हिन्दू धर्म और सिख धर्म

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हिन्दू धर्म और सिख धर्म दोनों मूलतः भारत की धरती से निकले धर्म हैं। हिन्दू धर्म एक अति प्राचीन (अनादि) धर्म है जो कई हजार वर्षों के विकास का मार्ग तय करके आया है। सिख धर्म की स्थापना १५वीं शताब्दी में गुरु नानक ने की जब भारत पर मुगलों का अधिकार था।

दोनों धर्मों में बहुत सी बातें और दर्शन समान हैं, जैसे कर्म, धर्म, मुक्ति, माया, संसार आदि। मुगल काल में राजा के तलवार के बल से हिन्दुओं को जबरन मुसलमान बनाया जा रहा था, उस समय सिख धर्म इस अत्याचार के विरोध में खड़ा हुआ। गुरु नानक पहले व्यक्ति थे जिन्होने बाबर के विरुद्ध आवाज उठायी थी। सिख लहर मे समाज के दबे कूचले (दलित) या अपने धर्म से नाखुश लोगो बड़ी संखिया मे शामिल हुऐ,जिसमें हिन्दू धर्म के लोग भी शामिल थे ।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]