हम हैं बेमिसाल

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
हम हैं बेमिसाल
हम हैं बेमिसाल.jpg
हम हैं बेमिसाल का पोस्टर
निर्देशक दीपक बहरी
निर्माता गीता गुप्ता
पटकथा सरोज ख़ान
अभिनेता अक्षय कुमार,
सुनील शेट्टी,
शिल्पा शिरोडकर,
मधू
संगीतकार अनु मलिक
छायाकार दमोदर नायडू
प्रदर्शन तिथि(याँ) 16 दिसम्बर, 1994
समय सीमा 152 मिनट
देश भारत
भाषा हिन्दी

हम हैं बेमिसाल 1994 में बनी हिन्दी भाषा की फिल्म है। इसमें सुनील शेट्टी, अक्षय कुमार, शिल्पा शिरोडकर और मधु मुख्य भूमिकाओं में हैं।[1][2] यह फिल्म अपना बड़ा बजट नहीं निकाल पाई थी और फ्लॉप रही थी।[3]

संक्षेप[संपादित करें]

तुती शाह (रमी रेड्डी) ने अपने सामाज विरोधी व्यवसाय की रक्षा करने के लिए किशन की हत्या कर दी और किशन के दोस्त डिसूजा (प्राण) को उसकी हत्या का आरोप लगा दिया। डिसूजा को जीवन भर की कारावास की सजा हुई। डिसूजा का सात वर्षीय बेटा माइकल (सुनील शेट्टी) निराशा से दूर भाग जाता है जब उसके सबसे अच्छे दोस्त और किशन के बेटे विजय सिन्हा (अक्षय कुमार) भी उसे अपने पिता के हत्यारे के बेटे होने के लिए बाहर निकाल देता है। समय बीत जाता है। डिसूजा जेल से बाहर निकलता है और गिरजाघर के पादरी से मिलता है। पादरी उन्हें सूचित करते हैं कि वह उनके बेटे माइकल का पता नहीं लगा सके, लेकिन उनकी इच्छा के मुताबिक उन्होंने जेल से भेजे जाने वाले पैसे की मदद से उनके मित्र किशन के बेटे विजय सिन्हा को पुलिस इंस्पेक्टर बनाया है। डिसूजा ने विजय सिन्हा के पिता की हत्या की सच्चाई को तुती शाह को गिरफ्तार करके सबके सामने लाने का फैसला किया। साथ ही, तुती शाह को वंचित माइकल और गरीबों के प्रति उसकी सहानुभूति और लगाव के बारे में पता चला। वह भावनात्मक रूप से माइकल को ब्लैकमेल करता है और माइकल द्वारा अपने प्रतिद्वंद्वी बख्शी जंग बहादुर को मारता है। उसके हमले के दौरान, एक होटल नर्तक मारिया, (मधु) माइकल के पिस्तौल की आग से अपनी नजर खो देती है। माइकल खुद इस दुर्घटना के लिए अपने को जिम्मेदार महसूस करता है और अपनी पहचान का खुलासा किए बिना, मारिया की देखभाल शुरू करता है। दोनों एक दूसरे के साथ प्यार में पड़ते हैं। माइकल के जीवन का मकसद अब मारिया की नजर वापस लाना है। तुती शाह ने फिर माइकल को भावनात्मक रूप से ब्लैकमेल किया। वह मारिया की आंखों के संचालन के लिए उसे पैसे देता है और बदले में एक और इंस्पेक्टर धर्म दास को मारने के लिए कहता है। लेकिन इस सौदे में, तुती शाह माइकल को धोखा देता है। दूसरी तरफ, इंस्पेक्टर विजय सिन्हा दोनों हत्याओं के लिए माइकल का पीछा कर रहे है और माफिया डॉन तुती शाह को गिरफ्तार करना चाहता है। गुंडों से जेबकतरी मीना (शिल्पा शिरोडकर) की रक्षा करने समय इंस्पेक्टर विजय सिन्हा खुद उससे प्यार करने लगता है। इंस्पेक्टर विजय सिन्हा ने तुती शाह को नंगे हाथों गिरफ्तार कर लिया, लेकिन उसके खिलाफ कुछ भी करने में असफल रहा। उन्होंने अपनी नौकरी से इस्तीफा दे दिया और तुती शाह को खत्म करने का फैसला किया। अब डिसूजा, माइकल और विजय सिन्हा एक तरफ हैं और दूसरी तरफ तुती शाह और उसकी निजी सेना हैं।

मुख्य कलाकार[संपादित करें]

संगीत[संपादित करें]

सभी अनु मलिक द्वारा संगीतबद्ध।

क्र॰शीर्षकगीतकारगायकअवधि
1."चाहे चूड़ी टूट जाये"श्याम अनुरागी, कुलवंत जानीअलका याज्ञिक6:42
2."दमा दम मस्त कलंदर"बाबा सहगल, क़तील शिफाईबाबा सहगल, अलका याज्ञिक7:06
3."मेरा लहँगा घेर घूमर"सनम गाज़ीपुरीपूर्णिमा6:50
4."तुझसे क्या चोरी है"क़तील शिफाईकुमार सानु, साधना सरगम6:56
5."चोरी चोरी चोरी"फैज़ अनवरअनु मलिक, अलीशा चिनॉय5:57
6."कतिल आँखों वाले"क़तील शिफाईअलीशा चिनॉय7:53

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "26 मार्च: आज आप अपना बर्थडे इन मशहूर लोगों के साथ शेयर कर रहे हैं". द क्विंट (अंग्रेज़ी में). अभिगमन तिथि 23 जुलाई 2018.
  2. "अक्षय का खुलासा- 90's में इस वजह से करते थे दो हीरो वाली फिल्मों में काम". दैनिक भास्कर. 6 अगस्त 2017. अभिगमन तिथि 23 जुलाई 2018.
  3. "अक्षय कुमार सुपरहिट नहीं.. सुपरफ्लॉप.. पूरे 9 बार.. ये रहा #Proof". फिल्मीबीट हिन्दी. वन इंडिया डॉट इन. 18 जनवरी 2018. अभिगमन तिथि 23 जुलाई 2018.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]