कोई भाषा कभी थी ही नहीं और इन भाषा की समानताएँ इसलिए उत्पन्न हुई क्योंकि इन्हें बोलने वालों में आपसी मिश्रण बहुत रहा है जिस से इन्होने एक-दुसरे को गहरे रूप से प्रभावित किया है।[1]

नाम की उत्पत्ति[संपादित करें]

भाषावैज्ञानिकों का मानना है कि यह भाषा-परिवार जिस आदिम भाषा से शुरू हुआ वह मध्य एशिया के अल्ताई पर्वतों में बोली जाती थी। इसी से इस भाषा-परिवार का नाम पड़ गया है।[2]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Concise encyclopedia of languages of the world, Keith Brown, Sarah Ogilvie, Elsevier, 2008, ISBN 978-0-08-087774-7, ... The most serious problems are the extensive borrowing among the 'Altaic' languages, lack of convincing cognates, lack of basic vocabulary, extensive areal diffusion, problems with the putative sound correspondences ...
  2. Dictionary of Languages: The Definitive Reference to More Than 400 Languages, Andrew Dalby, Columbia University Press, 2004, ISBN 978-0-231-11569-8, ... The name Altaic is taken from the Altai mountain range of Asiatic Russia which seems to lie close to the point of origin from which Altaic languages must, many millennia ago, have begun to spread ...