स्वामित्वपूर्ण इक्विटी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
लेखांकन
मुख्य संकल्पनाएँ
लेखांकक · लेखांकन अवधि · पुस्तपालन · Cash and accrual basis · Cash flow management · Chart of accounts · Constant Purchasing Power Accounting · Cost of goods sold · Credit terms · Debits and credits · Double-entry system · Fair value accounting · FIFO & LIFO · GAAP / IFRS · General ledger · Goodwill · Historical cost · Matching principle · Revenue recognition · Trial balance
लेखांकन के क्षेत्र
लागत · वित्तीय · न्यायालयिक · Fund · प्रबन्ध
वित्तीय विवरण
Statement of Financial Position · Statement of cash flows · Statement of changes in equity · Statement of comprehensive income · Notes · MD&A · XBRL
लेखापरीक्षा
लेखापरीक्षक की रिपोर्ट · वित्तीय लेखापरीक्षा · GAAS / ISA · आन्तरिक लेखापरीक्षा · Sarbanes–Oxley Act
लेखांकन योग्यताएँ
CA · CPA · CCA · CGA · CMA · CAT

लेखांकन और वित्त में, इक्विटी सभी देयताओं का भुगतान करने के बाद, परिसंपत्तियों में निवेश करने वाले सबसे छोटे वर्ग के निवेशकों का अवशिष्ट दावा या ब्याज है। यदि परिसंपत्तियों का मूल्य देयताओं से अधिक न हो, तो ऋणात्मक इक्विटी मौजूद होती है। लेखांकन के सन्दर्भ में, शेयरधारकों की इक्विटी (या स्टॉकधारकों की इक्विटी, शेयरधारकों की निधि, शेयरधारकों की पूंजी या इसी तरह के शब्द) एक कंपनी की परिसंपत्तियों में शेष ब्याज का प्रतिनिधित्व करती है जो सामान्य या अधिमान्य स्टॉक के व्यक्तिगत शेयरधारकों के बीच वितरित होता है।

किसी कारोबार को शुरू करने के समय मालिक लोग परिसंपत्तियों के वित्तपोषण के लिए कारोबार में कुछ निधीयन करते हैं। इससे पूंजी के आकार में कारोबार की देयता का निर्माण होता है क्योंकि कारोबार इसके मालिकों से अलग एक इकाई है। लेखांकन के प्रयोजन की दृष्टि से कारोबारों को देयताओं और परिसंपत्तियों का योगफल माना जा सकता है; यही लेखा का समीकरण है। देयताओं का हिसाब-किताब हो जाने के बाद धनात्मक शेष को कारोबार के मालिक का ब्याज माना जाता है।

दिवालिएपन के मामले में परिसमापन प्रक्रिया को समझने में यह परिभाषा काफी सहायक होती है। सबसे पहले, परिसंपत्तियों से प्राप्त राशि के बदले में सभी प्रतिभूत ऋणदाताओं को भुगतान किया जाता है। उसके बाद, इस शेष राशि पर अगला दावा/अधिकार प्राथमिकता के क्रम में ऋणदाताओं की श्रृंखला का होता है। स्वामित्वपूर्ण इक्विटी, परिसंपत्तियों के बदले में किया जाने वाला अंतिम या अवशिष्ट दावा है जिसका भुगतान अन्य सभी ऋणदाताओं को भुगतान कर दिए जाने के बाद ही किया जाता है। कुछ ऐसे मामलें भी देखने को मिलते हैं जहां ऋणदाताओं को भी अपनी हुंडियों (बिल) का भुगतान करने लायक पर्याप्त पैसा नहीं मिल पाता है, तो ऐसे मामले में मालिकों की इक्विटी की प्रतिपूर्ति के लिए कुछ नहीं बचता है। इस प्रकार मालिकों की इक्विटी घटकर शून्य हो जाती है। स्वामित्वपूर्ण इक्विटी को जोखिम पूंजी, देय पूंजी और इक्विटी के नाम से भी जाना जाता है।

इक्विटी निवेश[संपादित करें]

इक्विटी निवेश आम तौर पर स्टॉक के मूल्य में वृद्धि होने पर लाभांशों एवं पूंजी लाभ से आय की उम्मीद में व्यक्तियों एवं व्यावसायिक-प्रतिष्ठानों द्वारा शेयर बाज़ार के स्टॉक से शेयर की खरीदारी और धारण को संदर्भित करता है। यह कभी-कभी किसी निजी (असूचीबद्ध) कंपनी या किसी स्टार्टअप (आरंभिक कंपनी) (निर्मित हो रही या नवनिर्मित कंपनी) की इक्विटी (स्वामित्वपूर्ण) भागीदारी के अधिग्रहण को भी संदर्भित करता है। अल्पव्यस्क कंपनियों में किए जाने वाले निवेश को उद्यम पूंजी निवेश के रूप में संदर्भित किया जाता है और इस तरह के निवेश को आम तौर पर सूचीबद्ध उन्नतिशील व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में किए जाने वाले निवेश की तुलना में अधिक जोखिमपूर्ण समझा जाता है।

निजी व्यक्तियों द्वारा धारण की गई इक्विटियों को प्रायः म्युचुअल फंड (पारस्परिक निधि) या अन्य तरह की सामूहिक निवेश योजनाओं के माध्यम से धारण किया जाता है जिसमें से कई इक्विटियों के उद्धृत मूल्य होते हैं जिन्हें वित्तीय अख़बारों या पत्रिकाओं में सूचीबद्ध किया जाता है; पारस्परिक निधियों (म्युचुअल फंड) का प्रबंध आमतौर पर प्रमुख निधि प्रबंधन प्रतिष्ठानों (उदाहरणार्थ - स्क्रोडर्स (Schroders), फिडेलिटी इन्वेस्टमेंट्स (Fidelity Investments) या वैनगार्ड ग्रुप (Vanguard Group)) द्वारा किया जाता है। ऐसी धारित राशियां (होल्डिंग्स) व्यक्तिगत निवेशकों को निधि या निधियों के विविधीकरण को और निधि या निधियों के पेशेवर प्रभारी निधि प्रबंधकों के कौशल को प्राप्त करने की अनुमति प्रदान करती हैं। बड़े-बड़े निजी निवेशकों एवं पेंशन फंड द्वारा आम तौर पर इस्तेमाल किए जाने वाले एक विकल्प के तहत प्रत्यक्ष रूप से शेयरों का धारण किया जाता है; संस्थागत वातावरण में अपने खुद के पोर्टफोलियो वाले कई ग्राहकों के पास म्युचुअल फंड जैसे सामूहिक निधियों (पूल्ड फंड) के विपरीत/अलावा पृथक्कृत निधि (सेग्रिगेटेड फंड) नामक विकल्प होते हैं।

एक दीर्घकालिक सरकारी बांड की तुलना में किसी इक्विटी का मूल्य अधिक है या कम, इस बात का आकलन करने के लिए एक गणना की जा सकती है। इसे लब्धि अंतर (यील्ड गैप) या लब्धि अनुपात (यील्ड रेशियो) कहा जाता है। यह एक इक्विटी की लाभांश लब्धि और एक दीर्घकालिक बांड की लाभांश लब्धि का अनुपात है।

लेखांकन[संपादित करें]

वित्तीय लेखांकन में, इसे किसी उद्यम की परिसंपत्तियों में से इसकी सभी देयताओं की कटौती करने के बाद बची हुई परिसंपत्तियों पर मालिकों के ब्याज (लाभ) के रूप में दर्ज किया गया है।[1] यह चार प्राथमिक वित्तीय विवरणों में से एक, तुलन पत्र / वित्तीय स्थिति के विवरण[2] में दिखाई देता है।

स्वामित्वपूर्ण इक्विटी में मूर्त एवं अमूर्त दोनों तरह की वस्तुएं शामिल है (जैसे - ब्रांड के नाम और प्रतिष्ठा / साख).

स्वामित्वपूर्ण इक्विटी के अंतर्गत सूचीबद्ध विवरणों में शामिल है (उदाहरण):

बही मूल्य[संपादित करें]

निम्नलिखित घटनाओं के मामले में इक्विटी का बही मूल्य(अंकित मूल्य) बदल जाएगा:

  • फर्म (व्यावसायिक-प्रतिष्ठान) की देयताओं के सापेक्ष फर्म की परिसंपत्तियों में परिवर्तन. उदाहरण के लिए, एक लाभकारी फर्म को अपने उत्पादों के लिए इसकी उत्पादन लागत से अधिक नकदी प्राप्त होता है और इसलिए लाभ कमाने के चक्कर में यह अपनी परिसंपत्तियों में वृद्धि कर रही है।
  • मूल्यह्रास. उदाहरण के लिए, कल-पुर्जों की कीमत कम होने पर इक्विटी में कमी आएगी जिसे परिसंपत्ति के मूल्य में गिरावट के रूप में पंजीकृत किया जाता है और फर्म के तुलन पत्र के देयताओं वाले हिस्से में शेयरधारकों की इक्विटी में कमी के रूप में दर्ज किया जाता है।
  • नई इक्विटी का निर्गमन, जिससे शेयरधारकों की कुल इक्विटी में वृद्धि होती है और फर्म को नई पूंजी प्राप्त होती है।
  • शेयर पुनर्क्रय, जिसके तहत एक फर्म अपने निवेशकों को पैसे लौटाती है, जिससे परिसंपत्ति वाले हिस्से में वित्तीय परिसंपत्तियों में और देयता वाले हिस्से में शेयरधारकों की इक्विटी में कमी दिखाई देती है। व्यावहारिक प्रयोजनों की दृष्टि से (इसके कर सम्बन्धी परिणामों को छोड़कर), शेयर पुनर्क्रय लाभांश भुगतान की तरह ही होता है, क्योंकि दोनों हालातों में फर्म निवेशकों को उनका पैसा वापस कर देती है। सभी शेयरधारकों को एक लाभांश भुगतान के रूप में तुरंत पैसे देने के बजाय एक शेयर पुनर्क्रय भावी आय एवं वितरण में शेयर की संख्या को कम कर देता है (लेकिन प्रत्येक शेयर के आकार में वृद्धि करता है).
  • अधिमान्य स्टॉक मालिकों को भुगतान किए गए लाभांशों को (सामान्य शेयर मालिकों के नज़रिए से) शुद्ध आय[तथ्य वांछित] में से घटाया जाने वाले वाला खर्च माना जाता है।
  • अन्य कारण. कुछ ख़ास परिस्थितियों में आय विवरण में मूल्यांकित की जा रही परिसंपत्तियां एवं देयताएं बिनी कोई प्रभाव डाले बदल सकती हैं; उदाहरण के लिए, लेखांकन के नियमों में पूर्व क्रियाकलाप के अनुसार परिवर्तन हो सकता है। कभी-कभी अन्य देशों में ख़रीदे गए एवं धारण किए गए परिसंपत्तियों का रूपांतरण विभिन्न विनिमय दरों पर प्रतिवेदित मुद्रा में वापस मिल जाता है जिसकी वजह से इसका मूल्य परिवर्तित हो जाता है।

शेयरधारकों की इक्विटी[संपादित करें]

जब मालिक लोग शेयरधारक हो, तो ब्याज (लाभ) को शेयरधारकों की इक्विटी कहा जा सकता है;[3] लेखांकन एक समान ही रहता है और यह शेयरधारकों में वितरित स्वामित्वपूर्ण इक्विटी बन जाता है। यदि सभी शेयरधारक केवल एक और एक ही वर्ग में होते हैं, तो वे सभी दृष्टिकोणों से स्वामित्वपूर्ण इक्विटी को आपस में बराबर-बराबर बांट लेते हैं। हालांकि, शेयरधारक शेयर के वर्गों एवं विकल्पों के उपयोग के आधार पर विभिन्न प्राथमिकता की श्रेणी के अनुसार भी ऐसा कर सकते हैं। इससे स्टॉक के मूल्यांकन के विश्लेषण के साथ-साथ लेखांकन कार्य भी बहुत पेचीदा हो जाता है।

व्यक्तिगत निवेशक केवल कुल इक्विटी परिवर्तन में ही नहीं, बल्कि इस इक्विटी के अपने निजी हिस्से के मूल्य में होने वाली वृद्धि/कमी में भी रुचि रखते हैं। इक्विटी का यह मेल-मिलाप कुल शेयर के साथ-साथ प्रति शेयर के आधार पर भी किया जाना चाहिए.

  • इक्विटी (वर्ष का आरम्भ)
  • + शुद्ध आय अंतर-निवल रोकड़ जो आपने कमाए
  • - लाभांश आपने अब तक कितना पैसा कमाया या नुकसान किया
  • +/- लाभ/हानि, बाकी शेयरों की संख्या में हुए परिवर्तन से कम या अधिक
  • = इक्विटी (वर्ष का अंत) अगर वर्ष के दौरान आपको अधिक या कम पैसा या कुछ भी नहीं मिलता है

शेयरों का बाज़ार मूल्य[संपादित करें]

शेयर बाज़ार में, प्रत्येक शेयर की बाज़ार कीमत लेखांकन विवरणों में गणना किए गए प्रति शेयर की इक्विटी के समान नहीं होती है। अक्सर काफी ज्यादा लगने वाला स्टॉक मूल्यांकन, कारोबार की परिचालनात्मक नकदीप्रवाह, लाभ और भावी संभावनाओं से संबंधित अन्य विचारों पर आधारित होते हैं; कुछ कारकों को लेखांकन विवरणों से प्राप्त किया जाता है। इस प्रकार, वित्तीय विवरणों में देखी जाने वाली इक्विटी और कारोबार के स्टॉक मूल्यांकन के बीच बहुत कम सम्बन्ध होता है या कोई सम्बन्ध नहीं होता है।

अचल संपत्ति की इक्विटी[संपादित करें]

व्यक्ति, अचल संपत्ति की इक्विटी की गणना करने के लिए बाज़ार मूल्यांकनों का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। एक मालिक किसी संपत्ति में अपनी इक्विटी को उस संपत्ति की बाज़ार कीमत एवं उस संपत्ति से जुड़ी देयता के बीच के अंतर के रूप में संदर्भित करता है (बंधक या घरेलू इक्विटी ऋण).

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. आईएफआरएस (IFRS) की रूपरेखा का उद्धरण: अंतर्राष्ट्रीय लेखा मानक बोर्ड एफ.49(सी)
  2. वित्तीय विवरण
  3. शेयरधारकों के इक्विटी की परिभाषा
  • जॉन मेनार्ड कीन्स (लेखक) की द जनरल थ्योरी ऑफ़ इम्प्लॉयमेंट इंटरेस्ट एण्ड मनी का अध्याय 12, 1936.
  • यस, यू कैन टाइम द मार्केट

!, बेन स्टीन (लेखक) एवं फिल डीमुथ (लेखक), जॉन विले एण्ड सन्स (John Wiley & Sons), 2003, हार्डकवर, 240 पृष्ठ, ISBN 0-471-43016-1

  • द प्रॉफिट मैजिक ऑफ़ स्टॉक ट्रैन्ज़ैक्शन टाइमिंग, जे. एम. हर्स्ट (लेखक), प्रेंटिस-हॉल (Prentice-Hall), 1970.
  • सिक्युरिटी अनैलिसिस: प्रिंसिपल्स एण्ड टेक्नीक्स (द्वितीय संस्करण), बेंजामिन ग्राहम (लेखक) और डेविड डोड (लेखक); (निवेश से पहले कंपनियों का विश्लेषण करने के तरीके का एक पारंपरिक अध्ययन).

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]