हरक्यूलिस का टावर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
हरक्यूलस का टावर
स्थानीय नाम:
साँचा:Lang-
स्थान: Corunna, गालिसिया, स्पेन
निर्देशांक: 43°23′9″N 8°24′23″W / 43.38583°N 8.40639°W / 43.38583; -8.40639निर्देशांक: 43°23′9″N 8°24′23″W / 43.38583°N 8.40639°W / 43.38583; -8.40639
समुद्र सतह से ऊंचाई: 57-मीटर (190 फुट)
पर्यटक: 149,440[1] (2009)
प्रशासी संस्था: स्पेन का सांस्कृतिक मंत्रालय
यूनेस्को विश्व धरोहर स्थल
आधिकारिक नाम: Tower of Hercules
प्रकार: Cultural
मापदंड: iii
निर्दिष्ट: 2009 (33rd session)
संदर्भ सं: 1312
State Party: Flag of Spain.svg स्पेन
Region: Europe and North America
Spanish Property of Cultural Interest
आधिकारिक नाम: Torre de Hércules
प्रकार: शाही सम्पत्ति
मापदंड: स्पेन देश का स्मारक
निर्दिष्ट: 3 जून 1931
संदर्भ सं: (R.I.) - 51 - 0000540 - 00000

लुआ त्रुटि Module:Location_map में पंक्ति 450 पर: Unable to find the specified location map definition. Neither "Module:Location map/data/गालिसिया, स्पेन" nor "Template:Location map गालिसिया, स्पेन" exists।

हरक्यूलिस का टॉवर (गैलिशियन भाषा और स्पेनी भाषा में Torre de Hércules) प्राचीन रोमन का प्रकाश स्तंभ है जो कि एक प्रायद्वीप पर 2.4 कि० मी० के केंद्र से आ कोरुन्या और गालिसिया के बीच उत्तर पश्चिमी स्पेन में स्थित है। 20 वीं सदी तक टावर को फ़ारम ब्रिगनतियम ("Farum Brigantium") के रूप में जाना जाता था। लातीनी शब्द फ़ारम (Farum) दरअसल यूनानी भाषा के शब्द "फ़ारोस" से लिया गया है जो कि सिकंदरिया के प्रकाशस्तम्भ के लिए इस्तेमाल होता था। इसका ढाँचा 55 फ़ीट लम्बा और स्पेन के उत्तर अटलांटिक से भी ऊपर खड़ा है। यह ढाँचा लगभग 1900 साल पुराना है और इसे 1791 में फिर से निर्मित किया गया था। यह रोम के दौर के प्रकाशस्तम्भों में सबसे पुराना है।

यहाँ एक शिल्पकला बाग़ है। इसमें पबलो सेर्रानो और फ़्रान्सिसको लेइरो द्वारा बनाई गई मूर्तियाँ रखी गई हैं।[2]

हरक्यूलिस का टावर स्पेन का तो राष्ट्रीय स्मारक है ही, इसके साथ-साथ 27 जून, 2009 से स्पेन में यूनेस्को की विश्व धरोहर स्थलों में से एक जुड़ गया था।[3] यह स्पेन में चिपिओना प्रकाश के बाद सबसे बड़ा प्रकाशस्तम्भ है।

निर्माण और इतिहास[संपादित करें]

हरक्यूलिस के टावर के बारे में कहा जाता है कि यह दूसरी सदी ईसवीं में भी मौजूद था या शायद इसका पुनर्निर्माण त्राजन के तहत एक ऐसी निर्माण योजना के अंतरगत जो कि शायद फ़ोनिशिया से प्रेरित थी। इसके बारे में अंदाज़ा लगाया गया है कि यह सकंदरिया के प्रकाश स्तंभ पर आधारित है।[4]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

गैलरी[संपादित करें]