स्वर्णिम नियम

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

"दूसरों के साथ वैसा ही व्यवहार करना चाहिए, जैसा अपने साथ चाहते हो" - यही स्वर्णिम नियम (Golden Rule) है। यह सिद्धान्त अधिकांश धर्मों और संस्कृतियों में मौजूद है।

इस सिद्धान्त के दो रूप (सकारात्मक रूप और नकारात्मक रूप) देखने को मिलते हैं-

  • (१) दूसरों के साथ वैसा ही व्यवहार करो जैसा अपने साथ चाहते हो (सकारात्मक रूप)
  • (२) दूसरों के साथ वैसा व्यवहार मत करो जैसा व्यवहार अपने साथ नहीं चाहते हो (नकारात्मक रूप)

सन १९९३ में विश्व के प्रमुख धर्मों के १४३ नेताओं ने स्वर्णिम नियम को " वैश्विक धर्म घोषणा " (Declaration Toward a Global Ethic) के आधार के रूप में स्वीकार किया।[1] [2]ग्रेग एम एपस्टीन के अनुसार 'स्वर्णिम नियम' की संकल्पना सभी धर्मों में थोड़ी-बहुत मात्रा में अवश्य है। लेकिन स्वर्णिम नियम को स्वीकार करने कए लिए "ईश्वर में विश्वास" होना जरूरी नहीं है। [3]

भारतीय धर्मों में स्वर्णिम नियम[संपादित करें]

तस्माद्धर्मप्रधानेन भवितव्यं यतात्मना ।
तथा च सर्वभूतेषु वर्तितव्यं यथात्मनि ॥
(इसलिए धर्म को प्रधान मानते हुए और आत्म-संयम से, सभी प्राणियों के साथ वैसा ही व्यवहार करना चाहिए जैसा अपने साथ करते हैं।)

इसी प्रकार,

श्रूयतां धर्मसर्वस्वं श्रुत्वा चाप्यवधार्यताम्।
आत्मनः प्रतिकूलानि परेषां न समाचरेत्॥ (पद्मपुराण)
(धर्म का सर्वस्व सुनो और सुनकर उसे धारण कर लो। जो अपने प्रतिकूल हो वैसा आचरण दूसरों के साथ नहीं करना चाहिए।)

चाणक्यनीति में कहा गया है-

मातृवत् परदारेषु, परद्रव्येषु लोष्ठवत्।
आत्मवत् सर्वभूतेषु, यः पश्यति सः पण्डितः ॥
(जो दूसरे की पत्नी को माता के समान, दूसरे के धन को मिट्टी के ढेले के समान देखता है और सभी जीवों को अपने समान देखता है, वही पण्डित है।)

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. Towards a Global Ethic (An Initial Declaration) ReligiousTolerance.org. – Under the subtitle, "We Declare," see third paragraph. The first line reads, "We must treat others as we wish others to treat us."
  2. Parliament of the World's Religions – Towards a Global Ethic" (PDF). Archived from the original (PDF) on 11 April 2013. Retrieved 12 September 2013.
  3. Esptein, Greg M. (2010). Good Without God: What a Billion Nonreligious People Do Believe. New York: HarperCollins. p. 115. ISBN 978-0-06-167011-4.