हिंगोट युद्ध

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हिंगोट युद्ध इन्दौर से 55 कि.मी. दूर गौतमपुरा शहर में होता है यह दीपावली के बाद खेला जाने वाला पारंपरिक 'युद्ध' है। इस युद्ध में प्रयोग होने वाला 'हथियार' हिंगोट है जो हिंगोट फल के खोल में बारूद, कंकड़-पत्त्थर भरकर बनाया जाता है। इस युद्ध में किसी दल की हार-जीत नहीं होती किन्तु सैकड़ों लोग गंभीर रूप से घायल हो जाते हैं।

हिंगोट एक फल (नारियल जैसा) होता है, जिसकी पैदावार देपालपुर इलाके में होती है। जिसे लोग दीपावली से लगभग दो माह पहले खोखला कर सुखा लेते हैं, फिर उसके भीतर बारूद भरी जाती है। फिर इसमें एक ओर लकड़ी लगाई जाती है, युद्ध के दौरान जब इसमें आग लगाई जाती है तो यह रॉकेट की तरह आकाश में उड़ान भरता हुआ, दूसरे पक्ष को नुकसान पहुंचाता है।

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]