स्वर्णिम युग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

चन्द्रगुप्त द्वितीय के शासनकाल को गुप्तों का स्वर्ण युग कहा जाता है क्युकि इस समय साहित्य और कला अपने चरमोत्कर्ष पर था, भारी मात्रा में स्वर्ण सिक्के जारी किए गए थे, पुरोहितों में दान की गई भूमि को कृषि के अधीन लाया गया, रामायण, महाभारत तथा वायु पुराण लिखे गए, महिलाओं की स्थिति में सुधार हुआ उन्हें रामायण महाभारत और भगवान कृष्ण की भक्ति करने की अनुमति थी, बौद्ध धर्म के लिए स्तूप व विहार बनाए गये