हैलोएल्केन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
टेट्राफ्लोरोईथेन (एक हैलोएल्केन) एक पानीदार तरल होता है, जो सामान्य तापमान के नीचे भी उबलने लगता है। इसका उत्पादन कैन्ड वायु से किया जा सकता है

हैलोएल्केन (जिन्हें एल्काइल एल्डिहाइड भी कहते हैं) उन अकार्बनिक यौगिक समूह का नाम होता है जिसमें मीथेन, ईथेन इत्यादि जैसे एल्केन्स में एक या अधिक हैलोजन अणु, जैसे क्लोरीन या फ्लोरीन आदि जुड़ कर उनसे कार्बनिक हैलाइड बनाते हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]