हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसा
लुआ त्रुटि Module:Location_map में पंक्ति 419 पर: No value was provided for longitude।
तिथि 21 जनवरी 2017
स्थान विजयनगरम, आंध्र प्रदेश
देश भारत
स्वामी भारतीय रेलवे
दुर्घटना प्रकार पटरी से उतरना
कारण जांच जारी
आंकड़े
ट्रेन 1
मृत्यु 36 लगभग
घायल 54 लगभग
हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन का निर्धारित मार्ग

21 जनवरी 2017 को जगदलपुर-भुवनेश्वर हीराखंड एक्सप्रेस के नौ डिब्बे देर रात आंध्र प्रदेश के विजयनगरम के कुनेरू स्टेशन के पास पटरी से उतर गए। इसमें अब तक 36 लोगों की मौत हुई है और 54 लोग घायल हैं। हादसे की जांच शुरू हो गई है, लेकिन रेलवे सूत्रों ने हादसे के लिए किसी साजिश की आशंका से इनकार नहीं किया है।[1]

हादसा[संपादित करें]

यह घटना 21 जनवरी 2017 को रात 11:30 बजे (आईएसटी) हुई जब ट्रेन जगदलपुर (छत्तीसगढ़) से ओडिशा के भुवनेश्वर के लिए जा रही थी। ओडिशा में रायगढ़ा से 30 किलोमीटर दूर कोनेरू स्टेशन के पास हादसे में ट्रेन के करीब आठ डिब्बे पटरी से उतर गए। इसमें इंजन के साथ एक लगेज वैन, एक जनरल कोच, चार स्लीपर कोच और दो एसी कोच भी शामिल हैं।[2][3]

बचाव[संपादित करें]

एनडीआरएफ की एक टीम हीराखंड एक्सप्रेस दुर्घटनास्थल पर मौजूद है व भुवनेश्वर से 4 टीमें घटनास्थल के लिए रवाना की गयीं हैं। लोगों की मदद के लिए हेल्पलाइन बनाई गई है और अधिकारियों की टीम को भी घटनास्थल के लिए रवाना किया गया है। घायलों को आंध्र प्रदेश के पार्वतीपुरम् के अस्पताल में इलाज के लिए भेजा गया है। [1]राहत बचाव कार्य के लिए रिलीफ ट्रेन पलासा, संबलपुर, विशाखापत्तनम और रायगढ़ से भेजी गयी हैं।[3]

मुआवज़ा[संपादित करें]

  • रेलमंत्री सुरेश प्रभु ने ट्रेन हादसे के शिकार लोगों के लिए मुआवजे की घोषणा की है। जान गंवाने लोगों के परिजनों को 2 लाख, गंभीर रूप से घायलों को 50 हजार और घायल लोगों के लिए 25 हजार रुपये के मुआवजे का ऐलान किया गया है।।[1]
  • आंध्रप्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसे में मारे गए आंध्र प्रदेश के लोगों के परिजनों के लिए 5 लाख रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है। ये सहायता राशि चंद्रन्ना बीमा के तहत मिलेगी और यह राशि केंद्र सरकार के मुआवजा राशि से अलग है।[1]

प्रतिक्रिया[संपादित करें]

  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी ट्वीट कर घटना पर दुख जताया है। प्रधानमंत्री ने ट्वीट में लिखा, "ट्रेन हादसे में घायल सभी लोगों की जल्दी ठीक होनोे की प्रार्थना करता हूं। जिन्होंने अपने परिजनों को इस हादसे में खोया है मेरी भावनायें उनके साथ हैं।”[3]
  • गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री एन. चंद्रबाबू नायडू से बात की और हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसे पर पूरी मदद का भरोसा दिया।[1]
  • पेट्रोलियम मंत्री धर्मेंद्र प्रधान ने रेलमंत्री से बात की।[1]
  • केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने हीराखंड एक्सप्रेस ट्रेन हादसे पर दुख जताया। उन्होंने कहा कि जांच के बाद दोषियों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी।[1]
  • छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री रमन सिंह ने जगदलपुर से हर तरह की मदद के लिए निर्देश दिए।[1]
  • आंध्र प्रदेश के मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू ने ट्रेन हादसे पर दुख जताते हुए कहा है कि स्थिति पर निगाह रखी जा रही है और हादसे के कारणों की जांच जारी है।[1]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]