स्वप्ना पाटकर

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
डा० स्वपना पाटकर
Dr. Swapna Patker
Swapna Patker and Hrishitaa Bhatt (cropped).jpg
स्वप्ना पाटकर
जन्म १६ अप्रैल, १९८२
मुंबई, महाराष्ट्र, भारत
राष्ट्रीयता भारतीय
शिक्षा हार्वर्ड बिज़नेस स्कूल
इन्दिरा गांधी राष्ट्रीय मुक्त विश्‍वविद्यालय
मुंबई विश्वविद्यालय
व्यवसाय फिल्म निर्माता, उद्यमी, लेखिका, गीतकार, मनोचिकित्सक
बच्चे शान पाटकर
वेबसाइट
swapnapatker.com

डा० स्वपना पाटकर (जन्म १६ अप्रैल १९८२)) एक भारतीय लेखिका, गीतकार, फिल्म निर्माता, उद्यमी, एवं मनोचिकित्सक हैं, जो मुख्यत: हिंदूहृदय सम्राट शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के जीवन पर आधारित २०१५ की मराठी भाषा फिल्म बालकडू के लिए बतौर निर्माता के तौर पर जानी जाती हैं।[1][2][3] वे जीवन फंडा, आनंदी जीवनाची गुरूकिल्ले नामक पुस्तक की लेखिका एवं मनोचिकित्सक संस्थान माइंडवर्क्स ट्रेनिंग सिस्टम की कार्यकारिणी निर्देशक हैं।[4][5][6]

जीवन परिचय[संपादित करें]

स्वपना पाटकर आर्टस से समाज शास्त्र मे स्नातक (बी.ए.) एवं मनोविज्ञानधर्म में परास्नातक (एम.ए.) किया हैं। बाद मे इग्नू से मनोविज्ञान में मास्टर ऑफ साइंस की डिग्री प्राप्त की। इन्होंने मीडिया प्रंबधन मे एम.बी.ए. और हार्वर्ड बिजनेस स्कूल से स्पिरिच्युअलिटी इन बिजनेस विषय पर पीएचडी किया हैं। वें शिवसेना प्रवक्ता एवं राज्य सभा सांसद संजय राउत की बेटी हैं।

करियर[संपादित करें]

फिल्म निर्माण[संपादित करें]

स्वप्ना पाटकर और संजय दत्त

स्वपना पाटकर ने सन २०१५ में शिवसेना संस्थापक एवं प्रख्यात राजनीतज्ञ बाल ठाकरे के जीवन और उनके आदर्श व मूल्यो पर आधारित फिल्म का निर्माण किया, जिसे मराठी दर्शको द्वारा अत्यधिक सराहना मिली। इन्होंने बालकडू में गीत भी लिखे है। वें द रॉयल मराठा एंटरटेनमेन्ट नामक प्रोडक्शन हाउस की मुख्य प्रबंध निर्देशक हैं। फिलहाल वें अपनी आगामी फिल्म के लिए कार्यरत हैं।[7][8]

उद्योग[संपादित करें]

डॉ॰ पाटकर एक जानी मानी उद्यमी भी हैं, जो मुंबई स्थित प्रसिद्ध रेस्ट्राँ सैफ्रॉन १२ की संस्थापक हैं, जिसकी स्थापना २०१३ में हुआ।[9][10][11]

लेखन[संपादित करें]

वर्ष २०१३ में अमेय प्रकाशन द्वारा इनकी पुस्तक जीवन फंडा, आनंदी जीवनाची गुरूकिल्ले प्रकाशित हुई।[12] [13] वे हार्वर्ड जरनल, सामना, मराठी माटी, बी पॉजिटिव मैगजिन जैसे कई पत्र- पत्रिकाओ के लिए लेख लिखती हैं।[14][15]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "A treat for city gourmets". मिड डे. ३० अप्रैल २०१३.
  2. "Music Launch Of 'Balkadu'". ZeeTalkies. जनवरी २०१५.
  3. "Film Reviews: A case of wishful thinking". PuneMirror. २३ जनवरी २०१५.
  4. Keertikumar Kadam (२३ जनवरी २०१५). "'Balkadu' inspires 'Marathi Manoos', to fight injustice". marathimovieworld.
  5. Nandini Ramnath (२२ जनवरी २०१५). "New movie celebrating Shiv Sena chief Bal Thackeray delivers bitter dose of ideology". Scroll.in.
  6. "बाळासाहेबांच्या जयंतीला घुमणार वाघाची डरकाळी, पाहा बाळकडूचा TRAILER". दिव्य भास्कर. ३१ दिसंबर २०१४.
  7. "बाळकडू : पुन्हा एकदा घुमणार बाळासाहेबांचा आवाज!". ज़ी न्यूज़. ३० दिसंबर २०१४.
  8. सागर मालाडकर (२४ जनवरी २०१५). "चित्रपट बाळकडू – प्रेक्षकांसाठी कडू डोस". मराठी श्रुष्टि.
  9. "A saffron soiree". टाइम्स ऑफ़ इंडिया. १२ मार्च २०१३.
  10. Soma Das (१४ मार्च २०१४). "Mahim eatery Saffron 12 is a mixed bag of delights". मिड डे.
  11. "Launch: 'Saffron 12'". नवभारत टाइम्स . १० मार्च २०१३.
  12. "जीवनफंडा या पुस्तकाचे प्रकाशन". Marathi Mati. 29 December 2013.
  13. "स्वप्ना पाटकर यांच्या `जीवन फंडा'चे प्रकाशन". Navshakti. 23 December 2013.
  14. "Jeevanfunda". Ameya Prakashan.
  15. "Swapna Patker's columns". Marathi Mati.


बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]