हेनरिक पोंटोपिदां

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हेनरिक पोंटोपिदां (1857-1943) स्वीडिश उपन्यासकार एवं कहानीकार थे। 1917 ई० में साहित्य में नोबेल पुरस्कार विजेता।

हेनरिक पोंटोपिदां

जीवन-परिचय[संपादित करें]

हेनरिक पोंटोपिदां का जन्म 24 जुलाई, 1857 ई० में जटलैंड के फ्रेडरिका नामक स्थान में हुआ था। उनके पितामह और पिता पादरी रह चुके थे। आरंभिक शिक्षा के बाद उन्होंने कोपेनहेगेन में पॉलिटेक्निक स्कूल से इंजीनियरिंग की पढ़ाई की थी।

रचनात्मक परिचय[संपादित करें]

पोंटोपिदां की रचनाओं में डेनमार्क के ग्राम्य जीवन का सुंदर चित्रण है। महायुद्ध के दिनों में लिखे गये 'मृतकों का साम्राज्य' में देशभक्ति के साथ-साथ एक विशेष आदर्श के प्रति निष्ठा उत्पन्न करके युद्ध से विरक्ति का संदेश है। पोंटोपिदां ने डेनमार्क के ग्रामों और नगरों का इतना तथ्यपूर्ण और सजीव चित्रण किया है कि उन्हें साहित्य जगत में डेनिश जीवन का फोटोग्राफर कहा जाता है।[1]

प्रकाशित पुस्तकें[संपादित करें]

  1. दि प्रामिस्ड लैंड
  2. लकी पीटर
  3. मृतकों का साम्राज्य
  4. दि अपाथेकैरीज़ डाॅटर
  5. क्लिप्ड विंग्स
  6. इमैनुएल
  7. चिल्ड्रन ऑफ दि स्वायल

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. नोबेल पुरस्कार विजेता साहित्यकार, राजबहादुर सिंह, राजपाल एंड सन्ज़, नयी दिल्ली, संस्करण-2007, पृ०-82.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]