हिरासत मे लेने की कड़ी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ

हिरासत मे लेने की कड़ी (chain of custody) कानूनी भाषा मे मतलब है की कालानुक्रमिक प्रलेखन पूरे मामले की जेसे सबूतो की या गवाह की। शुरु से ले कर मामला या केस खत्म होने तक, उस पूरे मामले की प्रलेखन (documentation) बनाई जाती है। यह कानूनी करवाई के लिए जरुरी है की साडी जानकारी एक साथ हो। कोई भी हिस्सा छुटना नही चाहए इससे कानूनी करवाई करने मे आसानी होती है और पूरे मामले का पता होता है कब और कहा सबूत गये है कोन कोन मामले मै शामिल है और सबूतों का विश्लेषण और उनका परिणाम क्या रहा। शुरु से ले कर मामले के खत्म होने तक उस मामले की प्रलेखन (documentation) बनाई जाती है। मामले के प्रलेखन से यह पता लग जाता है की अपराध मे कितने व्यक्ति शामिल थे।

चरण[संपादित करें]

हिरासत में लेने की कड़ी मे यह होता है:

  • जो व्यक्ति सबूत उठा रहा है उसका नाम और उसके हस्ताक्षर लिए जाते है। जो उस सबूत से जुड़ा हुआ है उस का नाम।
  • जिस तारिक को सबूत उठाया है और आगे भेजा है।
  • एजेंसी का नाम, केस नंबर और अपराध किस तरह का है।
  • जो व्यक्ति केस मी शामिल है उनके नाम।
  • केस की तस्वीरे।
  • न्यायालय की प्रक्रिया।
  • केस का खत्म होने की तारिक और फ़ेसला।