स्वामी गोपाल दास

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

स्वामी गोपाल दास (1822-1936) चूरु जिले के भैंरुसर गाँव में चौधरी बींजाराम कसवां के घर पैदा हुये। आपने चूरु में अनेक समाज सुधार के काम किये। यहाँ गायों के संरक्षण के कई काम किये। पर्यावरण सुधारने के लिये पेड़ लगाये और चारागाह विकास के काम जनभागीदारी से कराये। सन 1917-18 क भयंकर अकाल के समय इनकी समाज सेवा का दूसरा उदाहरण मिलना कठिन है। यहाँ के प्रसिद्ध कवि पंडित अमोलक चन्द ने ये पंक्तियां लिखी हैं:

"चूरु शहर में सोर भयो, जद जोर करयो पलेग महामारी।
लाश पड़ी घर के अन्दर ढक छोड़ चले बंद किवाड़ी।।
आवत है गोपाल अश्व चढ देखत जहाँ बीमार पड्यो है।
देत दवा वो दया करके नाथ, अनाथ को नाथ खड्यो है।।"