स्वामी विज्ञानानंद

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
स्वामी विज्ञानानन्द

रामकृष्ण मिशन के एक साधु थे जो १९३७ में इसके अध्यक्ष बने। वे रामकृष्ण परमहंस के शिष्य थे। उनके ही अध्यक्षीय काल मेम बेलूर में रामकृष्ण मंदिर का निर्माण हुआ। वे मूलतः इंजीनियर थे और संस्कृत के विद्वान थे।

परिचय[संपादित करें]

उनका जन्म दक्षिणेश्वर के निकट एक धनी ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उनका मूल नाम हरिपसन्न चट्टोपाध्याय था। वे उस समय के संयुक्त प्रान्त में जिला इंजीनियर के रूप में पदस्थ थे। संस्कृत में विद्वता के साथ ही वे धार्मिक-दार्शनिक ग्रन्थों तथा ज्योतिष और सिविल इंजीनियरी के भी विशेषज्ञ थे।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]