हार्दिक पांड्या

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
हार्दिक पण्ड्या
Hardik Pandya (cropped).jpg
व्यक्तिगत जानकारी
कद 6 फीट (183 से॰मी॰)
बल्लेबाजी की शैली दाहिने हाथ से
गेंदबाजी की शैली दाहिने हाथ से मध्यम तेज गेंदबाजी
भूमिका बल्लेबाज ,हरफनमौला
परिवार कृणाल पण्ड्या (भाई)
अंतर्राष्ट्रीय जानकारी
राष्ट्रीय पक्ष
टी20ई पदार्पण (कैप 58)26 जनवरी 2016 बनाम ऑस्ट्रेलिया
अंतिम टी20ई31 मार्च 2016 बनाम वेस्ट इंडीज़
टी20 शर्ट स॰33 (पहले 228)
घरेलू टीम की जानकारी
वर्षटीम
2012/13– वर्तमान बड़ौदा क्रिकेट टीम
2015–वर्तमान मुंबई इंडियंस
कैरियर के आँकड़े
प्रतियोगिता टी२० प्रथम श्रेणी लिस्ट ए ट्वेन्टी-ट्वेन्टी
मैच 10 13 10 24
रन बनाये 200 1194 1161 1109
औसत बल्लेबाजी 40.00 47.00 47.28 52.46
शतक/अर्धशतक 0/1 3/10 2/9 3/10
उच्च स्कोर 61 118 111* 118
गेंद किया 102 190 173 220
विकेट 6 7 5 10
औसत गेंदबाजी 24.25 21.05 19.60 19.53
एक पारी में ५ विकेट 0 0 0 0
मैच में १० विकेट लागू नहीं - लागू नहीं लागू नहीं
श्रेष्ठ गेंदबाजी 3/28 2/61 3/71 2/61
कैच/स्टम्प 4/– 6/-p 4/- 20/-
स्रोत : ESPNcricinfo, 21 फरवरी 2016

हार्दिक हिमांशु पण्ड्या, जो कि भारतीय क्रिकेट का एक उभरता खिलाडी है, का जन्म ११ अक्टूबर [1] १९९३ में सूरत, गुजरात में हुआ था, एक हरफनमौला क्रिकेट खिलाड़ी हैं। ये भारतीय क्रिकेट टीम, बड़ौदा क्रिकेट टीम तथा मुंबई इंडियंस के लिए खेलते हैं।[2] पण्ड्या दाएँ हाथ के मध्यम तेज गेंदबाज तथा दाएँ हाथ के मध्यक्रम बल्लेबाज हैं। इन्होंने अपने कैरियर की शुरुआत २६ जनवरी २०१६ को ट्वेन्टी ट्वेन्टी के साथ ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ की थी।[3] ट्वेंटी-ट्वेंटी क्रिकेट में उनके प्रदर्शन और फोम को देखते हुए चयन कर्ताओं द्वारा हार्दिक को 16 अक्टूबर 2016 हिमाचल प्रदेश के धर्मशाला स्टेडियम में न्यूजीलैंड के खिलाफ वन डे क्रिकेट टीम में जगह दी गई। और कुछ समय बाद 26 जुलाई 2017 को श्रीलंका के खिलाफ उन्होंने अपना टेस्ट पदार्पण किया। गौरतलब है कि चैंपियन ट्रॉफी २०१७ ई. के भारत पाक फाइनल मैच में पांड्या ने अपनी बल्लेबाजी के दम पर पाक गेंदबाजों को परेशानी में डाल दिया था। चैंपियन ट्रॉफी के इस फाइनल मैच में हार्दिक ने केवल 43 गेंदों में 4 चौके और 6 छक्कों की बदौलत 76 रन बनाए। हांलाकि वे रन आउट हो गए किंतु हार्दिक की इस जबरदस्त पारी का हिंदुस्तान ने "हार्दिक" स्वागत किया।

प्रारंभिक जीवन[संपादित करें]

हार्दिक पंड्या का जन्म 11 अक्टूबर 1993 को गुजरात के सूरत में हुआ था। उनके पिता का नाम हिमांशु पंड्या था जो खुद भी क्रिकेट के दीवाने थे। वे अक्सर अपने परिवार के साथ मैच देखने के लिए स्टेडियम जाते थे। जिसमे हार्दिक भी शामिल रहते थे। शुरुआत से ही हार्दिक का मन पढ़ाई में नहीं लगता था जिस कारण से वे अपनी नवी कक्षा मे नाकाम रहे। पढ़ाई से दूरी बनाने का उनका केवल एक ही उद्देश्य था क्रिकेट के प्रति फोकस। उन्होंने अपने क्रिकेट के सपने को साकार करने के लिए काम करना शुरू कर दिया। जो उनके लिए एक संघर्ष की घड़ी थी लेकिन सफलता के लिए यह संघर्ष काफी जरूरी था।

हार्दिक पांडिया के साथ कुणाल भी बेहतरीन क्रिकेट खेलते थे। उनके पिता हिमांशु पांडिया ने दोनो भाईयो की कुशलता और क्रिकेट के प्रति उनकी दिवानगी को देख अपना बिजनेस सूरत से बड़ौदा शिफ्ट करने का फैसला कर लिया ताकि वह अपने बेटो को अच्छा प्रशिक्षण दिला सके। बड़ौदा आने के बाद उनके पिता हार्दिक और कुणाल को किरण मोर क्रिकेट एकेडमी ले गए। किरण मोर उनके शुरुआती कोच रहे जिन्होंने दोनो भाईयो की जबरदस्त क्रिकेट कुशलता और उनके आर्थिक हालात को देख उनसे फीस न लेने का फैसला किया।

एक तरफ दोनो भाई क्रिकेट ट्रेनिंग लेने लगे तो दूसरी तरफ उनके पिता का बिजनेस सिमटता चला गया। लेकिन पिता हिमांशु पंड्या ने अपनी आर्थिक मंदी के बारे में कभी हार्दिक और कुणाल को नहीं बताया। क्योंकि वे अपने बेटो का क्रिकेट के प्रति मानसिक संतुलन बनाए रखना चाहते थे। लेकिन धीरे धीरे आर्थिक मंदी ने हार्दिक को इस कदर घेरा की वे सिर्फ मैगी खा कर मैदान पर प्रैक्टिस करते थे। अपने भोजन के पैसे बचा कर पंड्या क्रिकेट किट इकट्ठा किया करते थे।

2014 में हार्दिक एक टूर्नामेंट खेल रहे थे किंतु उस वक्त उनके पास खुद का कोई क्रिकेट बैट नहीं था। उस वक्त भारतीय टीम के स्टार खिलाड़ी इरफान पठान वही मौजूद थे तो उन्होंने पांडिया को दो बैट गिफ्ट में दिए। हार्दिक ने इस मैच में शानदार पारी खेलते हुए 80 रन बनाए। उसी मैच के दौरान भारतीय टीम के पूर्व कोच जॉन राइट की नजर उन पर पड़ गई।उन्होंने हार्दिक को आईपीएल में मुंबई इंडियंस के साथ 10,00000 की कीमत में जोड़ दिया और यही वह पल था जब शुरू हुआ हार्दिक पांडिया का सफलताओ को छूने का सिलसिला।

साल 2014 में मुबई इंडियंस में शामिल होने के बाद हार्दिक की पहली मुलाकात सचिन तेंडुलकर से वानखेड़े स्टेडियम में हुई थी। इस मुलाकात के बाद सचिन तेंडुलकर ने कह दिया था की भारतीय क्रिकेट टीम को एक सितारा मिलने वाला है। जनवरी 2016 में हार्दिक पंड्या भारत की t - 20 टीम में शामिल हो गए और उनको पहले ही मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ दो विकेट मिल गए। विराट कोहली और रोहित शर्मा भी अपने अपने इंटरव्यू में कह चुके है की जैसे क्रिकेटर की हमे तलास थी वो हार्दिक पांडिया के रूप में पूरी हो चुकी है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "संग्रहीत प्रति". मूल से 25 जून 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 मार्च 2016.
  2. "संग्रहीत प्रति". मूल से 15 मई 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 मार्च 2016.
  3. "संग्रहीत प्रति". मूल से 3 फ़रवरी 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2 मार्च 2016.