स्वायत्तता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

स्वायत्तता किसी किसी विशेष स्थान पर एक प्रकार की संप्रभुता होती हैं जिससे निर्णय लेने में बेहतरी आती हैं यह किसी राज्य की विकासात्मक आंग भी होती हैं,जो आर्थिक विकाश में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती हैं।। विकास अथवा सदाचार, राजनैतिक और जैवनीति दर्शनशास्त्र में स्वायत्तता (autonomy)[1] उस शक्ति को कहते हैं जिसमें किसी को अपना स्वयं पर फैसला लेने का अधिकार मिलता है। स्वायत्त संगठन अथवा संस्थायें स्वतंत्र और स्वयंशासी होती हैं।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. प्राचीन यूनानी भाषा: αὐτονομία autonomia from αὐτόνομος autonomos from αὐτο- auto- "self" and νόμος nomos, "law", hence when combined understood to mean "one who gives oneself one's own law"