स्वयंपाठी

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

जब कोई विद्यार्थी बिना किसी विद्यालय तथा बिना किसी शिक्षक के द्वारा पढ़ाई करता है तथा स्वयंपाठी का फार्म भर कर पढ़ाई करता है तो उन्हें स्वयंपाठी कहा जाता है।

लाभ[संपादित करें]

  • इससे समय की बचत होती है।
  • स्वयंपाठी बनने से पैसों की भी बचत होती है।

प्रसिद्ध स्वयंपाठी[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]