अफ़्रीकी नखरहित ऊदबिलाव

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अफ़्रीकी नखरहित ऊदबिलाव
African clawless otter
कोंगो में एक नखरहित ऊदबिलाव
कोंगो में एक नखरहित ऊदबिलाव
वैज्ञानिक वर्गीकरण
जगत: जंतु
संघ: कौरडेटा
वर्ग: स्तनधारी
गण: मांसाहारी
कुल: मस्टेलिडाए
उपकुल: लूट्रिनाए
प्रजाति: एओनिक्स​
जाति: ए. कपेंसिस
द्विपद नाम
एओनिक्स​ कपेंसिस
Aonyx capensis

(शिन्ट्ज़​, 1821)
अफ़्रीकी नखरहित ऊदबिलाव का विस्तार
अफ़्रीकी नखरहित ऊदबिलाव का विस्तार

अफ़्रीकी नखरहित ऊदबिलाव (अंग्रेज़ी: African clawless otter), जिसे ग्रूट ऊदबिलाव (groot otter) और अंतरीप ऊदबिलाव (cape clawless otter) भी कहते हैं, दुनिया का दूसरी सबसे बड़ी मीठे-पानी में रहने वाली जाति है। यह उप-सहारा अफ़्रीका के सवाना (मैदानी) और जंगल इलाक़ों में नदी-झीलों के पास मिलते हैं। इनकी सबसे बड़ी पहचान इनके बिना नखों वाले और (उँगलियों के बीच) अधूरी जाली-वाले पाँव होते हैं। यह अपनी नाखून रहित लेकिन स्पर्श-सक्षम उँगलियों से पानी में और पत्थरों के नीचे केंकड़े, मेंढ़क और अन्य छोटे जीव खाने के लिए खोजते हैं।[1]

विवरण[संपादित करें]

अफ़्रीकी नखरहित ऊदबिलाव की खाल मोटी और मुलायम, और पेट पर लगभग रेशमी होती है। इनका रंग गहरा ख़ाकी होता है और चहरे पर सफ़ेद निशान होते हैं जो नीचे गले और सीने तक जाते हैं। इनके पांवों में पांच उंगलियाँ होती हैं लेकिन ऊँगली-विपरीत हो सकने वाले अंगूठे नहीं होते। इन उँगलियों में नाखून नहीं होते सिवाय पीछे के पांवों की दूसरी, तीसरी और चौथी उँगलियों में। दुम मिलाकर इनकी लम्बाई 113-163 सेमी के बीच होती है जिसका लगभग एक-तिहाई उनकी दुम में आता है। इनका वज़न 12 से 21 किलोग्राम के बीच होता है।

प्रजनन[संपादित करें]

बसंत की शुरुआत में मादाओं के 2 से 5 बच्चे होते हैं। नर और मादा दिसंबर में बारिशों के दौरान ब्याहते हैं लेकिन फिर अलग होकर जीवन व्यतीत करते हैं। बच्चों का पालन केवल मादाएँ ही करती हैं। मादाओं की गर्भावस्था लगभग दो महीने (63 दिन) चालती है।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Beat About the Bush: Mammals, Trevor Carnaby, pp. 87, Jacana Media, 2008, ISBN 978-1-77009-240-2, ... The sense oftouch via sensitive fingers and whiskers (vibrissae) is also very important for african clawless otters. They probe among or under rocks and in mud in murky shallows for their favourite food items of mussels, frogs and crabs ...