अग्नाशयशोथ

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
Pancreatitis
{{{other_name}}}
वर्गीकरण एवं बाह्य साधन
आईसीडी-१० K85., K86.0-K86.1
आईसीडी- 577.0-577.1
ओएमआईएम 167800
डिज़ीज़-डीबी 24092
ईमेडिसिन emerg/354 
एम.ईएसएच D010195

अग्नाशयशोथ अग्नाशय का सूजन है जो दो बिलकुल ही अलग रूपों में उत्पन्न होता है. एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस (तीव्र अग्नाशयशोथ) अचानक होता है जबकि क्रोनिक पैन्क्रियाटाइटिस की विशेषता "वसा पदार्थ के अधिक बहाव या मूत्रमेह के साथ या बिना बार-बार या निरंतर होने वाला पेट दर्द है."[1]

लक्षण और संकेत[संपादित करें]

पीठ में विकिरण चिकित्सा करने पर पेट (उदर) के ऊपरी हिस्से में तेज दर्द होना अग्नाशयशोथ की पहचान है. मिचली और उल्टी आना (वमन) प्रमुख लक्षण हैं. शारीरिक जांच के निष्कर्षों में अग्नाशयशोथ की तीव्रता के आधार पर अंतर पाया जाएगा, और हो या नहीं हो यह महत्वपूर्ण आंतरिक रक्तस्राव के साथ जुड़ा हुआ है. रक्तचाप उच्च (जब दर्द अधिक होता है) या निम्न (यदि आंतरिक रक्तस्राव या निर्जलीकरण उत्पन्न हुआ है) हो सकता है. आमतौर पर, ह्रदय की गति और श्वसन की दर दोनों बढ़ जाते हैं. आमतौर पर उदर संबंधी पीड़ा होती है लेकिन वह मरीज के पेट दर्द के परिमाण की तुलना में अपेक्षित रूप से कम गंभीर होती है. प्रतिवर्त आंत्र पक्षाघात के प्रतिबिम्बन (अर्थात आन्त्रावरोध) के रूप में, जिसके साथ उदर (पेट) संबंधी कोई संकट हो सकता है, आंत्र संबंधी ध्वनियों को कम किया जा सकता है.

कारण[संपादित करें]

शराब का अत्यधिक सेवन क्रोनिक पैन्क्रियाटाइटिस का सबसे आम कारण है[2][3][4][5] जबकि पित्त पथरी एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस का का सबसे आम कारण है.[6] कम आम कारणों में शामिल हैं - रक्त में ट्राइग्लिसेराइड की अधिकता (लेकिन रक्त में कोलेस्टेरॉल की अधिकता नहीं) और केवल जब ट्राइग्लिसेराइड का मान 1500 मिलीग्राम प्रति डेसीलिटर (16 मिलिमोल्स प्रति लीटर),रक्त में कैल्शियम की अधिकता, जीवाणु संबंधी संक्रमण (उदाहरण के लिए गलसुआ), आघात (पेट या शारीर के अन्य हिस्से में) जिसमें उत्तर-ईआरसीपी (अर्थात अंत:दर्शन प्रतिगामी पित्त वाहिनी संबंधी अग्नाशयचित्रण), वाहिका शोथ (अर्थात अग्नाशय के भीतर छोटी रक्त वाहिकाओं का सूजन) और स्व-प्रतिरक्षी अग्नाशयशोथ शामिल हैं. गर्भावस्था से भी अग्नाशयशोथ उत्पन्न हो सकता है, लेकिन कुछ स्थितियों में अग्नाशयशोथ का विकास संभवत: रक्त में केवल ट्राइग्लिसेराइडों की अधिकता की अभिव्यक्ति होती है जो अक्सर गर्भवती महिलाओं में होती है. अग्नाशय की एक आम जन्मजात विकृति, पैन्क्रियास डिविसम, में बार-बार होने वाले अग्नाशयशोथ के कुछ कारण निहित हो सकते हैं. अग्नाशयशोथ बच्चों के बीच कम आम बात है.

ऊपर उल्लिखित, अग्नाशयशोथ के अधिक साधारण, लेकिन कहीं अधिक सामान्य कारणों पर हमेशा सबसे पहले विचार किया जाना चाहिए.[मूल शोध?] हालांकि, कई औषधियों, हार्मोनों, अल्कोहल, रासायनिक पदार्थों की ज्ञात पोर्फाइरीन संबंधी लघुता और पोर्फाइरीनता का स्व-प्रतिरक्षी विकारों एवं पित्त पथरी के साथ सहयोग रक्त संबंधी विकारों के रोग निदान को नहीं छोड़ते हैं जब इन व्याख्याओं का उपयोग किया जाता है. चयापचय में एक अंतर्निहित जन्मजात दोष सहित एक प्राथमिक चिकित्सा संबंधी विकार एक द्वितीयक चिकित्सा संबंधी समस्या या व्याख्या का स्थान ले लेता है. जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, अग्नाशयशोथ बच्चों में कम आम बात है लेकिन पाए जाने पर, उदर (पेट) संबंधी गड़बड़ी पर संदेह करना चाहिए.

शायद ही कभी, पथरी अग्नाशय या उसकी वाहिनियों में अवरोध पैदा कर सकता है या उसमें ठहर सकता है. उपचार में अंतर होता है लेकिन इसका उद्देश्य अवश्य ही कष्ट देने वाली पथरी को हटाना है. इसे गुहान्तदर्शी के प्रयोग के द्वारा, शल्य चिकित्सा के द्वारा, या ईएसडब्ल्यूएल (ESWL) के प्रयोग के द्वारा भी निष्पादित किया जा सकता है.[7]

स्व-प्रतिरक्षी विकार, लाइपिड (वसासम) विकार, पित्ताशय की पथरी, औषधि संबंधी प्रतिक्रियाएं और खुद अग्नाशयशोथ चिकित्सा संबंधी प्राथमिक विकार नहीं हैं.

यह ध्यान देने योग्य है कि अग्नाशय का कैंसर शायद ही कभी अग्नाशयशोथ का कारण बनता है.[कृपया उद्धरण जोड़ें]

टाइप 2 मधुमेह से प्रभावित मरीजों में गैर मधुमेह मरीजों की तुलना में अग्नाशयशोथ होने का 2.8 गुना अधिक खतरा होता है.[8] यदि मधुमेह से प्रभावित व्यक्ति मिचली और उल्टी के साथ या उसके बिना उदर संबंधी गंभीर अस्पष्ट दर्द का अनुभव करते हैं तो उन्हें शीघ्र चिकित्सा संबंधी सहायता लेनी चाहिए.[9]

एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस के कुछ कारणों को संक्षिप्त रूप (परिवर्णी शब्द) आई गेट स्मैश्ड (I GET SMASHED) के द्वारा याद किया जा सकता है.[10]

I diopathic (किसी अनजाने कारण से उत्पन्न दशा);

G allstones (पित्त की पथरी); E thanol (इथेनॉल); T rauma (चोट या आघात);

S teroids (स्टेरॉइड); M umps (गलसुआ); A utoimmune (स्व-प्रतिरक्षी); S corpion sting (बिच्छु का डंक); H ypercalcaemia, hypertriglyceridaemia, hypothermia (कैल्शियम की अधिकता, ट्राइग्लिसेराइड की अधिकता, अल्पतप्तता); E RCP (ईआरसीपी); D rugs e.g., azathioprine, diuretics (औषधियां जैसे कि, एजैथियोप्राइन, मूत्रस्राववर्द्धक औषधियां);

पोर्फाईरिया[संपादित करें]

एक्यूट यकृत संबंधी पोर्फाईरिया, जिसमें एक्यूट सविरामी पोर्फाईरिया शामिल हैं, आनुवंशिक कोप्रोपोर्फाईरिया और वैराइजेट पोर्फाईरिया, आनुवंशिक विकार हैं जिनका संबंध एक्यूट और क्रोनिक पैन्क्रियाटाइटिस दोनों से बताया जा सकता है. एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस एरिथ्रोपॉयटिक प्रोटोपोर्फाईरिया के साथ भी हो चुकी है.

आंत की मांशपेशियों में गड़बड़ी, मरीजों में अग्नाशयशोथ होने की संभावना को बढ़ा देता है. इसमें वंशागत प्रमस्तिष्कामेरू–तन्त्र एवं तन्त्रिका–तन्त्र संबंधी पोर्फाईरिया और संबंधित चयापचय संबंधी विकार शामिल हैं. अल्कोहल, हार्मोन एवं स्टैटिन सहित कई औषधियों को पोर्फाईरिया उत्पादक अभिकारक कहा जाता है. चिकित्सकों को अग्नाशयशोथ के मरीजों में अंतर्निहित पोर्फाईरिया के प्रति सावधान रहना चाहिये और विकारों को सक्रिय करने वाली किसी भी औषधियों की जांच करनी चाहिए और उनका प्रयोग छोड़ देना चाहिये.

फिर भी, अग्नाशयशोथ में उनकी संभावित भूमिका के बावजूद, पोर्फाईरिया (एक समूह या व्यक्ति के रूप में) दुर्लभ विकार माने जाते हैं. हालांकि, विश्व जनसंख्या में अप्रकट प्रमुख रूप से वंशागत पोर्फाईरिया की वास्तविक घटना का निर्धारण करने के लिए कोई व्यवस्थित अध्ययन नहीं हैं, वहां पोर्फाईरिया पाये जाने वाले परिवारों में क्लासिक पाठ्यपुस्तक के लक्षणों के समान अप्रकटतता की उच्च दरों वाले डीएनए (DNA) या एंजाईम के प्रमाण मिले हैं और सभी अप्रकट पोर्फाईरिया का पता लगाने के लिए तकनीक का विकास नहीं किया गया है, अल्परक्तकणरंजक को प्रभावित करने वाली चयापचय संबंधी अन्तर्निहित गड़बड़ी को अग्नाशयशोथ में नियमित रूप से नहीं हटाना चाहिए.

अल्कोहल की अधिक मात्रा

औषधियां[संपादित करें]

कई औषधियों को अग्नाशयशोथ का कारण बताया गया है. उनमें से कुछ आम औषधियों में एड्स की औषधियां डीडीआई (DDI) और पेन्टामिडाइन, मूत्रस्राववर्द्धक औषधियां जैसे कि फ्यूरोसेमाइड और हाइड्रोक्लोरोथायज़ाइड, आक्षेपरोधी औषधियां जैसे कि डाइवैल्प्रोएक्स सोडियम एवं वैल्प्रोइक अम्ल, रसायन-चिकित्सा से संबंधी अभिकर्ता एल-एस्पेरैजाइनेज एवं एज़ैथियोप्राइन, और एस्ट्रोजेन शामिल हैं. जैसा कि गर्भावस्था से जुड़े अग्नाशयशोथ के समान ही, रक्त में ट्राइग्लिसेराइड के स्तरों में वृद्धि लाने में इसके प्रभावों के कारण एस्ट्रोजेन विकार उत्पन्न हो सकता है. 1990 के आरंभ से चिकित्सा संबंधी साहित्य में स्टैटिन के कारण अग्नाशयशोथ होने के मामले सामने आने लगे. कहा जाता है कि वर्तमान में उपयोग में आने वाले सभी स्टैटिन अग्नाशयशोथ उत्पन्न कर सकते हैं, यह एक आश्चर्य की बात नहीं है जब कोई व्यक्ति यह सोचता है कि सभी स्टैटिन रिडक्टेस अवरोधक होते हैं और उनमें उसी प्रकार के पक्षीय प्रभाव होने की अपेक्षा की जाती है.

आनुवंशिकी[संपादित करें]

वंशानुगत अग्नाशयशोथ एक आनुवंशिक असामान्यता के कारण हो सकता है जो अग्नाशय के भीतर ट्रिप्सिनोजेन को सक्रिय बना देता है, जो बदले में भीतर से अग्नाशय का पाचन करता है.

अग्नाशय संबंधी बीमारियां प्रत्यक्ष रूप से जटिल प्रक्रियाएं होती हैं जो विविध आनुवंशिक, पर्यावरण संबंधी और चयापचय संबंधी कारकों की पारस्परिक क्रिया से उत्पन्न होती हैं.

आनुवंशिक परीक्षण के लिए तीन व्यक्ति वर्त्तमान में जांच के अधीन हैं:

विषाणु संक्रमण[संपादित करें]

विषाणु अग्नाशय में गहरा सूजन पैदा कर सकते हैं और उसे नष्ट कर सकते हैं. यह कॉक्ससैकिवायरस समूह के कई विषाणुओं के लिए सही साबित होता है.

रोग निदान[संपादित करें]

अग्नाशयशोथ के लिए नैदानिक मानदंड हैं "निम्नलिखित तीन विशेषताओं में से दो: 1) एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस की पेट दर्द संबंधी विशेषता, 2) सीरम एमाइलेज और/या लाइपेज ≥ 3 सामान्य अवस्था की ऊपरी सीमा की तीन गुनी, और 3) सीटी स्कैन पर एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस का विशिष्ट निष्कर्ष.[12]

प्रयोगशाला संबंधी परीक्षण[संपादित करें]

प्रायः एमाइलेज और/या लाइपेज की माप की जाती है, और अग्नाशयशोथ होने पर, अक्सर एक या दोनों, बढ़े हुए होते हैं. दो अभ्यास दिशा निर्देश कहते हैं:

It is usually not necessary to measure both serum amylase and lipase. Serum lipase may be preferable because it remains normal in some nonpancreatic conditions that increase serum amylase including macroamylasemia, parotitis, and some carcinomas. In general, serum lipase is thought to be more sensitive and specific than serum amylase in the diagnosis of acute pancreatitis".[12]
Although amylase is widely available and provides acceptable accuracy of diagnosis, where lipase is available it is preferred for the diagnosis of acute pancreatitis (recommendation grade A)".[13]

अधिकांश,[14][15][16][17][18] लेकिन सभी व्यक्तिगत अध्ययन नहीं,[19][20] लाइपेज की श्रेष्ठता का समर्थन करते हैं. एक बड़े अध्ययन में, अग्नाशयशोथ के ऐसे कोई भी मरीज नहीं थे जिनमें सामान्य लाइपेज के साथ-साथ एक बढ़ा हुआ एमाइलेज था.[14] एक अन्य अध्ययन में पाया गया कि एमाइलेज लाइपेज को एक निदानात्मक महत्व प्रदान कर सकता है, लेकिन केवल तभी जब दो परीक्षणों के परिणामों को एक विभेदक कार्य वाले समीकरण में सम्मिश्रित किया जाए.[21]

अग्नाशयशोथ के सिवाय अन्य स्थितियों के कारण इन एंजाइमों में वृद्धि हो सकती है जो अग्नाशयशोथ के समान होती हैं (उदाहरण पित्ताशय शोथ, छिद्रमय अल्सर, आंत संबंधी रोधगलन (अर्थात रक्त की अपर्याप्त आपूर्ति के कारण मृत आंत), और यहां तक कि मधुमेह संबंधी कीटोन की अधिकता से होने वाली अम्ल रक्तता.

चित्रण (इमेजिंग)[संपादित करें]

हालांकि अल्ट्रासाउंड इमेजिंग और पेट के सीटी स्कैन का उपयोग अग्नाशयशोथ के निदान कि पुष्टि करने के लिए किया जा सकता है, दोनों में से कोई भी आमतौर पर प्राथमिक नैदानिक साधन के रूप में जरूरी नहीं होता है.[22] . इसके अलावा, सीटी चित्रण संबंधी अंतर अग्नाशयशोथ को बढ़ा सकता है,[23] यद्यपि इस संबंध में विवाद है.[24] एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस को देखें.

उपचार[संपादित करें]

निश्चित रूप से अग्नाशयशोथ का उपचार स्वयं अग्नाशयशोथ की गंभीरता पर निर्भर करता है. फिर भी, सामान्य सिद्धांत लागू होते हैं और इसमें शामिल हैं:

  1. दर्द राहत का प्रावधान. एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस के लिए पसंदीदा दर्द नाशक औषधि मॉर्फिन है. पहले, अधिमान्य ढ़ंग से मेपिरीडाइन (डेमेरॉल) के द्वारा दर्द से राहत प्रदान की जाती थी, लेकिन अब इसे किसी मादक दर्द नाशक औषधि से बेहतर नहीं माना जाता है. वास्तव में, मेपिरीडाइन की आम तौर निम्न दर्दनाशक विशेषताओं और इसकी उच्च संभाव्य विषाक्तता के कारण, अग्नाशयशोथ के दर्द के उपचार में इसका प्रयोग नहीं किया जाना चाहिए.
  2. तरल पदार्थों एवं लवणों के पर्याप्त प्रतिस्थापन की व्यवस्था (अंत: शिरात्मक रूप से).
  3. मौखिक सेवन की सीमा (सबसे महत्वपूर्ण बिंदु आहार संबंधी वसा प्रतिबंध के साथ). एनजी (NG) ट्यूब के माध्यम से भोजन देना अग्नाशय संबंधी उत्तेजना एवं आंत संबंधी सूक्ष्म जीवाणु द्वारा संभावित संक्रमण संबंधी समस्याओं से बचने की पसंदीदा विधि है.
  4. ऊपर उल्लिखित विभिन्न समस्याओं के उपचार के लिए उनकी निगरानी और मूल्यांकन.
  5. पित्त की पथरी संबंधी अग्नाशयशोथ होने पर ईसीआरपी (ERCP)

जब परिणामस्वरूप परिगलनकारी अग्नाशयशोथ होता है और मरीज में संक्रमण के संकेत मिलते हैं, तो अग्नाशय में औषधि की गहरी पहुंच के कारण इमीपेनिम जैसी प्रतिजैवी औषधियों का इस्तेमाल शुरू करना अति आवश्यक होता है. मेट्रोनिडाज़ोल के साथ फ्लोरोक्विनोलोन का प्रयोग अन्य उपचार विकल्प है.

पूर्वानुमान[संपादित करें]

अग्नाशयशोथ के हमले की तीव्रता का अनुमान करने में सहायता करने के लिए विभिन्न अंक प्रणालियों का इस्तेमाल किया जाता है. ग्लासगो मानदंड एवं रैनसन मानदंड के लिए 48 घंटे बाद के विपरीत अपाचे II (APACHE II) में स्वीकृति के समय उपलब्ध रहने का लाभ है. हालांकि, ग्लासगो मानदंड और रैनसन मानदंड का उपयोग करना अधिक आसान है.

अपाचे II (APACHE II)[संपादित करें]

रैनसन मापदंड[संपादित करें]

प्रवेश के समय:

  1. वर्ष में उम्र>55 वर्ष
  2. श्वेत रक्त कोशिकाओं की संख्या>16000/एमसीएल(mcL)
  3. रक्त शर्करा 11 मिली मोल प्रति लीटर (mmol/L) (>200 मिग्रा/डेली)
  4. सीरम एएसटी (AST)>250 आईयू/एल (IU/L)
  5. सीरम एलडीएच (LDH)>350 आईयू/ली (IU/L)

48 घंटे के बाद:

  1. दिए हुए रक्त में लाल रक्त कोशिकाओं की आयतन प्रतिशतता में कमी >11.3444%
  2. IV तरल पदार्थ के जलयोजन के बाद रक्त यूरिया नाइट्रोजन (BUN) में वृद्धि 1.8 या अधिक मिलिमोल प्रति लीटर (5 या अधिक मिग्रा/डेली)
  3. अल्पकैल्सियमरक्तता (सीरम कैल्शियम<2.0 मिलिमोल प्रति लीटर (<8.0 मिग्रा/डेली))
  4. रक्त का अपर्याप्त ऑक्सीकरण (PO2 <60 mmHg)
  5. आधार में कमी> 4 मिली समतुल्य प्रति लीटर Meq/L
  6. द्रव का अनुमानित पृथक्करण> 6 ली

बिंदु कार्य के लिए मानदंड है कि उस 48 घंटे की अवधि के दौरान कभी भी एक निश्चित ब्रेकपाइंट प्राप्त किया जा सकता है, जिससे कुछ स्थितियों में प्रवेश के बाद शीघ्र ही इसकी गणना की जा सकती है. यह दोनों पित्त संबंधी और अल्कोहल संबंधी अग्नाशयशोथ दोनों के लिए लागू है.

व्याख्या[संपादित करें]

  • यदि अंक स्कोर ≥ 3, गंभीर अग्नाशयशोथ की संभावना होती है.
  • यदि अंक <3, तो गंभीर अग्नाशयशोथ की संभावना नहीं होती है.

या

  • स्कोर 0-2: 2% मृत्यु दर
  • 3 से 4 स्कोर: 15% मृत्यु दर
  • स्कोर 5 से 6: 40% मृत्यु दर
  • स्कोर 7 से 8 100% मृत्यु दर

ग्लासगो मापदंड[संपादित करें]

ग्लासगो मापदंड:[25] मूल प्रणाली में 9 आंकड़ा तत्व का प्रयोग किया गया. इसे बाद में 8 आंकड़ा तत्वों में परिवर्तित कर दिया गया, जिसके साथ पारएमीनेज स्तरों (100 यू/एल (U/L) से अधिक एएसटी (एसजीओटी) या एएलटी (एसजीपीटी)) के लिए मूल्यांकन को समाप्त कर दिया गया.

प्रवेश के समय

  1. उम्र > 55 वर्ष
  2. श्वेत रक्त कोशिका (डब्ल्यूबीसी/WBC) की मात्रा > 15 x109/ली
  3. रक्त शर्करा > 200 मिग्रा/डेली (मधुमेह का कोई इतिहास नहीं)
  4. सीरम यूरिया > 16 मिली मोल/ली (mmol/L) (IV तरल पदार्थों के प्रति कोई प्रतिक्रिया नहीं)
  5. धमनीय ऑक्सीजन संतृप्ति < 76 mmHg

48 घंटों के भीतरः

  1. सीरम कैल्शियम <2 मिली मोल/ली (mmol/L)
  2. सीरम एल्बुमिन <34 ग्राम/ली (g/L)
  3. एलडीएच (LDH)> 219 इकाइयां/ली (units/L)
  4. एएसटी (AST)/एएलटी (ALT) > 96 इकाइयां/ली (units/L)

जटिलताएं[संपादित करें]

अग्नाशयशोथ की तीव्र (प्रारंभिक) जटिलताओं में शामिल हैं

  • सदमा,
  • निम्नकैल्सियमरक्तता (रक्त में कैल्सियम की कमी),
  • उच्च रक्त शर्करा,
  • निर्जलीकरण, और गुर्दे की विफलता (अपर्याप्त रक्त की मात्रा के कारण, जो बदले में, उल्टी के कारण तरल पदार्थ की हानि, आंतरिक रक्तस्राव, या अग्नाशय के सुजन के प्रतिक्रियास्वरूप उदर गुहा में रक्त संचार से तरल पदार्थ का रिसाव, एक घटना जिसे थर्ड स्पेसिंग कहा जाता है).
  • श्वसन संबंधी जटिलताएं प्राय: होती हैं और वे अग्नाशयशोथ की घातकता के प्रमुख योगदानकर्ता होते हैं. कुछ परिमाण में फुफ्फुस बहाव अग्नाशयशोथ में प्रायः सर्वव्यापक होता है. पेट दर्द के कारण उत्पन्न होने होने वाले फेंफड़े में निम्न श्वसन-क्रिया के परिणामस्वरूप फेंफड़े का कुछ हिस्सा या सम्पूर्ण फेंफड़े की विफलता (फुफ्फुसपात) हो सकता है. अग्नाशय संबंधी एंजाइमों द्वारा फेंफड़े को प्रत्यक्ष रूप से नुकसान पहुंचाने, या शरीर के साथ किसी प्रकार की व्यापक छेड़छाड़ (अर्थात एआरडीएस (ARDS) या एक्यूट रेस्पिरेटरी डिस्ट्रेस सिन्ड्रॉम) के प्रति अंतिम आम मार्ग प्रतिक्रया के फलस्वरूप फुफ्फुसशोथ (फेंफड़े का प्रदाह) उत्पन्न हो सकता है.
  • इसी तरह, एसआईआरएस (SIRS) (सिस्टमेटिक इंफ्लैमेटरी रिस्पॉन्स सिन्ड्रॉम) हो सकता है.
  • बीमारी के दौरान किसी भी समय अग्नाशय के सूजन वाले संस्तर का संक्रमण हो सकता है. वास्तव में, गंभीर रक्तस्रावी अग्नाशयशोथ की स्थितियों में, एक निरोधक उपाय के रूप में प्रतिजैविक औषधियां दी जानी चाहिए.

बाद में होने वाली जटिलताएं[संपादित करें]

बाद में होने वाली जटिलताओं में बार-बार होने वाला अग्नाशयशोथ और अग्नाशय के चारों ओर तरल पदार्थों का जमाव होना शामिल हैं. अग्नाशय के चारों ओर तरल पदार्थों का जमाव अनिवार्य रूप से अग्नाशय संबंधी स्रावों का जमाव है जो चारों तरफ घाव के निशानों एवं प्रदाहदायी उतक की दीवार से घिरा रहता है. अग्नाशय के चारों ओर तरल पदार्थों के जमाव से उसमें दर्द उत्पन्न हो सकता है, वह संक्रमित हो सकता है, उसमें फटन और रक्तस्राव हो सकता है, वह पित्त नली जैसी संरचनाओं पर दवाब दाल सकता है या उसे अवरुद्ध कर सकता है, जिसके कारण पीलिया हो सकता है, और वह पेट के चारों ओर प्रवास भी कर सकता है.

अग्नाशयी फोड़ा[संपादित करें]

अग्नाशयी फोड़ा परिगलनकारी अग्नाशयशोथ के परिणामस्वरूप होने वाली परवर्ती जटिलता है, जो आरंभिक हमले के 4 हफ्तों के प्रारंभिक हमले के बाद होती है. अग्नाशयी फोड़ा उतक के परिगलन के फलस्वरूप उत्पन्न मवाद का जमाव, द्रवीकरण, और संक्रमण है. अनुमान है कि एक्यूट पैन्क्रियाटाइटिस से पीड़ित लगभग 3% मरीजों में फोड़ा विकसित होगा.[26]

बल्थाज़र और रैनसन के एक्स-रे चित्रण संबंधी मापदंड के अनुसार, एक सामान्य अग्नाशय वाले मरीजों में, जिनमें विस्तार नाभीय या व्याप्त होता है, अग्नाशय के चारों ओर हल्का सूजन या तरल पदार्थ का एकल जमाव (अग्नाशय के चारों ओर तरल पदार्थों का जमाव) होता है, फोड़ा विकसित होने की 2% से कम संभावना होती है. हालांकि, अग्नाशय के चारों ओर तरल पदार्थों के दो जमावों वाले और अग्नाशय के भीतर लगभग 60% गैस वाले मरीजों में फोड़ा होने की संभावना बढ़ कर लगभग 60% हो जाती है.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. National Library of Medicine. "Pancreatitis, Chronic". http://www.nlm.nih.gov/cgi/mesh/2007/MB_cgi?mode=&term=CHRONIC+PANCREATITIS. अभिगमन तिथि: 2007-08-30. 
  2. http://www.medscape.com/viewarticle/706319
  3. http://www.sciencedaily.com/releases/2009/06/090608162430.htm
  4. http://www.betterhealth.vic.gov.au/bhcv2/bhcarticles.nsf/pages/pancreatitis_explained?opendocument
  5. http://www.ncbi.nlm.nih.gov/pmc/articles/PMC1379177/pdf/gut00592-0159.pdf
  6. http://www.umm.edu/altmed/articles/pancreatitis-000122.htm
  7. मकालुसो जेएन: सम्पादकीय टिप्पणी: ओब्स्ट्रकटिंग पैन क्रीएटिक कैल्कुली के लिए रे एस्वल (ESWL). मूत्रविज्ञान के जर्नल, खंड 158, #2, 522-525, अगस्त 1997
  8. http://care.diabetesjournals.org/content/32/5/834.abstract
  9. http://www.fda.gov/CDER/Drug/InfoSheets/HCP/exenatide2008HCP.htm
  10. पेज 584, नैदानिक चिकित्सा की ऑक्सफ़ोर्ड हैंडबुक, 7थ संस्करण, ISBN 978-0-19-856837-7
  11. D. Whitcomb (2006). "Genetic Testing for Pancreatitis". http://www.touchalimentarydisease.com/articles.cfm?article_id=6374&level=2. 
  12. Banks P, Freeman M (2006). "Practice guidelines in acute pancreatitis". Am J Gastroenterol 101 (2379–400): 2379–400. doi:10.1111/j.1572-0241.2006.00856.x. PMID 17032204. 
  13. UK Working Party on Acute Pancreatitis (2005). "UK guidelines for the management of acute pancreatitis". Gut 54 Suppl 3: iii1. doi:10.1136/gut.2004.057026. PMC 1867800. PMID 15831893. http://gut.bmj.com/cgi/content/full/54/suppl_3/iii1. 
  14. Smith RC, Southwell-Keely J, Chesher D (June 2005). "Should serum pancreatic lipase replace serum amylase as a biomarker of acute pancreatitis?". ANZ J Surg 75 (6): 399–404. doi:10.1111/j.1445-2197.2005.03391.x. PMID 15943725. http://www.blackwell-synergy.com/openurl?genre=article&sid=nlm:pubmed&issn=1445-1433&date=2005&volume=75&issue=6&spage=399. 
  15. Treacy J, Williams A, Bais R, et al. (October 2001). "Evaluation of amylase and lipase in the diagnosis of acute pancreatitis". ANZ J Surg 71 (10): 577–82. doi:10.1046/j.1445-2197.2001.02220.x. PMID 11552931. http://www.blackwell-synergy.com/openurl?genre=article&sid=nlm:pubmed&issn=1445-1433&date=2001&volume=71&issue=10&spage=577. 
  16. Steinberg WM, Goldstein SS, Davis ND, Shamma'a J, Anderson K (May 1985). "Diagnostic assays in acute pancreatitis. A study of sensitivity and specificity". Ann. Intern. Med. 102 (5): 576–80. PMID 2580467. 
  17. Lin XZ, Wang SS, Tsai YT, et al. (February 1989). "Serum amylase, isoamylase, and lipase in the acute abdomen. Their diagnostic value for acute pancreatitis". J. Clin. Gastroenterol. 11 (1): 47–52. PMID 2466075. 
  18. Keim V, Teich N, Fiedler F, Hartig W, Thiele G, Mössner J (January 1998). "A comparison of lipase and amylase in the diagnosis of acute pancreatitis in patients with abdominal pain". Pancreas 16 (1): 45–9. doi:10.1097/00006676-199801000-00008. PMID 9436862. http://meta.wkhealth.com/pt/pt-core/template-journal/lwwgateway/media/landingpage.htm?issn=0885-3177&volume=16&issue=1&spage=45. 
  19. Ignjatović S, Majkić-Singh N, Mitrović M, Gvozdenović M (November 2000). "Biochemical evaluation of patients with acute pancreatitis". Clin. Chem. Lab. Med. 38 (11): 1141–4. doi:10.1515/CCLM.2000.173. PMID 11156345. 
  20. Sternby B, O'Brien JF, Zinsmeister AR, DiMagno EP (December 1996). "What is the best biochemical test to diagnose acute pancreatitis? A prospective clinical study". Mayo Clin. Proc. 71 (12): 1138–44. doi:10.4065/71.12.1138. PMID 8945483. 
  21. Corsetti J, Cox C, Schulz T, Arvan D (1993). "Combined serum amylase and lipase determinations for diagnosis of suspected acute pancreatitis". Clin Chem 39 (12): 2495–9. PMID 7504593. 
  22. Fleszler F, Friedenberg F, Krevsky B, Friedel D, Braitman L (2003). "Abdominal computed tomography prolongs length of stay and is frequently unnecessary in the evaluation of acute pancreatitis". Am J Med Sci 325 (5): 251–5. doi:10.1097/00000441-200305000-00001. PMID 12792243. 
  23. McMenamin D, Gates L (1996). "A retrospective analysis of the effect of contrast-enhanced CT on the outcome of acute pancreatitis". Am J Gastroenterol 91 (7): 1384–7. PMID 8678000. 
  24. Hwang T, Chang K, Ho Y (2000). "Contrast-enhanced dynamic computed tomography does not aggravate the clinical severity of patients with severe acute pancreatitis: reevaluation of the effect of intravenous contrast medium on the severity of acute pancreatitis". Arch Surg 135 (3): 287–90. doi:10.1001/archsurg.135.3.287. PMID 10722029. 
  25. Corfield AP, Cooper MJ, Williamson RC, et al. (1985). "Prediction of severity in acute pancreatitis: prospective comparison of three prognostic indices". Lancet 2 (8452): 403–7. doi:10.1016/S0140-6736(85)92733-3. PMID 2863441. 
  26. ""Pancreatic abscess"". http://emedicine.medscape.com/article/181264-overview. अभिगमन तिथि: 2010/04/19. 

राष्ट्रीय अग्नाशय फाउंडेशन. अप्रैल, 2010 के अंत तक बड़ी संख्या में फोरमों, ब्लॉगों, नवीनतम सूचनाओं वाली एक नए वेबसाइट की शुरुआत की जा रही है. [1]

बाहरी लिंक[संपादित करें]