हाफ़िज़ गुल बहादुर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

हाफ़िज़ गुल बहादुर (जन्म c.1961) उत्तरी वज़ीरिस्तान में स्थित पाकिस्तानी तालिबान गुट का नेता हैं। दिसम्बर 2007 में तहरीक-ए-तालिबान पाकिस्तान (टीटीपी) के गठन पर इसे बैतुल्ला महसूद के तहत आतंकवादी समूह के समग्र नायब अमीर के रूप में घोषित किया गया था। जो दक्षिण वज़ीरिस्तान में स्थित था। लेकिन प्रतिद्वन्द्विता व महसूद के साथ और पाकिस्तानी राज्य के विरुद्ध टीटीपी के आक्रमणों के बारे में असहमति के कारण टीटीपी से बहुत हद तक दूर हो गया था।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

मिर्जाली खान के सीधा वंशज गुल बहादुर उस्मानजई वज़ीरियों के मद्दा खेल कबीले का सदस्य हैं। मुल्तान में स्थित एक देवबन्दी मदरसे से शिक्षित है। वह जमीयत उलेमा-ए-इस्लाम-फ़ज़ल (JUI-F) राजनीतिक दल से संबद्ध है।

गुल बहादुर ने सोवियत-अफगान युद्ध के दौरान और बाद में तालिबान के शासन के दौरान अफगानिस्तान में लड़ाई लड़ी। अगस्त 2001 में उन्होंने संयुक्त राष्ट्र मॉनिटरों के प्रस्तावित प्लेसमेण्ट का विरोध करने के लिए लगभग 4,000 स्वयंसेवकों की भर्ती की, जो पाकिस्तान से अफगानिस्तान में हथियारों के प्रवाह को रोकने के लिए थे। गुल बहादुर ने आपत्ति जताई क्योंकि मॉनिटर ने उत्तरी गठबन्धन के विरुद्ध अफगान तालिबान का समर्थन करने के लिए पाकिस्तानी पश्तूनों की क्षमता में बाधा उत्पन्न की होगी। (स्वयंसेवक मिलिशिया को कभी भी तैनात नहीं किया गया था, हालाँकि, 9/11 के आक्रमणों के नतीजों के कारण)।

हाफ़िज़ गुल बहादुर सिराजुद्दीन हक्कानी के साथ घनिष्ठ रूप से जुड़ा हुआ है और उसे उत्तरी वज़ीरिस्तान में एक अड्ढा प्रदान किया था। अमेरिका विरोधी तालिबान का नेतृत्व गुल बहादुर और हक्कानी नेटवर्क कर रहा है।