२०१५ हज भगदड़

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
2015 हज भगदड़
चित्र:The sprawling Jamarat bridge - Flickr - अल जज़ीरा English.jpg
पाँच तल्ला जमारात पुल
तिथि 24 सितम्बर 2015 (2015-09-24)
स्थान मीना, मक्का (शहर), सउदी अरब
निर्देशांक 21°24′59.5″N 39°53′04.9″E / 21.416528°N 39.884694°E / 21.416528; 39.884694
कारण Disputed
मृत्यु Estimates':
2,411 (AP)[1]
2,070 (Reuters)[2]
2,236 (AFP)[3]
2,431 (Total/National)
769 (Saudi government)[1][4]

२४ सितम्बर २०१५ को मक्का में हज यात्रा के दौरान हुई एक भगदड़ में कम से कम 2000 हाजियों की मौत हो गयी [5][6] और ८६३ अन्य यात्री घायल हो गये।[7][8] १९९० के हज भगदड़ के बाद जिसमें १४२६ लोगों की मौत हो गयी थी, मक्का में हुई यह सबसे खतरनाक और बडी दुर्घटना है।[9] ईरान की सरकारी समाचार एजेंसी का कहना है कि ईरान की हजयात्रा समिति के अनुसार १३०० से ज्यादा लोगों के मौत होने की आशंका है। [10] लेबनान के अद-दियार की सूचना के अनुसार राजकुमार मोहम्मद बिन सलमान अल सऊद के काफ़िले ने इस भगदड़ में केंद्रीय भूमिका निभाई।[10]

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

हज यात्रा मक्का में होने वाली मुस्लिमों की एक तीर्थ यात्रा है जो उन्हें जीवन में कम से कम एक बार करनी होती हैं। परंपरानुसार इसके दौरान तीर्थयात्रियों को विभिन्न रीतियाँ निभानी होती हैं जिनमे से एक है शैतान को पत्थर मारना (अरबी: رمي الجمراتramī aj-jamarāt)[11][12] जो कि मीना में स्थित जमारात पुल के पास है। यह शहर मक्का से कुछ मील दूर है। जामारात पुल एक पांच मंजिला पैदल पुल है जिसपर से तीर्थयात्री जमारात पत्थरों (शैतान) पर कंकड़ मार सकते हैं। पत्थर मारने का यह रिवाज़ तीर्थयात्रा का अंतिम पडाव है और अक्सर इसे बहुत ज्यादा भीड़, कम जगह और कम समय की वजह से हज यात्रा का सबसे खतरनाक हिस्सा माना जाता है। पहले भी तीर्थ यात्रा के इस पड़ाव पर ढेरों भगदड़ के हादसे हो चुके हैं। [13]

२००६ में हुए इसी तरह की एक घटना में ३४६ लोगों की मृत्यु हो गयी थी जिसकी वजह से सऊदी सरकार को इस शहर में ढाँचागत व्यवस्थाओं में सुधार के कदम उठाने पडे थे।[8] ११ सितम्बर २०१५, को ही हज यात्रा शुरु होने से हफ्तों पहले मक्का की एक मस्जिद में एक विशाल क्रेन के गिरने से ११८ लोग मारे गये।[14]

१७ सितम्बर २०१५, को १००० से ज्यादा तीर्थयात्रियों ने अपने होटल आग लगने की वजह से छोड़ दिए, इस घटना में २ इंडोनेशियाई नागरिक घायल हो गये थे।[15]

सऊदी अरब की सरकार ग्रैंड मस्जिद के विस्तार में ६० अरब डॉलर का निवेश कर रही थी जिसमें काबा स्थित है। यहां १ लाख से ज्यादा सुरक्षाकर्मी व ५००० से ज्यादा सीसीटीवी कैमरे भीड़ पर नज़र रखने के लिये लगे हुए थे।[16]

घटना[संपादित करें]

हताहतों की नागरिकताएँ
नागरिकता मारे गये घायल हुए संदर्भ
 अल्जीरिया 3 6 [17]
 नाइजीरिया 2 0 [18]
 बांग्लादेश 4 N/A [19]
 मिस्र 1 20 [20]
 भारत 14 13 [21]
 इंडोनेशिया 3 1 [22]
 ईरान 131 N/A [23]
 पाकिस्तान 7 N/A [24]
 सूडान 1 2 [25]
 ओमान 0 5 [26]
अज्ञात 553 832
कुल 719 873 [8]

सऊदी नागरिक सुरक्षा निदेशालय के अनुसार यह भगदड़ मक्का के समय के अनुसार ९:०० हुई थी ' जो जंक्शन और स्ट्रीट के बीच शुरू हुई और जामारात पुल पर २०४ और २२३ नंबर रूट में तीर्थयात्री मौजूद थे '। सऊदी अरब के गृह मंत्रालय के अनुसार विशाल जनसमूहों के दो रास्तों से चलकर जमारात पुल के पास रास्तों के मिलन स्थल पर आ जाने से हुई।[8] यह मिलन स्थल दो अस्थायी निवास शिविरों के बीच में स्थित है। लगभग १६०००० शिविर मीना में विभिन्न स्थानों पर वितरित हैं।[27]

सऊदी गृह रक्षा विभाग ने ४००० सुरक्षाकर्मियों व २२० आपातकालीन प्रतिक्रिया इकाईयों को भगदड़ की जगह पर भेजने के बारे में बताया है।[27] बाद में हजयात्रियों के जत्थों को भगदड़ की जगह से दूर दूसरे मार्गों पर परिवर्तित किया जा रहा था। [28] घायलों का अस्पतालों में उपचार शुरु हो गया था और रेडक्रॉस की विभिन्न टुकणियाँ घटनास्थल पर पहुंच रहीं थी। [8]

Lebanon-based Arabic-language daily al-Diyar said in a report that the convoy of Prince Mohammad bin Salman Al Saud which consisting of 200 army forces and 150 police officers and were escorting the prince, played a central role in the stampede. The report said the presence of the prince in the middle of the population prompted a change in the direction of the movement of the pilgrims and a stampede. The report further said that Salman and his huge entourage swiftly abandoned the scene, adding that the Saudi authorities seek to hush up the entire story and impose a media blackout on Salman’s presence in the area.[10]

हताहतों की संख्या[संपादित करें]

सऊदी नागरिक सुरक्षा निदेशालय के अनुसार इसमें कई देशों के नागरिक थे ' ईरान की सरकारी समाचार एजेंसी आईआरएनए (IRNA) के अनुसार मची भगदड़ में १३१ ईरानी तीर्थयात्रियों की मौत की घोषणा की थी। इस भगदड़ में चाड नाइजीरियाई और सेनेगल तीर्थयात्रियों की भी बड़ी संख्या मौतें हुई हैं ' [8]

Reactions[संपादित करें]

  • Flag of Saudi Arabia.svg सउदी अरब – The governor of the Makkah Region and head of the Central Hajj Committee Prince Khaled al-Faisal blamed the stampede on "some pilgrims from African nationalities".[27] The Saudi health minister Khalid A. Al-Falih stated that the stampede occurred due to pilgrims failing to follow official directions, adding that timetables established by authorities were ignored.[8]
    • Irfan al-Alawi, the executive director of the Islamic Heritage Research Foundation, said that "the disaster was a result of poor management by the government, given the number of past disasters." [15]
    • Madawi al-Rasheed, a Saudi-Arabian anthropologist and visiting professor at the London School of Economics, said: “There is no accountability. It’s shocking that almost every year there is some kind of death toll. The renovation and expansion are done under the pretext of creating more space for Muslim pilgrims, but it masks land grabs and vast amounts of money being made by the princes and by other Saudis. Officials in the kingdom had avoided responsibility in part by citing the Islamic doctrine that anyone who dies during the pilgrimage goes to heaven.”[15]
    • Ali al-Ahmed, a Saudi analyst and current director of the Washington D.C. based Institute for Gulf Affairs think tank blamed the Saudi government's “mismanagement” of the Hajj, saying that "the Ministry of Interior's use of soldiers who have no clue or expertise in managing crowds was the real cause of stampedes. This really has to do with the failure of the Saudi government in organizing this Hajj, and they need to get help from around the world."[29]
  • Flag of Iran.svg ईरानAli Khamenei, Supreme leader of Iran, offered condolences to the bereaved families of the killed pilgrims, declared three days of national mourning in Iran. "The Saudi government is obligated to shoulder its heavy responsibility in this bitter incident and meet its obligations in compliance with the rule of righteousness and fairness. Mismanagement and improper measures that were behind this tragedy should not be overlooked,” Khamenei said.[30]
    • Amir Abdollahian, Deputy of Foreign Affairs Minister, accused Saudi officials of tactlessness over the lack of safety measures at the Hajj.[31]
    • The head of Iran’s Hajj organization, Said Ohadi, accused Saudi Arabia of safety errors that caused the accident saying that “Today’s incident shows mismanagement and lack of serious attention to the safety of pilgrims. There is no other explanation. The Saudi officials should be held accountable.” Iran’s deputy foreign minister Hossein Amir Abdollahian also accused Saudi officials of “tactlessness” over the lack of safety measures at the Hajj and said “We can in no way be indifferent to this irresponsible behaviour of Saudi Arabia. This will be dealt with through diplomatic channels.”[32]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; AP-10-12 नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  2. "رویترز: شمار قربانیان منا سه برابر آمار ادعایی عربستان است" [Reuters: MINA: three times the number of victims claimed by Saudi Arabia's statistics]. Deutsche Welle. 13 October 2015. अभिगमन तिथि 9 April 2016.
  3. "Iran says tests will show cause of diplomat's death in Saudi". AFP. 27 November 2015. मूल से 29 November 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 November 2015.
  4. सन्दर्भ त्रुटि: <ref> का गलत प्रयोग; saudifig नाम के संदर्भ में जानकारी नहीं है।
  5. "Death Toll From Hajj Stampede Reaches 2,411 in New Estimate".
  6. "The Latest: Death toll in Saudi hajj tragedy reaches 719". द वाशिंग्टन पोस्ट, एसोसिएटेड प्रेस. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  7. "हज के दौरान भगदड़, 717 लोगों की मौत".
  8. "Hajj stampede: At least 717 killed in Saudi Arabia". बीबीसी. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  9. हुबर्ड, बेन; बोश्नाक़, मोना. "Stampede Near Mecca During Hajj Leaves at Least 717 Dead". दि न्यू यॉर्क टाइम्स. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  10. "Prince Salman convoy triggered Hajj stampede: Report". Press TV. 25 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 25 सितम्बर 2015.
  11. बुर्टन, रिचर्ड फ़्रांसिस (1857). Personal Narrative of a Pilgrimage to El Medinah and Meccah. पृ॰ 226. जिस स्थान पर पत्थर मारा जाता है उसे जमाराह कहते हैं।
  12. Dāʼūd, Abū (1984). "519–1337". Sunan Abu Dawud. Sh. M. Ashraf. 1204. Jamrah का वास्तविक अर्थ है कंकण, जमराह का अर्थ होता है पत्थरों का ढेर।
  13. "Satan stoned – most dangerous hajj rite". News24. 6 नवंबर 2011. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  14. "Mecca crane collapse: Saudi king sanctions Binladin group". द गार्ज़ियन. गार्ज़ियन न्यूज़ व मीडिया लिमिटेड. Agence France-Presse. 15 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  15. "Stampede Near Mecca During Hajj Leaves Over 700 Dead". दि न्यू यॉर्क टाइम्स. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  16. hajj (24 सितम्बर 2015). "They're spending $60 billion to expand the Grand Mosque that houses the cube-shaped Kaaba, which is a central part of the hajj, a location where people go for the hajj pilgrimage. They have spent — there's 100,000 security forces deployed this year for safety, for crowd management. There's 5,000 CCTV cameras set up everywhere to monitor people for the flow of the crowds". PBS Newshour. अभिगमन तिथि 25 सितम्बर 2015.
  17. "Stampede in Mina (Mecca): death of three Algerian Hadjis". Algeria Press Service. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  18. "Stampede in Mina (Mecca): death of two Nigerians". 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  19. "Bangladesh nationals among victims of Hajj stampede that killed hundreds". bdnews24.com. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  20. "Egypt says woman died, 20 injured in Hajj stampede". The CAIRO post. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  21. "'Four Indians killed in Hajj stampede in Saudi Arabia'". Zee News. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  22. "'Mina citizen victims in the incident, 3 Killed and 1 Critical'". BERITASATU. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  23. "1,300, including 125 Iranians, killed in crush during Hajj in Mecca: Iran". PressTV. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  24. "Seven Pakistanis martyred in Mina stampede: DJ Hajj". Samaa TV. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  25. "Sudanese among Hajj stampede victims". DABANGA. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  26. "Omani among Hajj stampede victims". Times of Oman. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  27. "More than 300 killed in Saudi Hajj stampede". अल जज़ीरा Media Network. अल जज़ीरा. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  28. "Hajj: At least 717 dead in Mina stampede". Al Arabiya News. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  29. "More than 700 dead in Hajj stampede, Saudi Arabia authorities say". अल जज़ीरा. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.
  30. "Iran declares 3-day national mourning over Mecca deaths". Press TV. 24 सितम्बर 2015.
  31. "Iran slams Saudi Arabia over Hajj stampede". Aljazeera. 25 सितम्बर 2015.
  32. "Iran accuses Saudi of Hajj safety errors after stampede". Express Tribune. 24 सितम्बर 2015. अभिगमन तिथि 24 सितम्बर 2015.

External links[संपादित करें]

साँचा:Human stampedes साँचा:Saudi Arabia topics