स्नॉर्कलिंग

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
फिजी के पास एक मूंगे की चट्टान पर मूंगों के बीच एक स्नॉर्कलर.

स्नॉर्कलिंग (ब्रिटिश वर्तनी: snorkelling) पानी में तैराकी का एक अभ्यास है जिसके तहत गोताखोरी के मुखौटे, स्नॉर्कल नाम की नली और आमतौर पर स्विम फिन से लैस होता है। अपेक्षाकृत ठंडे पानी में वेटसूट भी पहना जा सकता है। इस यन्त्र का प्रयोग, स्नॉर्कल करने वाले को अपेक्षाकृत कम प्रयास के साथ पानी के अन्दर की हलचलों का ज्यादा वक्त तक निरीक्षण करने की अनुमति देता है।

स्नॉर्कलिंग, दिल बहलाव का एक लोकप्रिय तरीका है, खासतौर पर उष्ण कटिबंधीय रिसार्टों और स्कूबा गोताखोरी के इलाकों में. स्कूबा गोताखोरी के लिए आवश्यक जटिल उपकरणों और प्रशिक्षण के बिना और स्कूबा गोताखोरी के उपकरणों से निकलने वाले हवा के बुलबुलों के बिना पानी के भीतर के जीवन को प्राकृतिक रूप से देखने का मौका ही लोगों के लिए प्राथमिक आकर्षण है।

स्कूबा गोताखोर भी जब सतह पर होते हैं तो स्नॉर्कलिंग का इस्तेमाल करते हैं और खोजी और बचाव दल, जल आधारित खोजों में स्नोर्केल का उपयोग कर सकते हैं। यह अंडरवाटर हॉकी, अंडरवाटर आइस हॉकी, अंडरवाटर रग्बी और पानी के नीचे मछली के शिकार जैसे लोकप्रिय खेलो में एक साधन भी है।

स्नॉर्कल[संपादित करें]

शीर्ष पर स्प्लैश गार्ड के साथ स्नॉर्कल करते तैराक, लेकिन कोई संप वाल्व नहीं है।

एक तैराक का स्नॉर्कल एक ट्यूब होता है जो लगभग 30 सेंटीमीटर लम्बा, 1.5 से लेकर 2.5 सेंटीमीटर के आतंरिक व्यास वाला, आमतौर पर L या J के आकार का रबर या प्लास्टिक से बना होता है जिसके निचले हिस्से में एक मुखनाल लगी होती है। जब पहनने वाले का मुंह और नाक पानी में डूबे रहते हैं तब इसका इस्तेमाल पानी के ऊपर से सांस लेने में किया जाता है। सामान्यतः स्नॉर्कल में रबर का एक टुकड़ा होता है जो स्नॉर्कल को गोताखोरी के मुखौटे के बाहरी पट्टे से जोड़ देता है। पुरानी तकनीक के हिसाब से स्नॉर्कल को गोताखोरी मुखौटे क़ी पट्टी और सर के बीच घुसेड़ देते थे पर इस तरीके से मुखौटे में रिसाव होने की सम्भावना बढ़ जाती है।

स्नॉर्कल का सबसे सामान्य रूप एक ट्यूब होता है जो पानी के नीचे रहने पर बहने की अनुमति प्रदान करता है। स्नॉर्कलर, स्नॉर्कल से पानी को निकालता है या तो सतह पर आने पर तेज उच्छ्वास द्वारा (ब्लास्ट क्लीयरिंग) या सतह पर पहुंचने से ठीक पहले सर के पिछले हिस्से को झुकाते हुए सतह पर आने या उसे "तोड़ने" से पहले पानी को धकेलते हुए (विस्थापन विधि) और अगली सांस खींचने से पहले आगे की तरफ रुख करता है। विस्थापन विधि में स्नॉर्कल में पानी की जगह हवा के स्थापन के द्वारा पानी को बाहर फेंका जाता है; यह अपेक्षाकृत अधिक विकसित तकनीक है जिसके लिए अभ्यास की आवश्यकता होती है और यह स्नॉर्कल को अधिक क्षमता के साथ खाली करती है।

पानी के नीचे स्नॉर्कलर, स्नॉर्कल का संप वाल्व अग्रभूमि में स्पष्ट है।

कुछ आधुनिक स्नॉर्कलों में मुखनाल में पानी की थोड़ी मात्रा बनाए रखने के लिए संप का इस्तेमाल किया जाता है और जब स्नॉर्कलर सांस लेता है तो पानी भीतर नहीं जाता. कुछ स्नॉर्कलों में संप के भीतर एक एकतरफा वाल्व लगा होता है, जो पानी भरने की स्थिति में संप को स्वतः ही खाली कर देता है। कुछ स्नॉर्कलों में चलायमान वाल्व होते हैं जो नली के सबसे उपरी हिस्से से जुड़े होते हैं, जब स्नॉर्कलर पानी के भीतर जाता है तो ये वाल्व स्नॉर्कल से पानी को बाहर रखता है, कुछ और भी आधुनिक डिज़ाइनो में सबसे उपरी हिस्से पर एक विक्षेपक लगा होता है, यह खुली नली की ओर आने वाले पानी को बाहरी नली की ओर मोड़ देता है जिससे उपयोग करने वाले के मुंह में पानी नहीं जा पाता.

पानी को भीतर जाने से रोकने के लिए, कुछ स्नॉर्कल को नली के खुले हिस्से में एक पिंजड़े में छोटी "पिंग पोंग" गेंदों को लगा कर बनाया जाता था, लेकिन स्नॉर्कलर के लिए खतरनाक होने के नाते अब न तो इसे बेचा जाता है और न ही इस्तेमाल के लिए खरीदा जाता है। इसी प्रकार, स्नॉर्कल लगे हुए गोताखोरी मुखौटे असुरक्षित और पुराने पड़ चुके हैं।

स्नॉर्कल नली की श्रेष्ठ बनावट की लम्बाई अधिकतम 40 सेंटीमीटर (लगभग 16 इंच) होती है। गहरी स्नॉर्कलिंग करने पर लम्बी नली से सांस लेने में दिक्कत होती है क्योंकि गहराई में जाने पर फेफड़ों पर पानी का दबाव बहुत बढ़ जाता है। ऐसे में जब स्नॉर्कलर सांस लेता है तो फेफड़े फ़ैल नहीं पाते क्योंकि फेफड़ों को फैलाने वाली मांसपेशियां गहरे पानी के उच्च दबाव के खिलाफ काम करने की ताकत नहीं रखतीं.[1] स्नॉर्कल, "डेड एयर स्पेस" (मृत वायु स्थान) उत्पन्न करती है, जब प्रयोक्ता ताज़ी सांस लेता है तब स्नॉर्कल में पहले की निकाली हुई सांस बची रहती है जो फेफड़ों में फिर से चली जाती है, इससे सांस लेने की क्षमता कम हो जाती है, इसी कारण हाइपरकैप्निया होता है जिसमे रक्त में कार्बन डाई आक्साइड बनने लगता है। स्नॉर्कल में जितनी अधिक हवा की मात्रा रहती है समस्या उतनी ही बढ़ती जाती है।

आधुनिक स्नॉर्कलिंग तकनीक CO₂ धारण को कम करने में सहायता करती है। मार्क आर. जॉन्सन MD ने "केडेन्स तकनीक" वाले ऐसे स्नॉर्कल का अविष्कार किया जो हवा के सीधे प्रवाह के लिए एक तरफ़ा वाल्व का प्रयोग करके और उच्छवास के रास्तों को अलग करता है। उच्छवास वाल्व स्नॉर्कल में उच्छवास के मार्ग में एक प्रतिरोध डालता है जो थोडा पश्च दबाव पैदा करता है, इससे सामान्य सांस प्रक्रिया चलती है और फेफड़ों का आयतन बढ़ जाता है। सतह के भीतर डूबे रहने पर निश्वास का रास्ता बंद हो जाता है, इस तरह स्नॉर्कल को शुद्ध किये बिना स्नॉर्कलर सतह पर आकर सांस ले सकता है।[2]

स्नॉर्कलिंग का अभ्यास[संपादित करें]

हालांकि मुखौटा पहनना और पानी में स्कोर्नल और तैरने की क्रिया को तकनीकी रूप से "स्नॉर्कलिंग" कहा जाता है, पर सामान्यतः यह माना जाता है क़ि "स्नॉर्कलर" इन्हें पहन कर मुख्य रूप से शैलमालाओं, दरारों और अन्य डूबी हुई चीजों के आस-पास काम करता है जिसके तहत वह या तो जलीय जीवों जैसे मछली, शैवाल आदि का प्रेक्षण करता है या फिर शैल के गठन को देखता है। गैर-प्रतिस्पर्धात्मक प्रवृत्ति के कारण, स्नॉर्कलिंग को खेल की अपेक्षा मनोरंजन के रूप में देखा जाता है।

मुखौटा और स्नॉर्कल साथ स्नॉर्कलर.

स्नॉर्कलिंग के लिए किसी खास प्रशिक्षण क़ि जरूरत नहीं होती, सिर्फ तैरने और स्नॉर्कल से सांस लेने की क्षमता होनी चाहिए। फिर भी सुरक्षा के नज़रिए से, किसी अनुभवी "स्नॉर्कलर" साथी, टूर गाइड, गोताखोरी की दुकान या किराये पर उपकरण देने वाली दुकान से दिशा-निर्देश लेने सलाह दी जाती है। निर्देशों में आमतौर पर उपकरणों के इस्तेमाल, सामान्य सुरक्षा और क्या देखना तथा क्या खोजना है और संरक्षण निर्देश होते हैं (मसलन मूंगा जैसे भंगुर जीव, जिन्हें गोताखोर और स्नॉर्कलर आसानी से नष्ट कर सकते हैं)। स्कूबा गोताखोरी में हमेशा सलाह दी जाती है कि अकेले स्नॉर्कलिंग न करें, गाइड या टूर ग्रुप, किसी को साथ लें.

स्नॉर्कलिंग की कुछ व्यावासिक जगहों पर स्नॉर्कल करने वालों को हवा धारण करने वाले अन्तःवस्त्र, जो कि व्यक्तिगत तैराकी उपकरण कि तरह हो, को पहनने कि जरूरत होती है। वे प्रायः चमकदार पीले या नारंगी रंग के होते हैं, इनमे एक ऐसा उपकरण लगा होता है जिससे प्रयोक्ता अपने उत्प्लावन के अनुसार फुला या पिचका सकता है। हालांकि ये उपकरण स्नॉर्कल करने वाले को को किसी गहराई में मुक्त गोताखोरी से रोकते और बचाते हैं। खासतौर पर ठंडे पानी में पर्याप्त मोटाई और आकार का वेट सूट पहनना चाहिए, यह वेट सूट डूबने के खिलाफ कुछ उत्प्लावन प्रदान करता है। उष्ण प्रदेशों में स्नॉर्कल करने वाले (खासकर पीली त्वचा वाले) अपनी जांघो तथा पीठ कि त्वचा को सूर्यदाह से बचाने के लिए प्रायः रैश्गार्ड या शर्ट और/या चौड़े पायांचे वाले शार्ट्स पहनते हैं।

अनुभवी स्नॉर्कलर प्रायः अपनी शौकिया मुक्त गोताखोरी को परखना शुरू करते हैं, यह किसी गोताखोरी के निर्देशक या अनुभवी मुक्त गोताखोर के प्रशिक्षण के बाद ही संभव हो पाता है।

सुरक्षा उपाय[संपादित करें]

स्नॉर्कलर के लिए सबसे बड़ा खतरा है- मनोरंजन के लिए इस्तेमाल होने वाले छोटी तटवर्ती नावें जैसे जेट स्की, स्पीड बोट और ऐसी ही अन्य नावें. स्नॉर्कलर जब पानी में होता है तो पानी के ऊपर सिर्फ एक छोटी नली दिखती है। चूंकि ये नावे उन्ही इलाकों में चलती हैं जहा स्नॉर्कलर होते हैं, इसलिए टकराव की दुर्घटना की संभावना बनी रहती है। अपनी शांत प्रणोदन व्यवस्था के कारण सेलबोट और विंड सरफर इनके लिए खासतौर पर चिंता का कारण होते हैं क्योंकि वे उनकी उपस्थिति से सचेत नहीं हो पाते, जबकि मोटर से चलने वाली नाव पानी के भीतर चार गुना तेज़ आवाज़ करती है। स्नॉर्कलर इस तरह की नावों के नीचे आ सकता है या/और उनसे टकरा सकता है। कुछ जगहों पर स्नॉर्कलर क्षेत्र को छोटी नाव वाले क्षेत्रों से अलग चिन्हित किया जाता है, जबकि नियमित स्नान करने वालों के लिए स्थान को पीपे द्वारा चिन्हित किया जाता है। इसलिए स्नॉर्कलर अपने पहनने के लिए चमकीले और उच्च परावर्तन वाले रंगों/कपड़ो का इस्तेमाल कर सकता और/या नाविकों तथा दूसरे लोगो द्वारा आसानी से चिन्हित किये जाने के लिए गोताखोरी झंडों का प्रयोग कर सकता है।

स्नॉर्कलर की पीठ (थोडा डूबे होने पर भी) लम्बे समय तक सूर्य के संपर्क में रहने के कारण बुरी तरह झुलस जाती है और पता भी नहीं लगता. समुचित पहनावा जैसे "रैश गार्ड" (गरम पानी में), एक टी शर्ट, एक वेट सूट और/या सन ब्लाक क्रीम सन बर्न के खतरे को कम कर देगी.

पानी की कमी दूसरा खतरा है। यह सुझाव दिया जाता है की जाने से पहले अच्छी तरह पानी पी लें, खासतौर पर अगर आप कई घंटे के स्नॉर्कल पर जा रहे हैं। पानी की पर्याप्त मात्रा मांस पेशियों के खिंचाव को भी रोकती है।

स्नॉर्कलर को अति वायु संचार का सामना करना पड़ सकता है जो उसे "शैलो वाटर ब्लैक आउट" की स्थिति में ले जा सकती है, किसी साथी के साथ (और अपने साथी की स्थिति के बारे हर समय सचेत रहते हुए) स्नॉर्कलिंग पर जाने से इस स्थिति को टाला जा सकता है।

मूंगा द्वीप के नजदीक स्नॉर्कलिंग करते समय नुकीले मूंगों और उनमें रहने वाले जहरीले जीवों से सचेत रहना चाहिए जिसके लिए सुरक्षा दस्ताने का प्रयोग और अपने आस-पास के पर्यावरण के प्रति सजग रहा जा सकता है। भाटे द्वारा उभरी हुई चट्टानों के ऊपर, या बाहरी चट्टान के गहरे पानी में चलने में बूटी और सर्फ़ जूते विशेष तौर पर सहायक होते हैं।

स्नॉर्कलिंग स्थल[संपादित करें]

कोज़ूमेल, मैक्सिको में मछली देखते स्नॉर्कलर.

किसी भी तरह के पानी में स्नॉर्कलिंग संभव है पर जहां लहरें कम हों, पानी गरम हो और देखने के लिए सतह के पास कुछ खास हो, वहीं पर अधिकतर स्नॉर्कलर जाते हैं।

आमतौर पर समुद्र तल से 1 से 4 मीटर (3-12 फिट) की छिछली चट्टानें स्नॉर्कल करने वालो की पसंदीदा जगहें हैं। गहरी चट्टानें भी बेहतर है पर गोते के समय इन गहराइयों में सांस को रोक पाने की क्षमता के कारण यहां स्नॉर्कल करने वाले कम ही जाते हैं क्योंकि वहां जाने के लिए फिटनेस और क्षमता का स्तर ऊंचा होना चाहिए।

भिन्न रूप और सम्बंधित गतिविधियां[संपादित करें]

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. आर. स्टिग्लर, डी टौचेरई इन Fortschritte der naturwissenschaftlichen Forschung, IX. Band, Berlin/Wien 1913
  2. (swf) untitled. Kapitol Reef Aquatics. 2009. http://kapitolreef.com/video1.html. अभिगमन तिथि: 16 दिसम्बर 2009. 
  • द ब्रिटिश सब-एक्वा क्लब और होलब्रुक, माइक. स्नॉर्कलिंग फॉर ऑल . लंदन: एबुरी, 2001. ISBN 0-09-188304-0.

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]