२०१९ श्रीलंका बम विस्फोट

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
२०१९ श्रीलंका बम विस्फोट
सम्बंधित: श्रीलंका में आतंकवाद
[[File:
|frameless|alt=]]
चार प्रमुख लक्ष्य। ऊपरी बाएँ से दक्षिणावर्त: सेंट एंथनी चर्च, कोच्चिकड़े, सेंट सेबेस्टियन चर्च, नेगोंबो, किंग्सबरी, शांगरी ला
कोलंबो शहर में बम विस्फोट का स्थान

२०१९ श्रीलंका बम विस्फोट की श्री लंका के मानचित्र पर अवस्थिति
कोलंबो
कोलंबो
The Tropical Inn Hotel, Dehiwala
The Tropical Inn Hotel, Dehiwala
श्रीलंका के आसपास लक्षित शहरों का स्थान

स्थान चर्चें
  • सेंट एंथनी चर्च, कोच्चिकड़े
  • सेंट सेबेस्टियन चर्च, नेगोंबो
  • ज़िओन चर्च, बट्टीकलोआ
होटल
  • शांगरी ला
  • किंग्सबरी
  • सिनेमन ग्रैंड
  • द ट्रॉपिकल इन होटल
आवासीय परिसर
  • डेमटागोडा में स्थित
तिथि 21 अप्रैल 2019 (2019-04-21)
  • 08:00-08:45:पहले 6 धमाके
  • 14:10: ट्रॉपिकल इन होटल में विस्फोट
  • 14:40 & 15:20: डेमटागोडा में विस्फोट[1]
(एसएलटी यूटीसी +५:३०)
लक्ष्य ईसाई और पर्यटक; पुलिस अधिकारी
हमले का प्रकार बम विस्फोट
मृत्यु 290[2][3]
घायल 500+

21 अप्रैल 2019 ईस्टर रविवार को, पूरे श्रीलंका में तीन चर्च और वाणिज्यिक राजधानी कोलंबो के तीन लक्जरी होटल में बम विस्फोट की गई। बाद में दोपहर में, एक आवासीय परिसर और एक गेस्ट हाउस में छोटे विस्फोट हुए, जिसमें तीन पुलिस वाले जोकि स्थिति की जांच और संदिग्ध स्थानों पर छापे मार रहे थे, मारे गये। कोलंबो सहित श्रीलंका के कई शहरों को निशाना बनाया गया। कम से कम 290 लोग मारे गए, जिनमें कम से कम 35 विदेशी नागरिक और तीन पुलिस अधिकारी शामिल थे, और बम विस्फोट में लगभग 500 लोग घायल हुए है।[4][5][6]

नेगोंबो, बट्टीकलोआ और कोलंबो के चर्च में ईस्टर प्रार्थना के दौरान बम विस्फोट किए गए; कोलंबो के शांगरी ला, किंग्सबरी और सिनेमन ग्रैंड होटल पर भी लगभग उसी समय बम धमाके हुए थे। [7][8][9]


सरकारी अधिकारियों के अनुसार, लगभग सभी आत्मघाती हमलावर, श्रीलंकाई नागरिक थे जोकि एक स्थानीय आतंकवादी इस्लामिक समूह, राष्ट्रीय ताहीथ जमात से जुड़े हुए थे, जिन्हें पहले बौद्धों के खिलाफ हमलों के जिम्मेदार माना जाता था।[10]

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

श्रीलंका की सत्तर प्रतिशत आबादी बौद्ध है और श्रीलंका के 9.7% मुस्लिम हैं। श्रीलंकाई आबादी के लगभग 7.4% लोग ईसाई हैं, जिनमें से 82% रोमन कैथोलिक हैं जो सीधे पुर्तगालियों को अपनी धार्मिक विरासत का स्रोत बताते हैं। श्रीलंकाई तमिल कैथोलिक अपनी धार्मिक विरासत का श्रेय सेंट फ्रांसिस जेवियर के साथ-साथ पुर्तगाली मिशनरियों को देते हैं। शेष ईसाई समान रूप से सीलोन के एंग्लिकन चर्च और अन्य प्रोटेस्टेंट संप्रदायों के बीच विभाजित हैं। 2009 में श्रीलंका के गृह युद्ध के अंत के बाद से, पहली बार देश में एक बड़ा आतंकवादी हमला हुआ है।

2010 के दौरान, ईसाई मण्डलों और व्यक्तियों, तथा साथ ही अन्य धार्मिक अल्पसंख्यकों के खिलाफ एक कम लेकिन लगातार संख्या में हमले और धमकी दिये जा रहे थे। कोलंबो के एंग्लिकन बिशप ढिल्लराज कैनागासबी ने धर्म पर संवैधानिक अधिकारों की रक्षा करने का आह्वान किया। 2018 में, नेशनल क्रिश्चियन इवेंजेलिकल अलायंस ऑफ श्रीलंका (NCEASL) ने उस वर्ष देश में ईसाइयों के खिलाफ हमलों की संख्या में बड़ी वृद्धि दर्ज की।

ईस्टर रविवार ईसाई धर्म के पवित्रतम दिनों में से एक है; इस दिन श्रीलंका के चर्च में प्रार्थना करने वालो की उपस्थिति बहुत अधिक होती है।

न्यू यॉर्क टाइम्स और एएफपी के एक रिपोर्ट के अनुसार दस दिन पहले ही सुरक्षा अधिकारियों द्वारा एक कट्टरपंथी इस्लामवादी समूह, नेशनल थोहीथ जमात द्वारा चर्चों पर हमलों के खतरे की सुचना जारी की गई थी। हालाँकि, इस संबंध में कोई जानकारी देश के वरिष्ठ राजनेताओं को नहीं दी गई थी। मंत्री हरिन फ़र्नांडो ने तब राष्ट्रीय थोहीथ जमात के नेता मोहम्मद ज़हरान द्वारा योजनाबद्ध आतंकी हमले की पुलिस की खुफिया सूचना और आंतरिक मेमो की रिपोर्ट ट्वीट की।

हमला[संपादित करें]

जब श्रीलंका में चर्च और होटल को निशाना बनाया गया, तब ईसाई ईस्टर संडे का जश्न मना रहे थे। बम विस्फोटों के अनुक्रम और समन्वय को अधिकतम विनाश का कारण बनाने की योजना बनाई गई थी, द्वीप भर में बड़े पैमाने पर ईस्टर के दौरान ईसाइयों को निशाना बनाने और राजधानी के समुद्र तट पर स्थित पाँच सितारा होटलों में नाश्ते के दौरान मेहमानों को लक्षित किया गया था। चर्चों और होटलों पर शुरुआत के सभी छह विस्फोट, आत्मघाती हमलावर द्वारा किये गए थे।[11]

पहला धमाका राजधानी के एक ऐतिहासिक चर्च सेंट एंथोनी चर्च के श्राइन में हुआ, जहां 50 से अधिक लोग मारे गए। दूसरा विस्फोट कोलंबो के उत्तर में ईसाई बहुल उपनगर नेगोंबो और श्री जयवर्धनेपुरा कोटे के सेंट सेबेस्टियन चर्च में हुआ।.[12] सेंट सेबेस्टियन श्रीलंका के मुख्य हवाईअड्डे, भंडारनाइके अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे के करीब है, जहां सुरक्षा बढ़ाई गई थी।[11]

सेंट एंथोनी और होटलों के बीच, श्रीलंकाई मीडिया ने कोलंबो में कम से कम 40 लोगों के मारे जाने की सूचना दी गई है।[13][14]

परिणाम[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Thomas, Kris. "Easter Sunday Explosions In Sri Lanka: An Evolving Timeline Of Events". Roar Media. अभिगमन तिथि 22 April 2019.
  2. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; BBC_290_toll नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  3. Bastians, Dharisha; Gettleman, Jeffrey; Schultz, Kai (21 April 2019). "Sri Lanka Bombings at Churches and Hotels Said to Kill Over 200". The New York Times (अंग्रेज़ी में). आइ॰एस॰एस॰एन॰ 0362-4331. अभिगमन तिथि 21 April 2019.
  4. "श्रीलंका में धमाके: मृतक संख्या 290 हुई, कोलंबो एयरपोर्ट के पास पाइप बम मिला।". दैनिक भास्कर. अभिगमन तिथि 22 अप्रैल 2019.
  5. "156 Dead In Blasts At Two Sri Lanka Churches During Easter Mass: Report". NDTV. अभिगमन तिथि 21 April 2019.
  6. "Sri Lanka Easter bombings live: Blasts during church services in Colombo". The National. अभिगमन तिथि 22 April 2019.
  7. "Sri Lanka attacks: More than 200 killed as churches and hotels targeted". BBC News. 21 April 2019. अभिगमन तिथि 22 April 2019.
  8. "Sri Lanka Easter bombings: Mass casualties in churches and hotels". Al Jazeera. 21 April 2019. अभिगमन तिथि 22 April 2019.
  9. Burke, Jason; Parkin, Benjamin (21 April 2019). "Sri Lanka blasts: hundreds injured in church and hotel explosions". The Guardian. अभिगमन तिथि 20 April 2019.
  10. "The Latest: Sri Lanka: local militants carried out attacks – SFChronicle.com". www.sfchronicle.com. 22 April 2019. अभिगमन तिथि 22 April 2019.
  11. Burke, Jason; Perera, Amantha (21 April 2019). "Sri Lanka death toll expected to rise as leaders condemn killings". The Guardian. अभिगमन तिथि 21 April 2019.
  12. "Who is behind the Sri Lanka bombings? - Current News Times". www.currentnewstimes.com. अभिगमन तिथि 22 April 2019.
  13. Irugalbandara, Ramesh (21 April 2019). "LIVE: Death toll in Easter Sunday explosions crosses 160". News First. अभिगमन तिथि 21 April 2019.
  14. Bastians, Dharisha; Schultz, Kai (21 April 2019). "Sri Lanka Suicide Bombings Targeting Christians Kill Hundreds". The New York Times. अभिगमन तिथि 20 April 2019.