स्मार्ट इंडिया हैकथॉन 2017

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन 2017 ऐसा आयोजन है जिसमे 42,000 से अधिक प्रतिभागी ,प्रधानमन्त्री नरेन्द्र मोदी की पहल पर ,तकनीकी समस्याओं की पहचान कर समाधान खोजने की कोशिश करते हैं। यह आयोजन पूरे भारत के 26 शहरों में आयोजित किया जा रहा है। प्रधान मंत्री मोदी ने स्मार्ट इंडिया हैैकथॉन में 10,000 से अधिक प्रतिभागियों को संबोधित किया था[1]

उद्देश्य[संपादित करें]

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन नवाचार को बढ़ावा देने के लिए मानव संसाधन विकास मंत्रालय की पहल है। प्रधानमंत्री द्वारा दिन-प्रतिदिन की समस्याओं को हल करने के लिए सूचना प्रौद्योगिकी के उपयोग में बढ़ोतरी के लिए जोर देना जिसमें छात्र एवं प्रौद्योगिकी के जानकार सहायता करें।[2]

सम्मानित सॉफ़्टवेयर का उपयोग संबंधित मंत्रालय या विभाग द्वारा भी किया जाएगा ताकि उपयुक्त उन्नयन के साथ, यदि आवश्यक हो, तो उनके शासन प्रणाली को बेहतर बनाने के लिए किया जाएगा।

पृष्ठभूमि[संपादित करें]

स्मार्ट इंडिया हैकथॉन -2017 का 9 नवंबर, 2016 को नई दिल्ली में शुभारंभ किया गया। जिसका उद्देश्‍य छात्रों की रचनात्‍मकता और विशेषज्ञता को बढ़ावा देने के साथ-साथ 'स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया' अभियान के लिए तैयार करना, सुशासन में सुधार लाना और जीवन की गुणवत्‍ता के लिए भीड़ स्रोतों के समाधान जुटाना था। यह भारत की चुनौतीपूर्ण समस्‍याओं के नवाचारी समाधानों को भी उपलब्‍ध कराता है। 29 मंत्रालय / विभागों द्वारा पहचान की गई 598 समस्‍याओं के लिए प्राप्‍त 7531 विचारों में से 1266 विचारों का ग्रांड फिनाले के लिए चयन किया गया है। इस प्रकार स्‍मार्ट इंडिया हैकथॉन 2017 भारत में पहली व्‍यापक स्‍तर की हैकथॉन पहल है। [3]

मेजबान[संपादित करें]

गुवाहाटी :पूर्वोत्तर क्षेत्र विकास मंत्रालय, मानव संसाधन विकास मंत्रालय के अधीन अखिल भारतीय तकनीकी शिक्षा परिषद (एआईसीटीई) के साथ मिलकर स्मार्ट इंडिया हैकथॉन -2017 के ग्रैंड फिनाले की 1 से 2 अप्रैल, 2017 को गुवाहाटी के गिरिजानंद चौधरी इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट एंड टेक्नोलॉजी (जीआईएमटी) में मेजबानी की।

नागपुर: श्री रामदेवबाबा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट, नागपुर 1 और 2 अप्रैल को स्मार्ट इंडिया हैकथॉन 2017 के ग्रैंड फिनलेल में मेजबानी की। नागपुर 26 शहरों में से एक है जहां इस कार्यक्रम को एक साथ आयोजित किया गया , जिसमें 29 सरकारी विभागों के समर्थन और समन्वय थे। सड़क, परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी, 1 अप्रैल को नागपुर में आयोजित होने वाले कार्यक्रम का उद्घाटन किया , इसके बाद केंद्रीय मानव संसाधन विकास मंत्री प्रकाश जावडेकर का लाइव वेबकास्ट के जरिए दिल्ली में छात्रों को संबोधित किया। अनिल सहस्त्रबुद्धे, अध्यक्ष, एआईसीटीई, स्मार्ट इंडिया हैकथॉन और आनंद देशपांडे, स्थायी वेबकास्ट के दौरान सतत सिस्टम के प्रबंध निदेशक उपस्थित रहे।

नई दिल्ली:स्मार्ट इंडिया हैकथॉन 2017 9 नवंबर, 2016 को नई दिल्ली में मानव संसाधन विकास मंत्रालय ने विद्यार्थियों की रचनात्मकता और विशेषज्ञता का इस्तेमाल करने के लिए, 'स्टार्टअप इंडिया, स्टैंडअप इंडिया' अभियान, शासन को सुधारने के लिए , स्रोत समाधान बनाने और जीवन की गुणवत्ता और राष्ट्र निर्माण के लिए अभिनव समाधानों में योगदान करने के लिए नागरिकों को अवसर प्रदान किया।

कोच्चि:पर्यटन मंत्रालय ने 1 अप्रैल, 2017 को कोच्चि, केरल में "स्मार्ट इंडिया हैकथॉन" के ग्रैंड फाइनल की मेजबानी की , जिसमें देश भर में टेक्नोलॉजी इंस्टीटमेंट / इंजीनियरिंग कॉलेजों से 230 छात्र शामिल होने वाली 53 टीमें शामिल हैं। टूरिज्म क्षेत्र के लिए हैंकथॉन, जिसे बासेलियस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस [एमबीआईटीएस], कोठमंगलम, कोचीन में आयोजित किया गया , पर्यटन मंत्रालय द्वारा सुरक्षा क्षेत्र से संबंधित समस्या को हल करने के लिए प्रयास किये गए।

पर्यटन क्षेत्र से संबंधित समस्या व् उद्योग की आवश्यकताओं के आधार पर पर्यटन मंत्रालय द्वारा सीधे दिशानिर्देश दिए गए थे जिनका उपयोग छात्रों को नए डिजिटल समाधानों के विकास के लिए चुनौती देने के लिए किया जाएगा। नोडल सेंटर

मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
कॉलेज / स्थान
1 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
नागरिक उड्डयन प्रशिक्षण संस्थान
2 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
जेएसएस अकादमी ऑफ टेक्निकल एजुकेशन
3 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
प्रिंस वेलिंगकर इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट डेवलपमेंट एंड रिसर्च
4 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
सीवी। रमन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
5 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
नई दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (एनडीआईएम)
6 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
श्री वेंकटेश्वरा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
7 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
सीवीआर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
8 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
जयपुर इंजीनियरिंग कॉलेज और अनुसंधान केंद्र (जेईसीआरसी)
9 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
जयपुर इंजीनियरिंग कॉलेज और अनुसंधान केंद्र (जेईसीआरसी)
10 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
राजधनी इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी संस्थान
11 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
सीवी। रमन कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
12 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
गुरुनाथक इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
13 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
गुजरात विश्वविद्यालय कन्वेंशन सेंटर
14 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
बीवीबी कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग एंड टेक्नोलॉजी
15 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
गिरिजान्ंद चौधरी प्रबंधन और प्रौद्योगिकी संस्थान
16 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
श्री शिवसुब्रमण्य नादर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
17 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग पुणे
18 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
श्री कृष्णा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग और प्रौद्योगिकी
19 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
नई दिल्ली इंस्टीट्यूट ऑफ मैनेजमेंट (एनडीआईएम)
20 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
अमृतसर कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग
21 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
राज कुमार गोयल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी और एमजीएमटी
22 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
टेक्नो इंडिया एनजेआर इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी
23 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
श्री रामदेवबाबा कॉलेज ऑफ इंजीनियरिंग और मैनेजमेंट
24 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
चंडीगढ़ ग्रुप ऑफ कॉलेजेस
25 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
ओरिएंटल विश्वविद्यालय
26 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
मार्स बासेलियस इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी एंड साइंस
27 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
सागर अनुसंधान एवं प्रौद्योगिकी संस्थान
28 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
कोनरूलक्ष्माय्याह शिक्षा फाउंडेशन (केएल यूनिवर्सिटी)
29 मंत्रालय का नाम भारतीय हवाई अड्डा प्राधिकरण स्थान शहर इलाहाबाद
मणिपाल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्नोलॉजी (मणिपाल विश्वविद्यालय)

निष्पादन[संपादित करें]

पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास मंत्रालय इस पहल में एक भागीदार है और इसने 11 समस्याओं की पहचान की है, जिन पर मंत्रालय द्वारा (प्रति टीम 6 छात्र और 2 सलाहकार) के हिसाब से 31 टीमों का चयन किया है, जो जीआईएमटी गुवाहाटी में नवाचारी डिजिटल समाधान तैयार कर रही है। जीआईएमटी गुवाहाटी को देश के 26 अन्य नोडल केंद्रों में पूर्वोत्‍तर क्षेत्र का एक मात्र नोडल केंद्र बनाया गया है। दो दिवसीय आयोजन में 10,000 से अधिक प्रतिभागी ने पूरे देश में स्‍थित 26 स्‍थानों पर विभिन्‍न मंत्रालयों/विभागों द्वारा पहचान की गई समस्‍याओं के बारे में उत्‍पाद/समाधान के निर्माण के लिए 36 घंटे तक लागातर काम किया। विभिन्‍न श्रेणियों में विजेता को 1,00,000 रुपये, प्रथम रनर-अप को 75,000 रुपये और दूसरे रनर-अप को 50,000 रुपये के पुरस्‍कार दिए जाएंगे। दूसरे रनर-अप को नैस्‍कॉम के 10,000 स्टार्टअप्स कार्यक्रम का हिस्सा बनने का मौका भी मिलेगा। समापन की तैयारी के लिए, छात्रों को इस उद्देश्य के लिए नियुक्त लगभग 2110 सलाहकारों द्वारा ऑनलाइन प्रशिक्षण दिया गया था। समापन के दौरान, चयनित समूहों को 36 घंटे के लिए लॉक-इन किया जाएगा और प्रोग्रामिंग के माध्यम से समस्या समाधान के लिए पूरी तरह से डिजिटल समाधान कंप्यूटर सॉफ्टवेयर या मोबाइल एप बनाया जाएगा। 36 घंटे की नॉन-स्टॉप डिजिटल प्रोग्रामिंग प्रतियोगिता शनिवार सुबह 8 बजे से देश के 26 अलग-अलग स्थानों पर शुरू की गई, जिसमें एक केंद्रीय विभाग या मंत्रालय द्वारा संचालित प्रत्येक स्थान पर है। शीर्ष तीन टीमों को अनुक्रमे 1 लाख, 75,000 और 50,000 रुपये का पुरस्कार दिया जाएगा और इस तरह से दिए गए डिजिटल समाधान मंत्रालयों / विभागों द्वारा उपयुक्त उन्नयन के साथ अपने शासन प्रणाली में सुधार के लिए इस्तेमाल किया जाएगा। सभी पुरस्कार विजेताओं को इनोवेटिव माइंड्स के एक समुदाय के रूप में जोड़ा जाएगा। हैथॉन का उद्देश्य देश में पेटेंट के बारे में जागरूकता में सुधार करना है। विश्व बौद्धिक संपदा संगठन (डब्लूआईपीओ) के अनुसार, भारत प्रति मिलियन आबादी में 40 पेटेंट पंजीकृत करता है।[4] विभिन्न मंत्रालयों के तहत 21 9 विभागों ने 598 समस्याएं प्रस्तुत कीं, जिनके लिए उनके पास डिजिटल समाधान नहीं है और जिसके कारण इसमें अक्षमता, राजस्व हानि और भ्रष्टाचार है।[5]

इस क्षेत्र में 674 में से 84 टीमों ने सड़क और परिवहन समस्याओं को हल करने में अधिकतम रूचि दिखाई जिससे यह फाइनल में पहुंची थी।

टिप्पणियां[संपादित करें]

पूर्वोत्‍तर क्षेत्र विकास (स्‍वतंत्र प्रभार), प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, लोक शिकायत और पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्‍यमंत्री डॉ जितेंद्र सिंह ने स्‍मार्ट इंडिया हैकथॉन 2017 के बारे में अपने संदेश में कहा कि उपयुक्‍त प्रौद्योगिकियों के साथ डिजिटल समाधान में पूर्वोत्‍तर राज्‍यों में विकास समाधानों को उत्प्रेरित करने की क्षमता है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. [1]
  2. [2]
  3. [3] प्रेस इनफार्मेशन ब्यूरो
  4. [4]
  5. [5]