हुसैन शहीद सुहरावर्दी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(हुसेन शहीद सुहरावर्दी से अनुप्रेषित)
Jump to navigation Jump to search
हुसैन शहीद सुहरावर्दी

[[पाकिस्तान के प्रधान मन्त्री]]

हुसैन शहीद सुहरावर्दी[संपादित करें]

बचपन तथा राजनीतिक तरक़्क़ी[संपादित करें]

हुसेन शहीद सुहरावर्दी का जन्म ८ सितंबर को मिदनापुर नामक गाँव में हुआ था। उन्का परिवार एक बंगाली मुसलमान परिवार था। आज यह जगह पश्चिम बंगाल में है। उन्के पिता जाहिद सुहरावर्दी, एक नामी न्यायदीश थे कलकत्ता उच्च न्यायालय मे। उन्की रुचि हमेशा से ही राजनिति में थी। उन्होने तब भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का भाग,स्वराज्य दल में शामिल हुए। वह बंगाल संधि के एक मुख्य भाग थे। पाकिस्तान के आजादी के बाद उन्होने अपनी राजनीतिक कामो को पूर्व बंगाल तक ही वर्जित रखा। वह जल्दी ही सन १९४५ में पाकिस्तान के प्रधान मंत्री बनते ही राष्ट्रीय रेडियो पे एलान किया कि वह पाकिस्तान में एक बडी सेना बनाएगे जिसके माध्यम से वह भारत के खीलाफ हथियार उठात ने का वादा किया। अफसोस इस बात का ही है कि इतने वादे करने के बाद,वह प्रधान मंत्री कुरसी पर सिर्फ १३ महिनो तक टिक पाए मृत्यु उन्होने ढाका में ख्वाजा नजीमुिदन के कब्र के बगल में गाडा गया है।हुसैन का अपने पद पर समय संक्षिप्त था।

निजी व राजनीतिक समस्याए[संपादित करें]

उन्के जगह पे इस्कंदर मिर्जा ने अपने हक्क जमाया।एसा माना जाता है कि मिर्जा हमेशा से हि नहि चाहते थे कि हुसैन राष्ट्र-पति बने। उन्होने हुसैन का नाम के लिए हा अधे दिल से ही बोला था। हुसैन शहीद कि जीवनी में एसा बताया गया है कि शहीद को अपने अंतिम समय में काफी त्रास हुआ था। वह कफि उदास ओर साथ ही साथ अकेले भी थे। इक्रमुलाह उन्की चचेरी बहन ने हुसैन की जीवनी में बाताया है कि उन्हे अपने जीवन में काफी निजि ओर रानैतीक समस्याएँ थी। उन्होने जो भी बताया है वो हमे एक मुख्य तरीके में काफी मदद करता इसके दवारे हमे पाकिस्तान के राजनिति के बारे में पता चलता है। यह हमे दिखाता है कि कैसे पाकिस्तान के आजादी के बाद तुरन्त कितनी घटनाए हुई। भले ही सुहरावर्दी और मिर्जा में दुशमनी थी,पर एक बार सुहरावर्दी राष्ट्र-पति बने तो उन्की दोस्ती की शुरुआत हुई। एक और बात हुसेन के विख्यात है और वो ये जिन्न चाहते थे कि वो मुस्लिम लीग का भाग बने। वह उन्हे बंगाल प्रांत के मुख्य नेता बनान चहाते थे।उन्होने अपने राजनैतिक कारोबार से कभी भी आर्थिक मुनाफा नहीं कमाया। इसके बजाय वह अपने रोजी रोटी के लिये वकालत करते थे और कफी नाम भी कमाते थे।

सुहरावर्दी और पाकिस्तान के साथ संघर्ष[संपादित करें]

सुहरावर्दी पे काफी गंभीर आरोप लगाय गये थे। उन्ह में से एक आरोप यह भि थ कि उन्होने माहात्मा जि के सात हाथ मिला लिए हैं और पाकिस्तान के खीलाफ है। एसे कई गंभीर आरोपो के बाद उन्हे कई संघर्ष झलने पड। उन्हे " देशद्रोही " कहा गया। उन्हे अपने देश में आने से मना कर दिया गया। 

उन्हे मुस्लिम लिग से भी बाहर निकाल दिया। इतना सब हो जाने के बाद भी सुहरावर्दी को फिर पाकिस्तान आने का मोका मिला। तब पाकिस्तान के नए गवर्नर जनरल गुलाम मोहम्मद ने वापस बुलाया। उन्हे अपने राजनैतीक कारोबार में उन्की मदद चहिए थी। उन्की मौत के कई दिन पहले से वह शय्याग्रस्त थे। उन्की मौत भी काफी संघर्ष के साथ हुई। उन्की मौत ५ दिसंबर १९६३ को हुई थी। उन्की मौत कि वजाह दिल का दोरा थी। उन्का मकबरा ढाका में है।

हुसेन शहीद सुहरावर्दी को पुरी दुनिया एक देशभक्त, काबिल, और ईमानदार इसान के नाम पर याद रखेगी।

[1] [2] [3]

[4]

  1. http://historypak.com/hussain-shaheed-suhrawardy-1892-1963/
  2. http://www.dawn.com/news/1195290
  3. https://tribune.com.pk/story/97849/suhrawardy-and-jinnah/
  4. http://www.open.ac.uk/researchprojects/makingbritain/content/huseyn-shaheed-suhrawardy