2015 संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन
2015 Climate Conference, Paris (only text).jpg
तिथि 30 नवम्बर 2015 (2015-11-30)
12 दिसम्बर 2015 (2015-12-12)
स्थान ले बोर्गेट पेरिस, फ्राँस
Also known as सीओपी 21/सीएमपी 11
प्रतिभागी (पार्टिसिपेंट्स) यूएनएफसीसीसी के १९६ सदस्य देश
वेबसाइट Venue site
UNFCCC site

2015 संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन सम्मेलन, COP 21 या  CMP 11  पेरिस, फ़्रांस, 30 नवंबर से 12 दिसंबर 2015.को आयोजित किया गया था। यह जलवायु परिवर्तन पर 1992 के संयुक्त राष्ट्र संरचना सम्मेलन (यूएनएफसीसीसी) के लिए दलों की बैठक का 21 वां वार्षिक सत्र था और 1997 के क्योटो प्रोटोकॉल के लिए दलों की बैठक का 11वां सत्र था।[1]

पेरिस में दिसंबर 2015 सम्मेलन इतिहास में पहली बार दुनिया के सभी देशों द्वारा जलवायु परिवर्तन (पेरिस समझौते) को कम करने के तरीकों पर एक सार्वभौमिक समझौते को प्राप्त करने के लिए अपने उद्देश्य पर पहुंचा,[2] अगर यह कम से कम 55 देशों ,  जो वैश्विक ग्रीनहाउस उत्सर्जन के कम से कम 55 प्रतिशत प्रतिनिधित्व करते हैं को स्वीकृत, अनुमोदित या स्वीकार कर लिया जाता है तो कानूनी रूप से बाध्यकारी हो जाएगा,[3][4][5]और 2020 तक कार्यान्वित किया जाएगा।[6] आयोजन समिति के अनुसार मूल अपेक्षित परिणाम[7] था, औद्योगिक युग से पहले की तुलना में, 2100 तक  ग्लोबल वार्मिंग को 2 डिग्री सेल्सियस से नीचे सीमित करना। जलवायु परिवर्तन 2009 संयुक्त राष्ट्र के अंतर सरकारी पैनल में शोधकर्ताओं ने इस बात पर सहमति व्यक्त की थी कि इन गंभीर जलवायु आपदाओं से बचने के लिए यह आवश्यक है, और बदले में इस तरह का परिणाम 2010 के साथ तुलना में 2050 तक ग्रीनहाउस गैस उत्सर्जन 40 और 70 प्रतिशत के बीच कम किया जाने की और 2100 में शून्य के स्तर तक पहुंचने आवश्यकता है।[8] यह लक्ष्य हालांकि पेरिस समझौते की औपचारिक रूप से स्वीकार अंतिम मसौदे ने पीछे छोड़ दिया जिस में 1.5 डिग्री सेल्सियस तक तापमान में वृद्धि को सीमित करने के प्रयासों को आगे बढ़ाने का इरादा भी है।[9]  ऐसे महत्वाकांक्षी लक्ष्य के लिए 2030 और 2050 के बीच उत्सर्जन में शून्य स्तर की आवश्यकता होगी।[2] हालांकि, उत्सर्जन के लिए कोई ठोस लक्ष्य पैरिश समझौते के अंतिम संस्करण में बयान नहीं किये गए।

सम्मेलन से पहले, 146 राष्ट्रीय जलवायु पैनलों ने सार्वजनिक रूप से  राष्ट्रीय जलवायु योगदान मसौदे (INDCs, तथाकथित राष्ट्रीय स्तर पर निर्धारित योगदान) प्रस्तुत  किये। इन प्रतिबद्धताओं से 2100 तक 2.7 डिग्री सेल्सियस तक ग्लोबल वार्मिंग को सीमित करने का अनुमान लगाया गया।[10] उदाहरण के लिए, यूरोपीय संघ की सुझाव दी गई  INDC 1990 की तुलना में 2030 तक उत्सर्जन में 40 प्रतिशत की कटौती करने के लिए एक प्रतिबद्धता है।[11] इस बैठक से पहले, 4 और 5 जून 2015 पर MedCop21 दौरान, एक विधानसभा में मार्सिले, फ्रांस में भूमध्य सागर में ग्लोबल वार्मिंग के बारे में बात की थी।एक पूर्व सीओपी बैठक दुनिया भर से पर्यावरण मंत्रियों के साथ 19, 23 अक्टूबर 2015 को, बॉन में आयोजित की गई थी।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

Shows the top 40 CO2 emitting countries and related in the world in 1990 and 2013, including per capita figures. The data is taken from the EU Edgar database.

आयोजन समिति के अनुसार, 2015 सम्मेलन का उद्देश्य, संयुक्त राष्ट्र वार्ता के 20 साल में पहली बार, दुनिया के सभी देशों से जलवायु पर एक बाध्यकारी और सार्वभौमिक समझौते को प्राप्त करना है।[12] Pope Francis Laudato si' नाम का एक encyclical प्रकाशित किया जिस का इरादा है, भाग में, सम्मेलन को प्रभावित करने का था। यह जलवायु परिवर्तन के खिलाफ कार्रवाई के लिए कहता है। इंटरनेशनल ट्रेड यूनियन परिसंघ का कहना है कि लक्ष्य 'शून्य कार्बन, शून्य गरीबी " होना चाहिए, और महासचिव शरण बिल ने दोहराया है कि  " एक मृत ग्रह पर कोई नौकरी न" होगी।

चीन और अमेरिका की भूमिका[संपादित करें]

विश्व पेंशन परिषद (डब्ल्यूपीसी) जैसे थिंक टैंक तर्क देते हैं कि सफलता की कुंजी है कि  अमेरिका और चीन के नीति निर्माताओं को समझाने में पड़ी है: "जब तक वाशिंगटन और बीजिंग में नीति निर्माता  अपनी सभी राजनीतिक पूंजी महत्वाकांक्षी कार्बन उत्सर्जन कैपिंग लक्ष्यों को अपना लेने नहीं जुटा देते, अन्य जी -20 सरकारों के प्रशंसनीय प्रयास "पवित्र इच्छाओं के दायरे में रह [...जाएँगे]”[13]

सम्मेलन, मध्य पेरिस में हुए आतंकवादी हमलों की एक श्रृंखला के दो सप्ताह के बाद हुई है।  देश भर में तैनात 30,000 पुलिस अधिकारियों और 285 सुरक्षा चौकियों के साथ, घटना से पहले से लेकर सम्मेलन समाप्त होने के बाद तक सुरक्षा कड़ी कर दी गई थी।[14]

जगह और भागीदारी[संपादित करें]

यूएनएफसीसीसी वार्ता का स्थान संयुक्त राष्ट्र देशों भर के क्षेत्रों में घुमाया जा रहा है। 2015 सम्मेलन 30 नवंबर से 11 दिसंबर 2015 तक  Bourget में आयोजित किया गया[15].

फ्रांस COP21 में भाग लेने के प्रतिनिधियों के लिए एक मॉडल के देश के रूप में कार्य करता है क्योंकि यह दुनिया में कुछ विकसित देशों में से एक है जिन्हों ने जीने का एक उच्च मानक प्रदान करते हुए बिजली उत्पादन और जीवाश्म ईंधन ऊर्जा विकार्बनन कर दिया हो।[16] 2012 में, फ्रांस ने परमाणु, पनबिजली, और पवन  सहित शून्य कार्बन स्रोतों से अपनी बिजली का 90% से अधिक उत्पन्न किया।[17] कम ग्रीनहाउस गैसों का निर्माण करके, ज्यादातर परमाणु ऊर्जा प्रणालियों द्वारा संचालित फ्रांस के उन्नत प्रौद्योगिकियों ने,[18] दुनिया में सबसे सुरक्षित और साफ ऊर्जा प्रणालियों में से एक का प्रदर्शन किया है।

बातचीत[संपादित करें]

COP 21: Heads of delegations
Delegates
Enrique Peña Nieto, François Hollande, Angela Merkel, Michelle Bachelet
Press conference at the Chinese pavilion.

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "19th Session of the Conference of the Parties to the UNFCCC". International Institute for Sustainable Development|. अभिगमन तिथि 20 February 2013.
  2. Sutter, John D.; Berlinger, Joshua (12 December 2015). "Final draft of climate deal formally accepted in Paris". CNN. Cable News Network, Turner Broadcasting System, Inc. अभिगमन तिथि 12 December 2015.
  3. "Adoption of the Paris agreement—Proposal by the President—Draft decision -/CP.21" (PDF). UNFCCC. 2015-12-12. मूल से 2015-12-12 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2015-12-12.
  4. The Editorial Board (28 November 2015). "What the Paris Climate Meeting Must Do". New York Times. अभिगमन तिथि 28 November 2015.
  5. Borenstein, Seth (29 November 2015). "Earth is a wilder, warmer place since last climate deal made". अभिगमन तिथि 29 November 2015.
  6. The 2015 international agreement, EC climate action, access date 30 October 2015
  7. What is COP21? access date 30 November 2015
  8. IPCC: Greenhouse gas emissions accelerate despite reduction efforts, UN climate panel 14 April 2014
  9. Sutter, John D.; Berlinger, Joshua (12 December 2015). "Final draft of climate deal formally accepted in Paris". CNN. Cable News Network, Turner Broadcasting System, Inc. अभिगमन तिथि 12 December 2015.
  10. New UN Report Synthesizes National Climate Plans from 146 Countries, UNFCCC 30 October 2015
  11. Intended Nationally Determined Contribution of the EU and its Member States, 6 March 2015
  12. "Issues and reasons behind the French offer to host the 21st Conference of the Parties on Climate Change 2015". Ministry of Foreign Affairs. 22 May 2013. अभिगमन तिथि 31 January 2014.
  13. M. Nicolas J. Firzli (3 July 2015). "Climate: Renewed Sense of Urgency in Washington and Beijing". Revue Analyse Financière. अभिगमन तिथि 7 December 2015.
  14. http://time.com/4113215/paris-attacks-climate-conference/
  15. "France confirmed as host of 2015 Climate Conference". Ministry of Foreign Affairs. 22 November 2013. अभिगमन तिथि 31 January 2014.
  16. Guivarch, Celine and Hallegatte, S., 2C or Not 2C? 19 January 2012.
  17. “Breakdown of Electricity Generation by Energy Source”.
  18. “Nuclear Power in France”.