हर की पौड़ी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
हर की पौडी
Evening view of Har-ki-Pauri, Haridwar.jpg
हर की पौडी पर सांय का दृश्य
धर्म संबंधी जानकारी
सम्बद्धताHinduism
डिस्ट्रिक्टहरिद्वार
प्रोविंसहरिद्वार
निर्माण वर्षपौराणिक
अवस्थिति जानकारी
अवस्थितिहरिद्वार, उत्तराखण्ड
राज्यउत्तराखण्ड

हर की पौड़ी या हरि की पौड़ी भारत के उत्तराखण्ड राज्य की एक धार्मिक नगरी हरिद्वार का एक पवित्र और सबसे महत्वपूर्ण धार्मिक स्थल है। इसका भावार्थ है "हरि यानी नारायण के चरण"।

कथा[संपादित करें]

हिन्दू धार्मिक मान्यताओं के अनुसार समुद्र मन्थन के बाद जब विश्वकर्माजी अमृत के लिए झगड़ रहे देव-दानवों से बचाकर अमृत ले जा रहे थे तो पृथ्वी पर अमृत की कुछ बूँदें गिर गई और वे स्थान धार्मिक महत्व वाले स्थान बन गए। अमृत की बूँदे हरिद्वार में भी गिरी और जहाँ पर वे गिरी थीं वह स्थान हर की पौड़ी था। यहाँ पर स्नान करना हरिद्वार आए हर श्रद्धालु की सबसे प्रबल इच्छा होती है क्योंकि यह माना जाता है कि यहाँ पर स्नान से मोक्ष की प्राप्ति होती है।

मान्यता[संपादित करें]

हर की पौड़ी या ब्रह्मकुण्ड पवित्र नगरी हरिद्वार का मुख्य घाट है। ये माना गया है कि यही वह स्थान है जहाँ से गंगा नदी पहाड़ों को छोड़ मैदानी क्षेत्रों की दिशा पकड़ती है। इस स्थान पर नदी में पापों को धो डालने की शक्ति है और यहाँ एक पत्थर में श्रीहरि के पदचिह्न इस बात का समर्थन करते हैं। यह घाट गंगा नदी की नहर के पश्चिमी तट पर है जहाँ से नदी उत्तर दिशा की ओर मुड़ जाती है। हर शाम सूर्यास्त के समय साधु संन्यासी गंगा आरती करते हैं, उस समय नदी का नीचे की ओर बहता जल पूरी तरह से रोशनी में नहाया होता है और याजक अनुष्ठानों में संलग्न होते हैं।

निकटवर्ती[संपादित करें]

इस मुख्य घाट के अतिरिक्त यहाँ पर नहर के किनारे ही छोटे-छोटे अनेक घाट हैं। थोड़े-थोड़े अन्तराल पर ही सन्तरी व सफेद रंग के जीवन रक्षक टावर लगे हुए हैं जो ये निगरानी रखते हैं कि कहीं कोई श्रद्धालु बह न जाए।

हर की पौड़ी का नयनाभिराम दृश्य जिसमें, मालवीय द्वीप (दाँए) जिसका नाम महामना मदन मोहन मालवीय के नाम पर रखा गया है और बिरला टॉवर जो सन १९३६ में बना था, दिख रहे हैं।

चित्र दीर्घा[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]