2021 उत्तराखण्ड बाढ़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
2021 उत्तराखण्ड बाढ़
India UK.svg
भारत के भीतर उत्तराखंड राज्य
तिथि 7 फरवरी 2021
कारण अनपेक्षित
मृत्यु 38 मृत, 168 लापता[1]
संपत्ति हानि अभी अनुमानित नहीं
उत्तराखंड राज्य में अलकनंदा, धौलीगंगा और ऋषगंगा नदी घाटियों और नंदा देवी राष्ट्रीय उद्यान को दर्शाने वाला मानचित्र
गंगा के मुख्यद्वार: ऋषिगंगा (शीर्ष दाएं में नंदा देवी अभयारण्य से, पिघले पानी से निकलती है) धौलीगंगा, जो कि तपोवन के पास मिलती है; अलकनन्दा नदी, जो धौलीगंगा से विष्णुप्रयाग में मिलती है; और गंगा जिसकी मुख्य धारा देवप्रयाग से शुरू होती है, जहाँ अलकनंदा भागीरथी नदी से मिलती है।
नंदा देवी शिखर (बादल के पीछे) और आसपास के ग्लेशियर
विष्णुप्रयाग में धौलीगंगा और अलकनंदा नदियों का संगम
विस्तृत सर्वेक्षण के आधार पर ऋषिगंगा और धौलीगंगा नदी घाटियों को एक हाई-रेज मैप में दिखाया गया है।

2021 उत्तराखंड बाढ़ 7 फरवरी 2021 को भारत के उत्तराखंड राज्य के बाहरी गढ़वाल हिमालय में युनेस्को| की विश्व धरोहर स्थल,[2] नन्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान से शुरू हुई। [3] ऐसा माना जाता है कि यह भूस्खलन, हिमस्खलन या ग्लेशियल झील के बहने के कारण हुआ है।[4] इसके कारण चमोली जिले में बाढ़ की स्थिति बन गई, विशेष रूप से ऋषिगंगा नदी, धौलीगंगा नदी, और अलकनंदा -गंगा की प्रमुख नदीशीर्ष, में।[5][6] इस आपदा में कम से कम 38 लोगों के मारे जाने की पुष्टि की गई है और लगभग 168 लोग लापता हैं।

कारण[संपादित करें]

कुछ रिपोर्टो के अनुसार, संभवत: नन्दा देवी ग्लेशियर से एक भारी और ठोस हिस्सा, प्राकृतिक कारणों से टूटकर नीचे के ग्‍लेशियर पर गिर गया। इससे ग्‍लेशियर के टुकड़े-टुकड़े हो गए और चट्टान के मलबे के साथ मिल गए। इसके बाद चट्टान और बर्फ का वो मिश्रण तेज ढलान से 3 किलेामीटर तक नीचे रौंथी गधेरा धारा से टकराया। जब वह नदी से टकराया तो एक बांध जैसा स्ट्रक्चर बन गया और बर्फबारी की वजह से कुछ समय तक टिका रहा। बाढ़ से तीन दिन पहले तक, मौसम साफ रहा। जिससे जमा चट्टान और बर्फ का मिश्रण तेजी से पिघला और उस इलाके को चीरता हुआ तपोवन घाटी की तरफ बढ़ गया। रिपोर्ट के मुताबिक, इस बाढ़ में चट्टानें, पानी और बर्फ थी। चूंकि यह काफी भारी था इसलिए और ऊर्जा पैदा हुई जिससे बर्फ और पिघली और सैलाब का आकार बढ़ता चला गया।[7]

क्षति[संपादित करें]

सबसे अधिक प्रभावित स्थानों में से कुछ को दिखाने वाला मानचित्र: उत्तरी नंदादेवी ग्लेशियर, ऋषिगंगा नदी, धौलीगंगा नदी, रिनी / रेनी / रैनी गाँव [8], जोशीमठ

ऋषिगंगा नदी, धौलीगंगा नदी की एक सहायक नदी पर स्थित ऋषिगंगा परियोजना, काफी क्षतिग्रस्त हुई और परियोजना पर काम कर रहे 35 मजदूर लापता हैं।[9] उत्तराखंड के चमोली जिले में धौलीगंगा नदी में उफान आने से सबसे ज्यादा नुकसान हुआ है।[10] ऋषिगंगा और धौलीगंगा नदियों के संगम पर बना धौलीगंगा बांध (30°33′45″N 79°34′33″E / 30.56250°N 79.57583°E / 30.56250; 79.57583 पर) बाढ़ के पानी से बह गया। [11] [12] उत्तराखंड के मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत ने कहा कि बाढ़ ने एनटीपीसी के स्वामित्व वाली एक बहुत बड़ी पनबिजली परियोजना को प्रभावित किया, जिसमें लगभग 176 मजदूर उस परियोजना पर काम कर रहे थे, जिसमें दो सुरंगें थीं, जहाँ वे मजदूर फंस गए थे।[13] पुलिस के वरिष्ठ अधिकारियों ने मीडिया को बताया कि तपोवन क्षेत्र में एक पुल जो 13 गांवों से जुड़ा था, हिमस्खलन में बह गया है।[14]

बाढ़ की चपेट में आने वाले स्थानों में जोशीमठ, रिनी, नन्दा देवी राष्ट्रीय उद्यान, तपोवन विष्णुगढ़ जलविद्युत संयंत्र और श्रीधर प्रमुख हैं।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

राहत प्रयास[संपादित करें]

कई गांवों को पहले ही खाली करा दिया गया था क्योंकि अधिकारियों ने हरिद्वार और ऋषिकेश के कस्बों तक बाढ़ के पानी को रोकने के लिए नदी के नीचे बने दो बांधों को खोल दिया था।[15] बचाव अभियान में राष्ट्रीय आपदा अनुक्रिया बल (एनडीआरएफ) की 3 टीमों के साथ दो सी -130 जे सुपर हरक्यूलिस को तैनात किया गया है।[16] एनडीआरएफ के महानिदेशक के अनुसार, बचाव प्रयासों में 2 दिन लग सकते हैं।[17] आपातकालीन कर्मचारियों ने 16 श्रमिकों को बचाया, जो एक सुरंग के अंदर फंसे हुए थे। एक दूसरी सुरंग में और 35 से 40 मजदूरों के फंसे होने की सम्भावना है।[18] तपोवन विष्णुगाड जलविद्युत परियोजना स्थल, जो एनटीपीसी द्वारा बनाया जा रहा है, से 5 किमी नीचे की ओर, बचाव दल कम से कम 30 श्रमिकों को बचाने के लिए एक सुरंग में अपना रास्ता खोदने का प्रयास कर रहे हैं, जहां उनके फंसे होने की संभावना है।[19]

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

एनटीपीसी के तपोवन विष्णुगढ़ हाइड्रोपावर प्लांट में बचाव अभियान - सुरंग 1;

एनटीपीसी के तपोवन विष्णुगढ़ हाइड्रोपावर प्लांट में बचाव अभियान - सुरंग 2;

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Uttarakhand floods highlights: Death toll rises to 38; another flash flood from new Himalayan lake likely". deccanherald.com. 11 February 2021. अभिगमन तिथि 13 February 2021.
  2. "Nanda Devi and Valley of Flowers National Parks", India: Properties inscribed on the World Heritage List, UNESCO, अभिगमन तिथि 9 February 2021
  3. "Uttarakhand flood wreaks death, damage". The Indian Express. 8 February 2021. अभिगमन तिथि 8 February 2021.
  4. "India floods: Scores missing after glacier smashes Uttarakhand dam". BBC News (अंग्रेज़ी में). 7 February 2021. अभिगमन तिथि 7 February 2021.
  5. "Uttarakhand news live: Glacier bursts in Uttarakhand's Chamoli district". The Times of India (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 7 February 2021.
  6. "Glacier bursts in Uttarakhand's Chamoli district, causing flash flood in Dhauliganga: Highlights – Times of India". The Times of India (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 7 February 2021.
  7. "पहाड़ टूटा, ग्‍लेशियर पर गिरा और लाया तबाही... एक्‍सपर्ट्स से जानें क्‍यों आया सैलाब". Navbharat Times. अभिगमन तिथि 13 फरवरी 2021.
  8. "Node: Reni (7833070518)". OpenStreetMap (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 10 February 2021.
  9. Staff, Scroll. "Uttarakhand glacier burst: Over 100 missing, power plant damaged in Chamoli". Scroll.in (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 7 February 2021.
  10. Mashal, Mujib; Kumar, Hari (7 February 2021). "Glacier Bursts in India, Leaving More Than 100 Missing in Floods". The New York Times (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0362-4331. अभिगमन तिथि 7 February 2021.
  11. "Rishiganga hydro project, Tapovan dam washed away by glacier burst in Uttarakhand". Times Now. 8 February 2021. अभिगमन तिथि 8 February 2021.
  12. "Uttarakhand: Eleven dead after India glacier bursts dam". BBC News (अंग्रेज़ी में). 8 February 2021. अभिगमन तिथि 8 February 2021.
  13. CNN, Akanksha Sharma, Vedika Sud and Swati Gupta. "More than 150 missing and 14 dead as burst glacier triggers flash floods in India". CNN. अभिगमन तिथि 8 February 2021.
  14. "Uttarakhand glacier disaster: Fourteen dead after India glacier bursts dam". BBC News (अंग्रेज़ी में). 8 February 2021. अभिगमन तिथि 8 February 2021.
  15. "Glacier breaks in India's north; flood kills 9, 140 missing". AP NEWS. 7 February 2021. अभिगमन तिथि 7 February 2021.
  16. ANI. "Centre will extend all possible help to U'khand govt to tackle flood situation, says Amit Shah". BW Businessworld (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 7 February 2021.
  17. "Uttarakhand glacier disaster: Eighteen dead after India glacier bursts dam". BBC.com.
  18. "Uttarakhand: Eleven dead after India glacier bursts dam". BBC News (अंग्रेज़ी में). 8 February 2021. अभिगमन तिथि 8 February 2021.
  19. "26 dead, over 170 missing in India's Himalayan glacier disaster". www.aljazeera.com (अंग्रेज़ी में). Aljazeera. 8 February 2021.