स्पार्टाकस

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
स्पार्टाकस
Spartacus statue by Denis Foyatier.jpg
स्पार्टाकस, मूर्तिकार डेनिस फोयाटियर 1830 में।
युद्ध/झड़पें तीसरा सर्विले युद्ध

स्पार्टाकस (यूनानी : Σπάρτακος, Spártakos', लातिन : Spartacus[1]) (लगभग. 109 ई.पू. - 71 ई.पू.) रोमन साम्राज्य के खिलाफ एक व्यापक दास विद्रोह में जिसे तीसरा दास युद्ध कहा जाता है, दासों का सबसे उल्लेखनीय नेता था। स्पार्टाकस के बारे में युद्ध की घटनाओं से परे ज्यादा कुछ ज्ञात नहीं है और उपलब्ध ऐतिहासिक विवरण कभी-कभी विरोधाभासी हो जाते हैं और हमेशा विश्वसनीय नहीं हो सकते। वह एक निपुण सैन्य नेता था।

स्पार्टाकस के संघर्ष ने 19 वीं सदी के बाद से आधुनिक लेखकों के लिए नए मायने अख्तियार किये हैं, जिसे अभिजात वर्ग के दास मालिकों के खिलाफ पददलित लोगों द्वारा अपनी स्वतंत्रता हासिल करने के लिए लड़ी गई लड़ाई के रूप में देखा जाता है। स्पार्टाकस का विद्रोह कई आधुनिक राजनीतिक और साहित्यिक लेखकों के लिए प्रेरणादायक सिद्ध हुआ है, जिससे स्पार्टाकस प्राचीन और आधुनिक, दोनों संस्कृतियों में एक लोक नायक बन कर उभरा है।

मूल[संपादित करें]

सियन जनजाति, मेडी के साथ

प्राचीन सूत्रों का मानना ​​है कि स्पार्टाकस थ्रेसियन था। प्लूटार्क ने उसे "खानाबदोश तबके का थ्रेसियन" वर्णित किया है।[2] अप्पियन का कहना है की वह "जन्म से एक थ्रेसियन था, जो कभी रोम का एक सैनिक हुआ करता था, लेकिन उसके बाद से उसे कैदी बना लिया गया और एक ग्लैडीएटर के रूप में बेच दिया गया.[3] फ्लोरस (2.8.8) ने उसे एक ऐसे व्यक्ति के रूप में वर्णित किया है "जो भाड़े का थ्रेसियन सैनिक है और रोमन सेना में शामिल हो जाता है और सैनिक के बाद एक भगोड़ा और एक डाकू बन जाता है और तत्पश्चात अपनी शक्ति को देखते हुए एक ग्लैडीएटर बन जाता है".[4] कुछ लेखक, मेडी की थ्रेसियन जनजाति का उल्लेख करते हैं,[5] जो ऐतिहासिक समय में थ्रेस (वर्तमान में दक्षिण-पश्चिमी बुल्गारिया) के दक्षिणी-पश्चिमी क्षेत्र पर वास करती थी।[6][7][8] प्लूटार्क भी लिखते हैं कि स्पार्टाकस की पत्नी, जो मेडी जनजाति की एक नबिया थी, उसके साथ ग़ुलाम बना ली गयी थी।

स्पार्टाकस नाम वैसे काले सागर क्षेत्र में साक्ष्यांकित है: सिमेरियन बोस्पोरस[9] और पोंटस[10] के थ्रेसियन राजवंश के राजा इस नाम को धारण करते थे और एक थ्रेसियन "स्पार्टा" "स्पार्डाकस"[11] या "स्पराडोकोस"[12], ओड्रिसे के सुथेस I के पिता के बारे भी ज्ञात है।

दासता और पलायन[संपादित करें]

100 BC में रोमन गणराज्य

भिन्न स्रोतों और उनकी व्याख्या के अनुसार, स्पार्टाकस या तो रोमन फ़ौज का एक सहायक था जिसे बाद में दास बना लिया गया या फिर फ़ौज द्वारा बनाया गया एक बंदी था।[13] स्पार्टाकस को कापुआ के नज़दीक लेंटुलस बटिआटस के ग्लैडीएटर स्कूल (लुडस) में प्रशिक्षित किया गया था। 73 ई.पू. में स्पार्टाकस, ग्लेडियेटरों के उस समूह का हिस्सा था जो भागने की योजना बना रहे थे। यह षड्यंत्र विफल हो गया लेकिन करीब 70[14] पुरुषों ने रसोई के औज़ार ज़ब्त कर लिए, लड़ाई करते हुए स्कूल से निकल गए और ग्लैडीएटर हथियारों और कवच से भरे कई वाहनों पर कब्ज़ा कर लिया।[15] बच कर भागे हुए दासों ने उस छोटी टुकड़ी को पराजित कर दिया जिसे उनके पीछे भेजा गया था। उन्होंने कापुआ के आसपास के क्षेत्रों में लूटपाट की, कई अन्य दासों को अपने दल में भर्ती किया और अंततः विसुवियस पर्वत पर एक अधिक सुरक्षात्मक स्थिति में डेरा जमाया.[16][17]

मुक्त होने के बाद भागे हुए ग्लेडियेटरों ने स्पार्टाकस और दो ​​फ्रांसीसी दासों - क्रिक्सस और ओनोमाउस - को अपने नेता के रूप में चुना। हालांकि रोमन लेखकों का अनुमान है कि ये दास सजातीय समूह के थे जिनका नेता स्पार्टाकस था और हो सकता है उन्होंने दासों के स्वतःप्रवर्तित संगठन पर सैन्य नेतृत्व की अपनी स्वयं की पदानुक्रमिक व्यवस्था लागू की होगी, तथा अन्य दास नेताओं को अधीनस्थ पदों पर रखा होगा। क्रिक्सस और ओनोमाउस - और बाद में, कास्टस - के पदों को स्रोतों द्वारा स्पष्ट रूप से निर्धारित नहीं किया जा सका।[कृपया उद्धरण जोड़ें]

तृतीय दास युद्ध[संपादित करें]

इस विषय पर अधिक जानकारी हेतु, Third Servile War पर जाएँ

रोम की प्रतिक्रिया रोमन फ़ौज की गैर-मौजूदगी के कारण बाधित हुई, जो स्पेन में विद्रोह और तृतीय मिथ्रीडेटिक युद्ध में पहले से ही फंसी हुई थी। इसके अलावा, रोम ने इस विद्रोह को किसी युद्ध के बजाये एक पुलिसिया मामला समझा. रोम ने प्रेटर गयुस क्लौडियस ग्लबेरस की कमान में नागरिक सेना को भेजा, जिसने पहाड़ पर दासों को घेर लिया, जिसका अंदेशा था कि भुखमरी से मजबूर होकर दास आत्मसमर्पण कर देंगे। उन्हें उस वक्त काफी आश्चर्य हुआ जब उन्होंने देखा कि स्पार्टाकस के पास दाखलताओं से बनी रस्सियां हैं, जिसकी मदद से वह अपने साथियों के साथ ज्वालामुखी वाले चट्टान की ओर से नीचे उतरा और असुरक्षित रोमन शिविर पर हमला बोल दिया और उनमें से ज्यादातर को मार दिया। [18] दासों ने दूसरे अभियान को भी पराजित कर दिया और प्रेटर कमांडर को लगभग पकड़ ही लिया था, उसके सहयोगी की हत्या कर दी और सैन्य उपकरणों पर कब्जा कर लिया।[19] इन सफलताओं के साथ, एक बाद एक दास स्पार्टाकन सेना में शामिल होने लगे और साथ में "उस क्षेत्र के कई गड़ेरियों और चरवाहों ने भी ऐसा ही किया और उनकी कुल संख्या बढ़कर 70,000 हो गयी।[20]

इन झड़पों में स्पार्टाकस एक उत्कृष्ट रणनीतिज्ञ साबित हुआ, जिसका मतलब था कि उसके पास सेना का पूर्व अनुभव था। हालांकि दासों के पास सैन्य प्रशिक्षण का अभाव था, उन्होंने अनुशासित रोमन सेनाओं के साथ सामना होने पर उपलब्ध स्थानीय सामग्री के कुशल उपयोग और असामान्य रणनीति का प्रदर्शन किया।[21] उन्होंने 73-72 ई.पू. की सर्दियों में नए शामिल दासों को प्रशिक्षण, हथियार और नए औजार मुहैय्या कराये और अपने छापामार क्षेत्रों का विस्तार करते हुए उसमें नोला, नुसेरिया, थुरी और मेटापोंटम के शहरों को शामिल किया।[22] इन स्थानों के बीच की दूरी और बाद की घटनाओं से पता चलता है कि दास दो समूहों में कार्य करते थे जिसका नेतृत्व स्पार्टाकस और क्रिक्सस के आलावा अन्य नेता करते थे।

72 ई.पू. के वसंत में, दासों ने सर्दियों के अपने अड्डों को छोड़ दिया और उत्तर की ओर बढ़ने लगे. उसी समय, रोमन सीनेट, जो प्रेटर सेना की हार से चिंतित हो गई थी, उसने लुसिअस गेलिअस पुब्लिकोला और नाउस कौर्नेलिअस लेंटुलस क्लोडीएनस की कमान में एक जोड़ी दंडाधिकारी फ़ौज भेजी.[23] इन दो टुकड़ियों को शुरुआत में सफलता मिली - जिन्होंने क्रिक्सस और माउंट गर्गेनस की कमान के 30,000 दासों को हरा दिया[24] - लेकिन फिर स्पार्टाकस से हार गए। इन पराजयों को अप्पियन और प्लूटार्क द्वारा युद्ध के दो सबसे व्यापक (मौजूद) इतिहास में विभिन्न तरीकों से दर्शाया गया है।[25][26][27][28]

इस बढ़ते विद्रोह से चिंतित होकर सीनेट ने इस विद्रोह को समाप्त करने के लिए मार्कस लिसिनियस क्रासस को इस कार्य पर लगाया, जो रोम का सबसे धनी व्यक्ति था और वही एकमात्र व्यक्ति था जो इस काम के लिए आगे आया। क्रासस के जिम्मे आठ टुकड़ियों को सौंपा गया, लगभग 40,000-50,000 प्रशिक्षित रोमन सैनिक,[29][30] जिनके ऊपर उसने कठोर, यहां तक कि क्रूर अनुशासन लागू किया और इकाई विनाश की सज़ा को पुनर्जीवित किया।[31] जब स्पार्टाकस और उनके अनुयायी, जो अस्पष्ट कारणों से इटली के दक्षिण में पीछे हट गए थे, 71 ई.पू. के आरंभ में फिर से उत्तर की ओर बढ़े, तो क्रासस ने अपनी छः टुकड़ियों को उस क्षेत्र की सीमाओं पर तैनात कर दिया और अपने दूत मुमिअस की दो टुकड़ियों के साथ स्पार्टाकस को पीछे से घेरने के लिए चल दिया। हालांकि मुमिअस को दासों के साथ उलझने से मना किया गया था, उसने लगभग सही अवसर पर हमला किया, लेकिन हार गया। [32] इसके बाद, क्रासस की टुकड़ियां कई मोर्चों पर विजयी रही और उसने स्पार्टाकस को दक्षिण में लुसानिया में पीछे धकेल दिया। 71 ई.पू. के अंत तक, स्पार्टाकस रेगियम (रेगियो कलाब्रिया) में मैसिना के जलडमरूमध्य के पास डेरा डाले हुए था।

प्लूटार्क के अनुसार, स्पार्टाकस ने सिलिसिया के समुद्री डाकुओं के साथ एक सौदा किया था कि वे उसे और उसके 2000 साथियों को सिसिली पहुंचाएंगे जहां उसका इरादा एक दास विद्रोह भड़काने और सहायता पाने का था। हालांकि, उसे डाकुओं द्वारा धोखा दे दिया गया, जिन्होंने उससे भुगतान ले लिया और फिर छोड़ कर चले गए।[32] कुछ स्रोतों का उल्लेख है कि विद्रोहियों द्वारा वहां से बच निकलने के लिए बेड़े और जहाज बनाने का प्रयास हुआ लेकिन क्रासस ने अनिर्दिष्ट उपाय किये ताकि यह सुनिश्चित हो जाए कि विद्रोही सिसिली ना जा पायें और उन्हें अपना प्रयास छोड़ना पड़ा.[33] स्पार्टाकस की सेना तब रेगिअम की ओर चली. क्रासस की टुकड़ी ने पीछा किया और वहां पहुंचने पर विद्रोही दासों के उत्पाती छापों के बावजूद रेगिअम में इष्ट्मस के चरों ओर किलेबंदी कर दी। विद्रोहियों को घेरे लिया गया और उनकी आपूर्ति काट दी गई।[34]

स्पार्टाकस का पतन

इस समय तक पोम्पे की टुकड़ी स्पेन लौट चुकी थी और उसे क्रासस की सहायता करने के लिए दक्षिण कूच करने का सीनेट का आदेश मिला। [35] जबकि क्रासस को आशंका थी कि पोम्पे के आगमन से उसे इस काम का श्रेय लेने में मुश्किल होगी, स्पार्टाकस ने क्रासस के साथ एक समझौते को अंजाम देने की कोशिश की लेकिन असफल रहा। [36] जब क्रासस ने इनकार कर दिया, तो स्पार्टाकस की सेना का एक हिस्सा ब्रुटिअम में पटेलिया (आधुनिक स्ट्रोंगोली) के पश्चिम की ओर पहाड़ों में भाग गया और क्रासस की सेना ने उसका पीछा किया।[37] जब टुकड़ी ने मुख्य सेना से अलग हुए विद्रोहियों के एक हिस्से को घेर लिया तो[38] स्पार्टाकस के बलों के बीच अनुशासन टूट गया और छोटे-छोटे समूहों ने आने वाली टुकड़ी पर स्वतंत्र रूप से हमला करना शुरू कर दिया। [39] स्पार्टाकस ने अब अपनी सेना को फैला दिया और अपनी पूरी ताकत को फ़ौज के खिलाफ आखिरी बार उतारा जिसमें दासों का पूरी तरह सफाया कर दिया गया और उनके अधिकांश हिस्से को रणभूमि में मार दिया गया। [40] खुद स्पार्टाकस का क्या हुआ यह अज्ञात है, क्योंकि उसका शरीर नहीं मिला, लेकिन इतिहासकारों का कहना है कि वह भी अपने साथियों के साथ लड़ाई में मारा गया। [41] क्रासस की फ़ौज द्वारा बंदी बनाए गए छः हज़ार दासों को रोम से लेकर कापुआ तक अप्पियन मार्ग पर क्रूस पर चढ़ा दिया गया। [42]

उद्देश्य[संपादित करें]

शास्त्रीय इतिहासकार इस बात पर विभाजित हैं कि स्पार्टाकस की मंशा क्या थी। जबकि प्लूटार्क लिखते हैं कि स्पार्टाकस केवल उत्तर की ओर सिसलपाइन गौल भागना चाहता था और अपने साथियों को उनके घर भेजना चाहता था,[43] अप्पियन और फ्लोरस ने लिखा है कि वह खुद रोम पर कब्जा करने का इरादा रखता था।[44] अप्पियन का यह भी कहना है कि उसने बाद में इस लक्ष्य को छोड़ दिया, जो रोमन भय को ही प्रतिबिंबित करता है। स्पार्टाकस की कोई भी कार्रवाई यह संकेत नहीं देती है कि वह रोमन समाज को सुधारना अथवा दास प्रथा की समाप्ति करना चाहता था, जैसा कि कई काल्पनिक विवरणों में चित्रित किया जाता है, उदाहरण के लिए 1960 की फिल्म स्पार्टाकस में.

73 ई.पू. के उत्तरार्ध और 72 ई.पू. के पूर्वार्ध की घटनाओं पर आधारित तथ्य यह सुझाव देते हैं कि दासों के ऐसे समूह थे जो स्वतन्त्र संचालन[45] कर रहे थे और प्लूटार्क का बयान है कि भागे हुए दासों में से कुछ ने आल्प्स जाने की बजाये इटली में लूटपाट करना पसंद किया[43], आधुनिक लेखकों ने एक गुटीय विभाजन का अनुमान लगाया है जिसके तहत जो दास स्पार्टाकस के साथ थे वे आल्प्स जा कर स्वतंत्र हो जाना चाहते थे जबकि क्रिक्सस के तहत जो दास थे वे दक्षिणी इटली में रह कर लूट जारी रखना चाहते थे।

विरासत[संपादित करें]

राजनीति[संपादित करें]

  • हैती में दास विद्रोह का नेतृत्व हेनरी क्रिस्टोफर ने किया था जिसे बाद में टुसेन्ट एल 'ओवेर्टर ने जारी रखा। टुसेन्ट एल 'ओवेर्टर, जिसका उत्तराधिकारी जीन जैक्स देसालिन्स (1791-1804) बना, उसे उसके द्वारा पराजित एक विरोधी द्वारा "अश्वेत स्पार्टाकस" कहा जाता था, कोम्टे डे लवौक्स द्वारा .
  • बवेरियन इलुमिनाटी के संस्थापक, एडम वाइसहौप्ट, लिखित चर्चा में खुद को अक्सर स्पार्टाकस बताते थे।[46]
  • कार्ल मार्क्स ने अपने नायकों में स्पार्टाकस को सूचीबद्ध किया है,[47] और उसे "सम्पूर्ण प्राचीन इतिहास में सबसे शानदार व्यक्ति वर्णित किया है" और उसे "महान जनरल [हालांकि गैरीबाल्डी नहीं], महान चरित्र, सर्वहारा वर्ग का वास्तविक प्रतिनिधि" बताया है।[48]
  • स्पार्टाकस आधुनिक समय में क्रांतिकारियों के लिए एक महान प्रेरणा रहा है, सबसे उल्लेखनीय रूप से जर्मन स्पार्टासिस्ट लीग के लिए, जो कम्युनिस्ट पार्टी ऑफ़ जर्मनी की अग्रदूत थी, साथ ही 1970 में ऑस्ट्रिया में एक फासीवादी विरोधी संगठन के लिए।
  • बीसवीं सदी में यूरोपीय साम्यवादी शासन ने उत्पीड़न के खिलाफ एक सेनानी के रूप में स्पार्टाकस की छवि को प्रोत्साहित किया (नीचे देखें "खेल", स्पार्टाकस#खेल)
  • जानेमाने लैटिन अमेरिकी मार्क्सवादी क्रांतिकारी चे ग्वेरा भी स्पार्टाकस के प्रबल प्रशंसक थे।

कलात्मक[संपादित करें]

फ़िल्म और टेलीविज़न[संपादित करें]

  • शुरू में एंथनी मान स्पार्टाकस (1960) फिल्म का निर्देशन करने वाले थे, जिसके कार्यकारी-निर्माता और अभिनेता किर्क डगलस थे। यह फिल्म हावर्ड फास्ट के उपन्यास स्पार्टाकस पर आधारित थी। मान और डगलस के बीच फिल्म की शैली और सामग्री को लेकर मतभेद हो गया और मान निर्माण से बाहर चले गए और बाद में इसे अस्वीकार कर दिया। इस फिल्म के वाक्यांश "आई एम स्पार्टाकस!" को कई अन्य फिल्मों, टेलीविजन कार्यक्रमों और विज्ञापनों में सन्दर्भित किया गया है।
  • कुब्रिक की फिल्म की एक अनौपचारिक अगली कड़ी इटली में बनी जिसका शीर्षक था II Figlio di Spartacus (स्पार्टाकस का बेटा ; अंग्रेज़ी सिनेमाई शीर्षक: द स्लेव[49]) 1963 में. नाममात्र का चरित्र, जिसे स्टीव रीव्स द्वारा निभाया गया, पहले रोमन सूबेदार के रूप में प्रकट होता है, लेकिन अंततः उसे अपने असली वंश के बारे पता चलता है और वह अपने पिता के कातिल क्रासस से बदला लेता है।
  • 1985-1987 कार्टून श्रृंखला स्पार्टाकस एंड द सन बिनीद द सी का प्रमुख पात्र स्पार्टाकस पर आधारित है।
  • 1995 की फिल्म क्लूलेस में क्रिस्टियन, स्टेनले कुब्रिक के फ़िल्मी रूपांतरण को अपनी समलैंगिकता को प्रकट करने के एक अभियान के हिस्से के रूप में उपयोग करता है।
  • 1996 की फिल्म द थिंग यु डू में, टॉम एवेरेट स्कॉट का चरित्र, गाइ 'शेड्स' पैटरसन खुद को स्पार्टाकस दर्शाता है।
  • 2003 की फिल्म द रिक्रूट में, कॉलिन फेरेल का किरदार एक कंप्यूटर प्रोग्राम लिखता है जिसका नाम है स्पार्टाकस जो सीआईए का ध्यान आकर्षित करता है।
  • 2004 में, फास्ट के उपन्यास स्पार्टाकस का एक फ़िल्मी रूपांतरण बनाया जाता है, जो यूएसए नेटवर्क द्वारा एक टेलिविज़न फिल्म थी, जिसकी मुख्य भूमिका में गोरान विज्निक थे।
  • 2007-2008 के बीबीसी वृत्तचित्र-नाटक, हीरोज एंड विलेन्स के एक प्रकरण में स्पार्टाकस को दर्शाया गया था।
  • इस शो "Xena: Warrior Princess" के पहले सीज़न में एक प्रकरण है जो कहानी का संक्षिप्त विवरण देता है, जिसमें स्टेनले कुब्रिक की फिल्म के कई दृश्य हैं।
  • सैम रैमी द्वारा निर्देशित और एंडी व्हाईटफील्ड द्वारा अभिनीत टेलीविजन श्रृंखला Spartacus: Blood and Sand का प्रीमियर स्टार्ज़ प्रीमियम केबल नेटवर्क पर जनवरी 2010 को हुआ और इसमें लियाम मेकिंटायर ने बाद में शीर्षक भूमिका निभाई.[50][51]

साहित्य[संपादित करें]

  • हावर्ड फास्ट ने ऐतिहासिक उपन्यास स्पार्टाकस लिखा, जो किर्क डगलस अभिनीत स्टेनली कुब्रिक की 1960 की फिल्म का आधार है।
  • आर्थर कोसलर ने स्पार्टाकस के बारे में एक उपन्यास लिखा जिसका नाम था द ग्लेडियेटर्स .
  • स्कॉटिश लेखक लुईस ग्रासिक गिब्बन ने स्पार्टाकस नाम का एक उपन्यास लिखा था।
  • कोलीन मेकलो के उपन्यास फॉर्च्यून्स फेवरिट्स में स्पार्टाकस एक प्रमुख चरित्र है।
  • इतालवी लेखक रफेलो गिओवाग्नोली ने अपना ऐतिहासिक उपन्यास, स्पार्टाकस 1874 में लिखा. उनके उपन्यास को बाद अनुदित और कई यूरोपीय देशों में प्रकाशित किया गया।
  • पोलिश लेखक हलीना रुडनिका का उपन्यास Uczniowie Spartakusa स्पार्टाकस के छात्र है।
  • रेवरेंड एलिजाह केलॉग के स्पार्टाकस टु द ग्लेडियेटर्स एट कपुआ का इस्तेमाल स्कूली बच्चों ने प्रभावी वक्तृत्व कौशल का विकास करने के लिए किया है।
  • स्पार्टाकस, कौन इगुल्देन के 'एम्परर' श्रृंखला द डेथ ऑफ़ किंग्स में प्रकट होता है।
  • स्पार्टाकस एंड हिज़ ग्लोरियस ग्लेडियेटर्स द्वारा टोबी ब्राउन, बच्चों की इतिहास पुस्तकों की डेड फेमस श्रृंखला का हिस्सा है।
  • विलियम एच. कीथ के बोलो उपन्यास बोलो राइजिंग में चरित्र HCT "हेक्टर" स्पार्टाकस पर आधारित है।
  • हो जाता है किंवदंतियों में से एक में रयान उपन्यास डेविड लुबर के उपन्यास फ्लिप में रायन जिन महान नायकों का रूप धरता है उनमे से एक स्पार्टाकस है, विशेष रूप से जब उसे स्कूल के एक दबंग द्वारा लड़ने की चुनौती दी जाती है।
  • अमल डोंकोल, मिस्र के आधुनिक कवि ने अपनी उत्कृष्ट कृति लिखी "द लास्ट वर्ड्स ऑफ़ स्पार्टाकस".
  • स्टीवन सेलर का उपन्यास आर्म्स ऑफ़ नेमेसिस, जो उनके रोमा सब रोजा श्रृंखला का हिस्सा था, तृतीय दास युद्ध के दौरान सेट है।
  • मैक्स गालो ने उपन्यास लिखा 'लेस रोमेंस.स्पार्टाकस.ला रेवोल्टे डेस, एस्क्लेव", लिब्रारी अर्थेमे फायर्ड, 2006.
  • 2010 में पीटर स्टोथार्द ने अपने संस्मरण ऑन द स्पार्टाकस रोड में आत्मकथा के तत्वों के साथ स्पार्टाकस के विद्रोह को जोड़ा है।

संगीत[संपादित करें]

  • स्पार्टाकस एक बैलेट है जिसका स्कोरिंग संगीतकार अराम खाचाटुरियन द्वारा किया गया है।
  • ऑस्ट्रेलियाई संगीतकार कार्ल वाइन ने रेड ब्लूज से "स्पार्टाकस" नामक एक लघु पियानो लिखा है।
  • जर्मन समूह ट्रियमविरट ने 1975 में स्पार्टाकस नामक एक एल्बम जारी किया।
  • ब्रिटेन बैंड द फार्म (बैंड) ने 1991 में एल्बम स्पार्टाकस (फार्म एल्बम) को जारी किया।
  • जेफ वेन ने 1992 में अपने संगीत रिटेलिंग, जेफ वेन म्यूजिकल वर्सन ऑफ स्पार्टाकस को जारी किया।
  • फैंटम रेजिमेंट, एक विश्व दर्जे का (पूर्व में श्रेणी 1) अंतर्राष्ट्रीय कोर ड्रम का ड्रम कोर ने अपने प्रतियोगी फील्ड शो के लिए 1981,1982 और 2008 में स्पार्टाकस नामक शो का प्रदर्शन किया जिसमें संगीत और विजुअल मुवमेंट के द्वारा प्रदर्शित किया था। उनके 2008 के कार्यक्रम ने विश्व चैम्पियनशिप का फाइनल जीता।
  • "स्पार्टाकस से लव थीम" स्विंग ऑफ डिलाइट कार्लोस सैन्टाना वेन शॉर्टर 1980.
  • अमेरिकी हार्डकोर बैंड, फॉल ऑफ ट्रॉय ने "स्पार्टाकस" नामक एक गीत लिखा..
  • स्पार्टाकस फिल्म से उद्धरण का इस्तेमाल रोजर वॉटर्स के 2010 द वॉल टूर के प्रारंभिक प्रदर्शन में किया गया।

गेम्स[संपादित करें]

  • बोर्ड खेल "आई एम स्पार्टाकस" तीसरे ग़ुलामी के युद्ध को कवर करती है और एक खेल के रूप में स्पार्टाकस के एक भाग को भी शामिल करती है।
  • बोर्ड खेल हेरोस्केप में स्पार्टाकस के एक भाग को खेल के रूप में प्रदर्शित करती है।
  • RTS खेल Age of Empires: The Rise of Rome रोमन परिप्रेक्ष्य के दास विद्रोह की विशेषताओं को दर्शाती है।

रेडियो[संपादित करें]

  • "द हिस्टोरिज ऑफ पाइनी द एल्डर" में - ब्रिटिश रेडियो कॉमेडी द गून शो के 1957 के एक एपिसोड नक़ल महाकाव्य फिल्मों को दर्शाती है - स्पार्टाकस का इस्तेमाल ब्लडनोक के लिए एक सिडोनिम के रूप में किया गया है, उसके सीजर की पत्नी के साथ अफेयर के बाद और सीजर से भागना जरूरी था; तुम्हें पता है, 'सीजर की पत्नी संदेह में है?' वैसे मैंने इस बकवास को समाप्त कर दिया है।

! ".

खेल[संपादित करें]

  • कई बल्गेरियाई फुटबॉल क्लब का नाम स्पार्टाकस है: सबसे लोकप्रिय पीएफसी स्पार्टक वर्ना, एफसी स्पार्टक प्लोडिव और पीएफसी स्पार्टक प्लेवन हैं।
  • स्लोवाकिया का सबसे पुराने और सबसे लोकप्रिय फुटबॉल टीमों में एक स्पार्टक ट्रानावा है।
  • एफसी स्पार्टक नाम वाले रूसी खेल क्लबों, जिसमें एफसी स्पार्टक मास्को सबसे जाना पहचाना है और स्पार्टाकस के सम्मान में स्पार्टक खेल समाज नाम हैं।[52]
  • स्पार्टकियाड, ओलंपिक खेल का एक सोवियत ब्लॉक संस्करण है।[53] इस नाम का इस्तेमाल मास जिमनास्टिक प्रदर्शनी के लिए किया जाता है जिसका आयोजन हर पांच साल में चेकोस्लोवाकिया में किया जाता है।
  • स्विस पेशेवर साइकिल चालक फेबियन केनसेलरा का उपनाम स्पार्टाकस दिया गया है।
  • स्पार्टाकस 7s नाम 2006 में बनाई गई एक अंतर्राष्ट्रीय टीम के नाम रग्बी सेवेंस के लिए दिया गया है।
  • ओटावा सीनेटरों शुभंकर सेंचुरियन का नाम एक स्पार्टाकेट टीम दिया गया है जबसे टीम का लोगो एक रोमन सेंचुरियन है।
  • ताम्पा विश्वविद्यालय स्पार्टान के मस्कोट का माम स्पार्टाकस के नाम पर है।
  • स्पैनिश बास्केटबॉल खिलाड़ी फेलिप रेयेस का उपनाम एस्पार्टाको है, स्पार्टाकस का स्पेनिश.

स्थान[संपादित करें]

  • दक्षिणी शेटलैंड द्वीप समूह में लिविंगस्टोन द्वीप पर स्पार्टाकस पीक है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. एम. टुलियस सिसेरो. "On the Responses of the Haruspices". perseus.tufts.edu. मूल से 29 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि ०४-१२-२०१५. |accessdate= में तिथि प्राचल का मान जाँचें (मदद)
  2. प्लूटार्क, क्रासस 8 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine
  3. अप्पियन, सिविल वार 1.116 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine
  4. फ्लोरुस एपिटोम ऑफ रोमन हिस्टरी 2.8
  5. "इतिहास, सल्लुस्त, पैट्रिक मैकगुशीन, ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी प्रेस, 1992, ISBN 0-19-872143-9, पी. 112". मूल से 26 मार्च 2015 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 जून 2020.
  6. कैम्ब्रिज प्राचीन इतिहास: pt. Archived 2016-08-01 at the Wayback Machine1. Archived 2016-08-01 at the Wayback Machineबाल्कन के प्रागितिहास और मध्य पूर्व और ईजियन दुनिया, आठवें ई.पू., कैम्ब्रिज यूनिवर्सिटी प्रेस, 1982, पी. सदियों दसवें 601. Archived 2016-08-01 at the Wayback Machine
  7. "द स्पार्टाकस वॉर, बैरी एस स्ट्रॉस, शमौन और शुस्टर, 2009, ISBN 1-4165-3205-6, p.31". मूल से 21 अगस्त 2018 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 15 जून 2020.
  8. अस्स्य्रियन और बेबीलोनीयन साम्राज्य और पूर्व के पास के राज्यों, आठ से छह शताब्दी बीसी से, खंड 3, जॉन बोर्डमैन, कैम्ब्रिज विश्वविद्यालयप्रेस, 1991, ISBN 0-521-22717-8, p. 601.
  9. दिओदोरुस सिचुलुस, ऐतिहासिक लाइब्रेरी बुक 12 Archived 2015-03-29 at the Wayback Machine
  10. दिओदोरुस सिचुलुस, ऐतिहासिक लाइब्रेरी बुक 16 Archived 2015-03-29 at the Wayback Machine
  11. थयूसीडाइड्स, हिस्टरी ऑफ द पेलोपोनेसियन वॉर 2.101
  12. "जनजातियों डायनैस्ट्स और ग्रीस के उत्तरी राज्यों में से एक: इतिहास एवं न्यूमिज़माटिक्स". मूल से 27 अगस्त 2007 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2011.
  13. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:116 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine, प्लूटार्क क्रासस, 8:02 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine . नोट: अप्पियन के लोएब संस्करण से स्पार्टाकस के स्टेट्स को एक ऑक्जिलिया के रूप में लिया गया है जिसका अनुवाद होरेस व्हाइट के द्वारा किया गया है, जिसमें लिखा हुआ है "...रोमन सैनिक के साथ एक बार के रूप में कार्य ". हालांकि, पेंग्विन क्लासिक्स संस्करण में जॉन कार्टर द्वारा अनुवाद कहता है: "... जो एक बार रोम के खिलाफ लड़ा था और कैदी किया गया और बाद में बेच दिया गया ...".
  14. हालांकि, सिसेरो के अनुकार (एड अटिकम VI, ii, 8) प्रारम्भ में उसके अनुयायियों 50 से भी कम थे।
  15. प्लूटार्क, क्रासस, 8:1-2 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine ; अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:116 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine, लिवी, पेरिओचाए, 95:2 Archived 2011-06-29 at the Wayback Machine ; फ्लोरुस, प्रतीक, 2.8. प्लूटार्क ने 78 के बचने का दावा किया, लिवी ने 74 का दावा किया, अप्पियन ने "लगभग सत्तर" का दावा किया है और फ्लोरुस ने कहा "तीस या बल्कि अधिक पुरुषों". "चॉपर्स एंड स्पिट्स" लाइफ ऑफ क्रासस से है।
  16. प्लूटार्क, क्रासस, 9:01 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  17. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:116 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine ; फ्लोरुस, एपिटोम 2.8.
  18. प्लूटार्क we46 ', क्रासस, 9:1-3 ; फ्रोंतिनुस, युक्ति, मैं बुक, 5:20-22 ; अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:116 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine ; ब्रौघ्तों, गणराज्य रोमन मजिस्ट्रेट की, पी. 109.
  19. प्लूटार्क, क्रासस, 9:4-5 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine ; लिवी, पेरिओचा, 95 Archived 2011-06-29 at the Wayback Machine, अप्पियन, सिविल वॉर 1:116 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine ; सल्लुस्त हिस्ट्रीज, 3:64-67.
  20. प्लूटार्क, क्रासस, 9:03 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine ; अप्पियन, सिविल वॉर 1:116 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine .
  21. फ्रोंतिनुस, युक्ति, बुक मैं, 5:20-22 और यहां सातवीं: 6 .
  22. फ्लोरुस, एपिटोम, 2.8.
  23. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:116-117 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine, प्लूटार्क, क्रासस 09:06 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine ; सल्लुस्त, इतिहास, 3:64-67.
  24. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:117 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine, प्लूटार्क, क्रासस 09:07 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine, Livy, पेरिओचा 96 Archived 2017-07-19 at the Wayback Machine .
  25. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:117 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine .
  26. प्लूटार्क, क्रासस, 9:07 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  27. "स्पार्टाकस और दास विद्रोह". मूल से 7 अगस्त 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2011.
  28. Shaw, Brent D. (2001). Spartacus and the slave wars: a brief history with documents. Palgrave Macmillan. आई॰ऍस॰बी॰ऍन॰ 0312237030.
  29. प्लूटार्क, क्रासस 10:01 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  30. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:118 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine, स्मिथ, रोमन प्राचीन और ए डिक्शनरी ऑफ यूनानी, "एंडिक्युटिस", p.494 Archived 2012-10-06 at the Wayback Machine .
  31. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:118 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine .
  32. प्लूटार्क, क्रासस, 10:1-3 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  33. फ्लोरुस, एपिटोम, 2.8, सिसरौ व्याख्यान, , क्विनिटिएस, "सेक्सटस रोससिएस ...", 5.2 Archived 2008-03-27 at the Wayback Machine
  34. प्लूटार्क, क्रासस, 10:4-5 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  35. कंट्रास्ट प्लूटार्क, क्रासस, 11:02 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine, साथ अप्पियन, सिविल वार 1:119 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine .
  36. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:120 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine .
  37. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:120 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine, प्लूटार्क क्रासस, 10:06 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  38. प्लूटार्क, क्रासस, 11:03 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine, लिवी पेरिओचाए, 97:1 Archived 2017-07-19 at the Wayback Machine . ब्राडली, दासी और विद्रोह. पी. 97, प्लूटार्क, क्रासस, 11:04 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  39. प्लूटार्क, क्रासस, 11:05 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine ;.
  40. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:120 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine, प्लूटार्क क्रासस, 11:6-7 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine ; लिवी, पेरिओचाए, 97.1 Archived 2017-07-19 at the Wayback Machine .
  41. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:120 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine ; फ्लोरुस, एपिटोम 2.8.
  42. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1.120 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine .
  43. प्लूटार्क क्रासस, 9:5-6 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine .
  44. अप्पियन, सिविल युद्ध, 1:117 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine ; फ्लोरुस, एपिटोम 2.8.
  45. प्लूटार्क, क्रासस, 9:07 Archived 2020-04-10 at the Wayback Machine ; अप्पियन, सिविल वार 1:117 Archived 2020-06-03 at the Wayback Machine .
  46. Douglas Reed (1 जनवरी 1978). The controversy of Zion. Dolphin Press. पृ॰ 139. मूल से 12 नवंबर 2013 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 21 जुलाई 2010.
  47. "कार्ल मार्क्स "बयान"". मूल से 28 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2011.
  48. "मैनचेस्टर से पत्र में एंगेल्स को मार्क्स". मूल से 28 जून 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2011.
  49. "संग्रहीत प्रति". मूल से 11 अगस्त 2010 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2011.
  50. "संग्रहीत प्रति". मूल से 16 जुलाई 2012 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2011.
  51. "संग्रहीत प्रति". मूल से 7 जुलाई 2011 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 29 अप्रैल 2011.
  52. स्पार्टक का इतिहास Archived 2016-09-22 at the Wayback Machine, fcspartak.ru (रूसी)
  53. महान सोवियत विश्वकोश, मात्रा 3 संस्करण, 24 (भाग 1), पी. 286, मास्को, Sovetskaya Entsiklopediya प्रकाशक, 1976

ग्रंथ सूची[संपादित करें]

शास्त्रीय लेखक[संपादित करें]

  • अप्पियन. सिविल वार्स जे कार्टर द्वारा अनुवादित. (हर्मोंड्सवोर्थ: पेंगुइन बुक्स, 1996)
  • फ्लोरुस. एपिटोम ऑफ रोमन हिस्टरी . (लंदन: डब्ल्यू हेनीमन, 1947)
  • ओरोसिउस. द सेवेंस बुक ऑफ हिस्टरी अगेंस्ट द पिगंस . रॉय जे. डेफेर्रारी द्वार अनुवादित. (वाशिंगटन, डीसी: अमेरिका के कैथोलिक विश्वविद्यालय प्रेस, 1964).
  • प्लूटार्क फॉल ऑफ द रोमन रिपब्लिक . आर वार्नर द्वारा अनुवादित. (लंदन: पेंगुइन बुक्स, 1972), विशेष "द लाइफ ऑफ क्रासस" और "पोम्पे के जीवन पर रखा गया है।
  • सल्लुस्ट. कॉस्पाइरेसी ऑफ केटिलाइन एंड द वार ऑफ जुगुर्था . (लंडन, कांस्टेबल: 1924)

आधुनिक इतिहास लेखन[संपादित करें]

  • ब्रेडले, कीथ आर. स्लेवरी एंड रीबेलियन इन द रोमन वर्ल्ड, 140 B.C.–70 B.C. ब्लूमिंग्टन; इंडियानापोलिस: इंडियाना यूनिवर्सिटी प्रेस, 1989 (हार्डकवर, ISBN 0-253-31259-0); 1998 (पेपरबैक, ISBN 0-253-21169-7). [अध्याय V] द स्लेव वार ऑफ स्पार्टाकस, 83-101 पीपी.
  • रुबिन्सन, वोल्फगैंग ज़ीव स्पार्टाकस. अपराइजिंग एंड सोवियत हिस्टोरिकल राइटिंग . ऑक्सफोर्ड: ओक्स्बो पुस्तकें, 1987 (पेपरबैक, ISBN 0-9511243-1-5).
  • स्पार्टाकस: फिल्म एंड हिस्टरी , मार्टिन एम विन्क्लेर द्वारा संपादित. ऑक्सफोर्ड: ब्लैकवेल प्रकाशक, 2007 (हार्डकवर, ISBN 1-4051-3180-2, पुस्तिका, ISBN 1-4051-3181-0).
  • ट्रोव, एम.जे. स्पार्टाकस: द मिथ एंड द मैन. स्ट्राउट, यूनाइटेड किंगडम: सटन प्रकाशन, 2006 (हार्डकवर, ISBN 0-7509-3907-9).
  • गेंनेर, माइकल. "स्पार्ट्कस. Eine Gegengeschichte des Altertums nach den Legenden der Zigeuner". दो खंड. (पेपरबैक.) त्रिकोंत वेर्लग, München 1979/1980. Vol 1 ISBN 3-88167-053-X Vol 2 ISBN 3-88167-0
  • प्लेमेन पावलोव, स्तानिमिर दिमित्रोव, स्पार्टक - sinyt na drenva Trakija / द सन ऑफ एसिएंट थ्रेस . सोफिया, 2009, ISBN 978-954-378-024-2

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]