हरम्बे हत्याकाण्ड

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

२०७३ जेष्ठ १५ विक्रम संवत (२८ मई २०१६ ईस्वी) के दिवस संयुक्त राज्य अमेरिका के सिनसिनाटी चिड़ियाघर में हरम्बे नामक गोरिल्ला की गोली मार कर निर्मम हत्या कर दी गई।[1]

निर्दयी मानवों ने १७ वर्षीय हरम्बे को एक मीटर ऊंची दीवार वाले बाड़े में बंदी बना कर रखा था। अभिभावकों की लापरवाही के चलते एक चार साल का मानव बालक इस दीवार को पार कर हरम्बे निवास जा पहुंचा। श्री हरम्बे ने बालक को कोई हानि नहीं पहुंचाई। उल्टा प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार श्री हरम्बे ने बालक की रक्षा करने का प्रयास किया।[2] परंतु चिड़ियाघर प्रशासन ने बालक की सलामती का बहाना बनाते हुए श्री हरम्बे को गोली मार दी। कुछ ही समय बाद श्री स्वर्ग सिधार गए। मरने से पूर्व श्री हरम्बे ने बालक की रक्षा करने हेतु उसे निकट घसीट कर अपने पैरों के बीच रख लिया था। जब वे गोली से घायल हुए, तो वे बालक पर गिर गए। इस कारण बालक को भी गंभीर चोट पहुँची, और उसे चिकित्सालय में भर्ती करवाया गया।[3]

चिड़ियाघर के आगंतुको द्वारा लिया गया हरम्बे वध का वीडियो सामाजिक मीडिया पर छा गया। इस क्रूर हत्या को देखकर पत्थर दिल लोगों का हृदय भी पिघल गया। न्याय की माँग करते हुए पशु प्रेमियों ने चिड़ियाघर के बाहर प्रदर्शन किया। २००,००० लोगों ने हरम्बे वध का विरोध करते हुए एक याचिका दायर की। संपूर्ण विश्व से हज़ारों लोगों ने संवेदना व्यक्त करते हुए चिड़ियाघर को सन्देश भेजे।[4] संयुक्त राज्य राष्ट्रपति चुनाव, 2016 के चुनाव में कई लोगों ने श्री हरम्बे को अपना मत देकर श्रद्धांजलि अर्पित की।[5]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "जब 12 फीट गहरे गुरिल्ला के बाड़े में गिरा बच्चा, जानें फिर क्या हुआ ?". मूल से 22 सितंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 दिसंबर 2016.
  2. "बच्चे को 'मार' नहीं बल्कि 'बचा' रहा था गोरिल्ला!". मूल से 13 अक्तूबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 दिसंबर 2016.
  3. US: जू में गोरिल्ला को मारी गई गोली, बाड़े में गिरा था बच्चा[मृत कड़ियाँ]
  4. "बच्चे को बचाने के लिए गोरिल्ला को मारा, चिड़ियाघर ने अपनी कार्रवाई का किया बचाव". मूल से 20 दिसंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 दिसंबर 2016.
  5. "Twitter users boast about voting for dead gorilla Harambe on Twitter and post the proof". मूल से 30 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 5 दिसंबर 2016.