हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल (http,एच टी टी पी) एक एप्लीकेशन प्रोटोकॉल है जो किसी जालस्थल के आगे (www. वर्ल्ड वाइडवेब) से आगे लगता है जिससे URL पता खुलता है अर्थात् कोई जालस्थल (वेबसाईट) खुलती है। [1] इसका संक्षिप्त नाम (HTTP) अर्थात् एच टी टी पी है। यह हमेशा किसी वेबपते के आगे ही लगता है उदाहरण के लिए [(http://wikipedia.org http://wikipedia.org)] [2]


प्रयोग[स्रोत सम्पादित करें]

आजकल के ब्राउजरों के युआरएल बक्से में किसी जाल स्थल का पता लिखने पर यह उसके आगे स्वतः लिखा मिलता है। [3]http के ठीक पीछे हमेशा : ऐसा चिह्न और उसके बाद // ऐसी तिरछी लकीरें लगानी पड़ती है और इसके पश्चात वेबपता लिखना पड़ता है।

इतिहास[स्रोत सम्पादित करें]

हाइपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल का आविष्कार अथवा इसको पहली बार १९६५ में टेड नेल्सन ने प्रयोग किया था। इसका पहला डॉक्यूमेंट वर्ज़न http vo.9 सन् १९९१ में लाँच हुआ था। [4]


बाहरी कड़ियाँ[स्रोत सम्पादित करें]

इन्हें भी देखें[स्रोत सम्पादित करें]

सन्दर्भ[स्रोत सम्पादित करें]

  1. "web-browsing-web-address-HTTP" (हिंदी में). लाईव हिंदुस्तान. http://www.livehindustan.com/news/desh/mustread/article1-Web-browsing-web-address-HTTP-39-332-472258.html. अभिगमन तिथि: २७ जून २०१५. 
  2. "एच टी टी पी (HTTP)" (अंग्रेजी में). वेबोपीडिया. http://www.webopedia.com/TERM/H/HTTP.html. अभिगमन तिथि: २७ जून २०१५. 
  3. "हाईपरटेक्स्ट ट्रांसफर प्रोटोकॉल" (अंग्रेजी में). डब्ल्यु 3. http://www.w3.org/Protocols. अभिगमन तिथि: २७ जून २०१५. 
  4. "HTTP (rfc2616)" (अंग्रेजी में). डब्ल्यु 3. http://www.w3.org/Protocols/rfc2616/rfc2616.html. अभिगमन तिथि: २७ जून २०१५.