हिजाब

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
(हिज़ाब से अनुप्रेषित)
नेविगेशन पर जाएँ खोज पर जाएँ
Hijab Niqab Muslim Veil.jpg

हिजाब (अंग्रेज़ी:Hijab) शरीर के कुछ अंगों को ढकने या छुपाने के लिए मुस्लिम महिलाएं और लड़कियां जिस परिधान को प्रयोग में लाती हैं आम जन में उसे भी कहते हैं, मुसलमानों में हैडस्कार्फ और नक़ाब के मिले जुले रूप का ये आधुनिक परिधान है जिसे मुस्लिम महिलाएं बाहर जाने पर पहनती हैं। हिजाब का शाब्दिक अर्थ है आड़,ओट या परदा।[1]हिजाब, नक़ाब, स्कॉर्फ वस्त्रों के नामों से फ़र्क़ समझना मुश्किल होता है।[2]

विभिन्न देशों के मुसलमानों ने इस्लामी परदे के नियम[3] के लिए अलग-अलग प्रथाओं को अपनाया है। हिजाब परिधान की विभिन्न देशों में अलग-अलग कानूनी और सांस्कृतिक स्थिति है। अफ़ग़ानिस्तान और ईरान में महिलाओं के लिए अनिवार्य है, वहीं फ्रांस में प्रतिबंध है तो तुर्की में प्रतिबंध हटाये गये हैं। सार्वजनिक प्रयोग पर बहस लगातार हो रही है[4]

इस्लामी ग्रंथ में[संपादित करें]

क़ुरआन[संपादित करें]

क़ुरआन मुस्लिम पुरुषों और महिलाओं दोनों को विनम्र तरीके से कपड़े पहनने का निर्देश देता है, फिर भी इन निर्देशों का पालन कैसे किया जाना चाहिए, इस पर असहमति है। पोशाक से संबंधित छंद सिजाब के बजाय खिमार (घूंघट) और जिलबाब (एक पोशाक या लबादा) शब्दों का उपयोग करते हैं। क़ुरआन की 6,000 से अधिक आयतों में से लगभग आधा दर्जन विशेष रूप से एक महिला के कपड़े पहनने और सार्वजनिक रूप से चलने के तरीके का उल्लेख करती हैं। [5]

मामूली पोशाक की आवश्यकता पर सबसे स्पष्ट सूरा 24:31 है,जो महिलाओं को अपने जननांगों की रक्षा करने और अपनी छाती पर अपना खिमार (घूंघट) खींचने के लिए कहती है। [6][7]

और ईमानवाली स्त्रियों से कह दो कि वे भी अपनी निगाहें बचाकर रखें और अपने गुप्तांगों की रक्षा करें। और अपने शृंगार प्रकट न करें, सिवाय उसके जो उनमें खुला रहता है। और अपने सीनों (वक्षस्थल) पर अपने दुपट्टे डाल रहें और अपना शृंगार किसी पर ज़ाहिर न करें सिवाय अपने पतियों के या अपने बापों के या अपने पतियों के बापों के या अपने बेटों के या अपने पतियों के बेटों के या अपने भाइयों के या अपने भतीजों के या अपने भांजों के या मेल-जोल की स्त्रियों के या जो उनकी अपनी मिल्कियत में हो उनके, या उन अधीनस्थ पुरुषों के जो उस अवस्था को पार कर चुके हों जिससें स्त्री की ज़रूरत होती है, या उन बच्चों के जो स्त्रियों के परदे की बातों से परिचित न हों। और स्त्रियाँ अपने पाँव धरती पर मारकर न चलें कि अपना जो शृंगार छिपा रखा हो, वह मालूम हो जाए। ऐ ईमानवालो! तुम सब मिलकर अल्लाह से तौबा करो, ताकि तुम्हें सफलता प्राप्त हो(क़ुरआन

सूरह 33:59 में मुहम्मद को अपने परिवार के सदस्यों और अन्य मुस्लिम महिलाओं को बाहर जाने पर बाहरी वस्त्र पहनने के लिए कहने का आदेश दिया गया है, ताकि उन्हें परेशान न किया जाए:

ऐ नबी! अपनी पत्नि यों और अपनी बेटियों और ईमानवाली स्त्रियों से कह दो कि वे अपने ऊपर अपनी चादरों का कुछ हिस्सा लटका लिया करें। इससे इस बात की अधिक सम्भावना है कि वे पहचान ली जाएँ और सताई न जाएँ। अल्लाह बड़ा क्षमाशील, दयावान है[8]

हदीस[संपादित करें]

ड्रेस कोड[संपादित करें]

हिजाब पहने दो ईरानी महिलाएं

सुन्नी[संपादित करें]

परंपरागत रूप से, विचार के चार प्रमुख सुन्नी स्कूल (हनफी , शफी , मलिकी और हनबली ) सर्वसम्मति से मानते हैं कि यह महिला के पूरे शरीर के लिए अनिवार्य है, उसके हाथों और चेहरे को छोड़कर (और पैर हनाफिस के अनुसार) ) प्रार्थना के दौरान और करीबी परिवार के सदस्यों के अलावा विपरीत लिंग के लोगों की उपस्थिति में कवर किया जाना चाहिए (जिनसे शादी करना मना है )। हनाफिस और अन्य विद्वानों के अनुसार, ये आवश्यकताएं गैर-मुस्लिम महिलाओं के आसपास भी होती हैं, इस डर से कि वे असंबंधित पुरुषों के लिए उनकी शारीरिक विशेषताओं का वर्णन कर सकते हैं।

पुरुषों को अपने पेट के बटन से अपने घुटनों तक ढंकना चाहिए, हालांकि स्कूलों में इस बात पर मतभेद है कि इसमें नाभि और घुटनों को ढंकना शामिल है या केवल उनके बीच क्या है।

यह अनुशंसा की जाती है कि महिलाएं ऐसे कपड़े पहनें जो शरीर के अनुरूप न हों, जैसे कि पश्चिमी कपड़ों के मामूली रूप (लंबी शर्ट और स्कर्ट), या अधिक पारंपरिक जिलबाब , एक उच्च गर्दन वाला, ढीला वस्त्र जो बाहों और पैरों को ढकता है। एक खिमार या शैला , एक स्कार्फ या काउल जो चेहरे को छोड़कर सभी को ढकता है, कई अलग-अलग शैलियों में भी पहना जाता है।

मुहम्मद इब्न अल उथैमीन जैसे कुछ सलाफी विद्वानों का मानना ​​है कि सभी वयस्क महिलाओं के लिए हाथ और चेहरे को ढंकना अनिवार्य है।

शिया[संपादित करें]

विश्व हिजाब दिवस[संपादित करें]

विश्व हिजाब दिवस एक वार्षिक कार्यक्रम है, जो 1 फरवरी को मनाया जाता है। हिजाब दिवस पहली बार 2013 में मनाया गया था, जब नज़मा खान नाम की एक मुस्लिम महिला ने इस दिन को मनाना शुरू किया था। यह दिन पूरी दुनिया में मुस्लिम और गैर-मुस्लिम महिलाओं द्वारा हिजाब पहनकर मनाया जाता है।[9]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "हिजाब". Cite journal requires |journal= (मदद)
  2. "क्या आप जानते हैं बुर्के, नकाब और हिजाब में फर्क?". मूल से 8 मई 2019 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 8 मई 2019.
  3. मौलाना सैयद अबुल आला मौदूदी, परदे का हुक्म, पृष्ठ 215 https://archive.org/details/islam-me-parda-aur-nari-ki-hesiyat-hindi
  4. http://www.debate.org/opinions/should-the-hijab-be-banned-in-schools-public-buildings-or-society-in-general Archived 2022-02-09 at the Wayback Machine the Hijab be banned in schools, public buildings or society in general?
  5. Bucar, Elizabeth, The Islamic Veil. Oxford, England: Oneworld Publications , 2012.
  6. Evidence in the Qur'an for Covering Women's Hair, IslamOnline.
  7. Hameed, Shahul. "Is Hijab a Qur’anic Commandment?," IslamOnline.net. 9 October 2003.
  8. क़ुरआन https://tanzil.net/#trans/hi.farooq/33:59
  9. "World Hijab Day - Better Awareness. Greater Understanding. Peaceful World". मूल से 6 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 13 September 2016.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

TajMahalbyAmalMongia.jpg

इसलामी संस्कृति
पर एक शृंखला का भाग

वास्तुकला

अरबी · अज़ेरी
हिन्दुस्तानी · Iwan · मलय
दलदल · मोरक्कन · मुग़ल
तुर्क · फ़ारसी · सोमाली

कला

सुलेख · लघु · आसन

वस्त्र

अबाया · अगल · बौबौ
बुर्का · चदोर · जेल्लाबिया
निक़ाब · सलवार कमीज़
ताकियः · कुफ़्फ़ियाह · थावाब
जिल्बाब · हिजाब

त्योहार

अशुरा · अरबाईन · अल्-गादीर
चाँद रात · अल्-फ़ित्र · अल्-अधा
इमामत दिवस · अल्-काधिम
नया साल · इस्रा और मिरआज
अल्-क़द्र · मौलीद · रमज़ान
मुग्हम · मिड-शआबान
अल्-तय्यब

साहित्य

अरबी · अज़ेरी · बंगाली
इन्डोनेशियाई · जावानीस · कश्मीरी
कुर्द · मलय · फ़ारसी · पंजाबी · सिंधी
सोमाली · हिन्दी · तुर्की · उर्दू

मार्शल कला

सिलाठ · सिलठ मेलेयु · कुरश

संगीत
दस्त्गाह · ग़ज़ल · मदीह नबवी

मक़ाम · मुगाम · नशीद
कव्वाली

थिएटर

कारागऑज़ और हसिवत
ताज़िह् · व्यंग
IslamSymbolAllahCompWhite.PNG

इस्लाम प्रवेशद्वार