ABC विश्लेषण

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

ABC विश्लेषण सामग्री प्रबंधन में प्रायः इस्तेमाल होने वाले वस्तु-सूची के वर्गीकरण तकनीक को परिभाषित करने के लिए इस्तेमाल किया जाने वाला एक व्यवसायिक शब्द है.


ABC विश्लेषण वस्तुओं की पहचान करने वाली क्रियावली प्रदान करता है जिसका सभी वस्तु-सूची की लागत [1] पर एक महत्वपूर्ण प्रभाव होगा हालांकि यह विभिन्न प्रकार के स्टॉक या माल की पहचान करने वाली क्रियावली भी प्रदान करता है जिसे विभिन्न प्रबंधन व नियंत्रण [2] की आवश्यकता होगी.


जब ABC विश्लेषण किया जाता है, तब परिणामों के आधार पर वस्तु-सूची का मूल्य निर्धारित किया जाता है (वस्तु की लागत को अवधि में वितरित/खपत की मात्रा से गुणा करके) और तब इसे रैंक या स्थान प्रदान किया जाता है. परिणामों को तब आम तौर पर तीन बैंडों [3] या समूहों में वर्गीकृत किया जाता है. ये बैंड ABC कोड कहलाते हैं.


ABC कोड[संपादित करें]

  1. "A श्रेणी" वस्तु-सूची में आम तौर पर कुल मूल्य के 80%, या कुल मदों के 20% वस्तुएं होंगीं.
  2. "B श्रेणी" वस्तु-सूची में लगभग कुल मूल्य के 15%, या कुल मदों के 30% वस्तुएं होंगीं.
  3. "C श्रेणी" वस्तु-सूची में शेष 5%, या कुल मदों के 50% वस्तुएं होंगीं.


ABC विश्लेषण पैरेटो सिद्धांत के समान है जिसमें कुल मूल्य का एक बड़ा अंश आम तौर पर "A श्रेणी" समूह में आएगा लेकिन वस्तु-सूची की कुल मात्रा का एक छोटा सा प्रतिशत ही इसे मिल पाएगा. [4]


संदर्भ[संपादित करें]

  1. आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन के लिए विनिर्माण योजना व नियंत्रण प्रणाली; थॉमस ई. वॉलमन द्वारा
  2. http://www.supplychainmechanic.com/?p=46 वस्तु-सूची का ABC विश्लेषण कैसे किया जाये
  3. ओरेकल ई-बिजनेस सुइट विनिर्माण व आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन; बस्टिन जेराल्ड, निगेल किंग, डैन नैचेक द्वारा
  4. क्रय व आपूर्ति श्रृंखला प्रबंधन; केनेथ लाइसंस, ब्रायन फैरिंगटन द्वारा


इन्हें भी देखें[संपादित करें]

वस्तु-सूची
स्टॉक_मैनेजमेंट (माल_प्रबंधन)