अपोलो ११

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
अपोलो ११ का कर्मीदल्, बायीं ओर से, आर्मस्ट्रांग, कॉलिन्स और ऐल्ड्रिन

अपोलो ११ (अंग्रेज़ी: Apollo 11) वह अंतरिक्ष उड़ान थी जिसने चंद्रमा पर पहले इंसान, नील् आर्मस्ट्रांग और ऐडविन "बज़" ऐल्ड्रिन. जुनियर को 10 जुलाई 1969 को अंतराष्ट्रीय समय अनुसार 20:17:39 बजे उतारा था। संयुक्त राज्य अमेरिका का यह मिशन मानव इतिहास व अंतरिक्ष अनुसंधान के इतिहास में एक बडी उपलब्धी के रूप में देखा जाता है।

ऐल्ड्रिन इगल से औज़ार निकालते हुए

16 जुलाई 1969 को मेरिट आइलैंड में स्थित कैनेडी स्पेस सेंटर लाँच काम्प्लेक्स 39 (Kennedy Space Center Launch Complex 39) से उड़ान भरने वाला अपोलो ११ नासा के अपोलो अभियान का पाँचवा मानवी मिशन व तीसरा चंद्र अभियान था। इसके कर्मीदल् के रूप में आर्मस्ट्रांग कमांडर व ऐल्ड्रिन लुनार माड्यूल पायलट और माइकल कॉलिन्स कमांड मॉड्युल पायलट थे। आर्मस्ट्रांग और ऐल्ड्रिन चंद्रमा पर ट्रैंक्विलिटी के सागर (Sea of Tranquillity) में उतरे और चाँद पर 21 जुलाई को कदम रखने वाले पहले इंसान बन गए। उनका लुनार मॉड्युल इगल 21 घंटे व 31 मिनट चाँद की प्रष्ठभूमी पर रहा और कॉलिन्स कमांड सर्विस मॉड्युल कोलंबिया में चाँद के उपर बने रहे। 24 जुलाई को तीनो अंतरिक्ष यात्री पृथ्वी पर प्रशांत महासागर में उतरे और अपने साथ 21.5 किलोग्राम के चाँद के नमूने लाए।

अपोलो ११ ने अमेरिकी राष्ट्रपती जॉन एफ़. केनेडी का चाँद पर सोवियत युनिन से पहले उतरने का सपना साकार कर दिया जिसकी उन्होने 1961 में गुज़ारिश की थी।

इसके बाद 1969 से 1972 के दरमियां छः अपोलो मिशन चाँद पर भेजे गए जिसमें से पाँच चाँद पर उतरे में सक्षम रहे।

कर्मिदल[संपादित करें]

औहदा अंतरिक्षयात्री
कमांडर नील आर्मस्ट्रांग
दूसरी अंतरिक्ष उड़ान
कमांड मॉड्युल पायलट माइकल कॉलिन्स
दूसरी अंतरिक्ष उड़ान
लुनार मॉड्युल पायलट ऐडविन "बज़" ऐल्ड्रिन. जुनियर
दूसरी अंतरिक्ष उड़ान