स्नातक प्रबंधन प्रवेश परीक्षा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

इस अनुच्छेद को विकिपीडिया लेख Graduate Management Admission Test के इस संस्करण से अनूदित किया गया है।

GMAT यहां पुनःप्रेषित करता है, अन्य प्रयोगों के लिए, देखें GMAT (स्पष्टीकरण).

स्नातक प्रबंधन प्रवेश परीक्षा (GMAT, उच्चारण जी-मैट, [dʒi ː. Mæt]) स्नातक व्यावसायिक अध्ययन में शैक्षिक सफलता के लिए गणित और अंग्रेज़ी भाषा में योग्यता मापने की कंप्यूटर-अनुकूलक मानकीकृत परीक्षा है। बिज़नेस स्कूलों द्वारा सामान्यतः इस परीक्षा का उपयोग एमबीए प्रोग्राम में प्रवेश के कई चयन मानदंडों में से एक मानदंड के रूप में होता है। इसे विश्व भर के विभिन्न स्थानों पर कंप्यूटर के माध्यम से उपलब्ध कराया जाता है। उन अंतर्राष्ट्रीय स्थानों में, जहां कंप्यूटरों का व्यापक नेटवर्क अभी स्थापित नहीं किया गया है, सीमित समय-सारणी के अनुसार अस्थाई कंप्यूटर-आधारित परीक्षा केंद्रों में या स्थानीय परीक्षा-केंद्रों में काग़ज़ी परीक्षा (वर्ष में एक या दो बार) के रूप में GMAT चलाया जाता है। यथा अगस्त 2009, पूरे विश्व में परीक्षा-शुल्क यूएस $250 है।[1]

परीक्षा[संपादित करें]

परीक्षा में परीक्षार्थी के मौखिक, गणितीय और विश्लेषणात्मक-लेखन कौशल को परखा जाता है, जिसे उसने अपनी शिक्षा और काम की लंबी अवधि के दौरान विकसित किया है। परीक्षार्थी को परीक्षित तीनों विषयों में से हर एक क्षेत्र में सवालों का जवाब देना होता है और इसमें दो वैकल्पिक विराम भी होते हैं[2]; सामान्यतः परीक्षा को पूरा करने में चार घंटे लगते हैं।

परीक्षार्थी के परीक्षा में बैठने की तारीख़ से लेकर मेंट्रिकुलेशन तक (अर्थात् स्वीकृति तक, कि आवेदन की तारीख़ तक) पांच साल के लिए (अधिकतर संस्थानों में) प्राप्तांक वैध होते हैं।

परीक्षा में अधिकतम 800 अंक प्राप्त किए जा सकते हैं। पिछले 3 वर्षों में, औसत प्राप्तांक 535.2 रहा है।[3]

विश्लेषणात्मक-लेखन मूल्यांकन (AWA) खंड का उत्तर पहले देना पड़ता है। उसके बाद क्रमशः परिमाणात्मक खंड और मौखिक योग्यता खंड की बारी आती है।

विश्लेषणात्मक-लेखन मूल्यांकन[संपादित करें]

परीक्षा के विश्लेषणात्मक-लेखन मूल्यांकन (AWA) खंड में दो निबंध शामिल होते हैं। पहले में, छात्र द्वारा तर्क का विश्लेषण और दूसरे में मुद्दे का विश्लेषण अपेक्षित है। प्रत्येक निबंध 30 मिनट में लिखना होगा एवं अंक 0 से 6 के पैमाने पर दिए जाएंगे.ये निबंध दो पाठकों द्वारा पढ़े जाएंगे, जिनमें प्रत्येक द्वारा 4.1 औसत प्राप्तांक सहित 0.5 अंकों की वृद्धि के साथ 0-6 के बीच दर्जा दिया जाएगा.यदि दोनों प्राप्तांकों में एक अंक का अंतर हो, तो औसत लिया जाएगा. अगर एक से अधिक अंकों का अंतर हो, तो निबंध तीसरे पाठक द्वारा पढ़ा जाएगा.[4]

पहला पाठक उत्तम अभ्यास द्वारा विकसित इंटेलिमेट्रिक नामक स्वाम्य कंप्यूटर प्रोग्राम है, जो 50 से अधिक भाषाई और संरचनात्मक विशेषताओं वाले रचनात्मक लेखन और वाक्य-विन्यास का विश्लेषण करता है।[5] दूसरे और तीसरे पाठक मानव हैं, जो परीक्षार्थी के विचारों की गुणवत्ता और प्रासंगिक आधार सहित उनकी व्यवस्थित, विकसित और अभिव्यक्ति क्षमता का मूल्यांकन करते हैं। हालांकि, मानक अंग्रेज़ी लेखन कुशलता, अच्छे अंकों के कारक हैं, पर मामूली त्रुटियां प्रत्याशित हैं और मूल्यांकनकर्ताओं को ऐसे परीक्षार्थियों के प्रति संवेदनशील होने के लिए प्रशिक्षित किया जाता है, जिनकी प्रथम भाषा अंग्रेज़ी नहीं है।[4]

परीक्षा के विश्लेषणात्मक-लेखन खंड के दोनों निबंधों में प्रत्येक को 0 (न्यूनतम) से 6 (अधिकतम) के पैमाने पर दर्जा दिया जाता है।

  • 0 ऐसा निबंध, जो कि पूरी तरह से अपठनीय है, या स्पष्टतः निर्दिष्ट विषय पर नहीं लिखा गया है।
  • 1 ऐसा निबंध, जिसमें कि मूलरूप से कमी है।
  • 2 ऐसा निबंध, जो अधिक त्रुटिपूर्ण है।
  • 3 ऐसा निबंध, जो बहुत ही सीमित है।
  • 4 ऐसा निबंध, जो केवल पर्याप्त है।
  • 5 ऐसा निबंध, जो अच्छा है।
  • 6 ऐसा निबंध, जो उल्लेखनीय है।

परिमाणात्मक खंड[संपादित करें]

परिमाणात्मक खंड में 37 बहुविकल्पीय प्रश्न शामिल रहते हैं, जिनका उत्तर 75 मिनट में देना होगा.इसमें दो प्रकार के प्रश्न होते हैं: समस्या हल और आंकडा-पर्याप्तता. परिणामात्मक खंड में 0 से 60 के बीच अंक दिए जाते हैं। पिछले 3 वर्षों में, औसत प्राप्तांक 35.6/60 रहा है; 50 से ऊपर और 7 से नीचे अंक दुर्लभ हैं।[3][6]

समस्या हल[संपादित करें]

इसमें परिमाणात्मक तर्क क्षमता की परीक्षा ली जाती है। समस्या-हल सवालों में अंकगणित, मूल बीजगणित और प्रारंभिक ज्यामिति के बहुविकल्पीय प्रश्न होते हैं। इसमें समस्याओं को हल करना होता है और दिए गए पांच विकल्पों में से सही उत्तर को चुनना पड़ता है। कुछ प्रश्न केवल गणितीय परिकलन वाले होते हैं; बाकी प्रश्न वास्तविक जीवन की शब्द समस्याओं पर आधारित होते है, जिनके लिए गणितीय समाधानों की आवश्यकता होती है।

संख्याएं: सभी प्रयुक्त संख्याएं, यथार्थ संख्याएं ही होती हैं।
आंकडे: इन सवालों के साथ दिए गए चित्र और आंकडे, सवालों के जवाब देने में उपयोगी जानकारी प्रदान करने के उद्देश्य के लिए होते हैं। जब तक यह कथित न हो कि विशिष्ट आकृति पैमाने के अनुसार नहीं बनी है, सभी चित्र और आकृतियां, यथा संभव सही बनी होती हैं। जब तक अन्यथा इंगित न हो, सभी आंकड़े समतल पर होते हैं।

आंकडा-पर्याप्तता[संपादित करें]

इसमे निर्देशों के असामान्य सेट के उपयोग द्वारा परिमाणात्मक तर्क क्षमता की परीक्षा ली जाती है। परीक्षार्थी को एक प्रश्न दिया जाता, जिससे दो कथन जुड़े होते हैं और जिनमें दी गई सूचना, उस सवाल का जवाब देने के लिए उपयोगी हो सकती है। तब परीक्षार्थी को यह निर्धारित करना होता है कि क्या कोई एक कथन प्रश्न का उत्तर देने के लिए पर्याप्त है; क्या प्रश्न का उत्तर देने के लिए दोनों की जरूरत है; या, क्या प्रश्न का उत्तर देने के लिए वहां पर्याप्त जानकारी नहीं दी गई है।

आंकडा-पर्याप्तता, GMAT के लिए विशेषतः तैयार अद्वितीय गणित का सवाल है। प्रत्येक मद में एक सवाल के साथ दो कथन शामिल होते हैं।

(ए) यदि कथन 1 अकेले ही इस सवाल का जवाब देने के लिए पर्याप्त है, लेकिन कथन 2 अकेले पर्याप्त नहीं है।
(बी) यदि कथन 2 अकेले ही इस सवाल का जवाब देने के लिए पर्याप्त है, लेकिन कथन 1 अकेले पर्याप्त नहीं है।
(सी) यदि सवाल का जवाब देने के लिए दोनों कथनों की साथ में जरूरत है, पर कोई कथन अकेले पर्याप्त नहीं है।
(डी) यदि कोई एक कथन अपने आप में सवाल का जवाब देने के लिए पर्याप्त है।
(ई) यदि सवाल का जवाब देने के लिए पर्याप्त तथ्य नहीं दिए गए हैं।

"है" शब्द के स्थान पर "होना चाहिए" कर देना ही संभवतः पूरी तरह से इन सवालों के दायरे को पूर्णतः अन्तर्निहित करने का सबसे आसान रास्ता है- सवाल यह नहीं पूछ रहे हैं कि क्या एक जवाब संभव है, बल्कि यह पूछ रहे हैं कि क्या मामला "यह" हो सकता है।

मौखिक खंड[संपादित करें]

मौखिक खंड में 41 विकल्पीय प्रश्न शामिल होते हैं, जिनका उत्तर 75 मिनट में देना होगा.यहां तीन प्रकार के प्रश्न हैं: वाक्य-सुधार, विवेचनात्मक-तर्क और अनुच्छेद-पठन. मौखिक खंड में 0 से 60 के बीच अंक दिए जाते हैं। पिछले 3 वर्षों में, औसत 27.8/60 रहा है, 44 से ऊपर और 9 से नीचे अंक दुर्लभ हैं।[3][6]

वाक्य-सुधार[संपादित करें]

वाक्य-सुधार खंड परीक्षार्थी की अमेरिकन अंग्रेज़ी व्याकरण, उपयोग और शैली के ज्ञान का परीक्षण करता है।

वाक्य-सुधार मदों में एक वाक्य होता है जिसका पूरा या एक हिस्सा रेखांकित होता है तथा वाक्य के नीचे पांच संबंधित वैकल्पिक उत्तर सूचीबद्ध होते हैं। पहला वैकल्पिक उत्तर बिल्कुल वही होता है, जिसे वाक्य में रेखांकित किया गया है। शेष चार वैकल्पिक उत्तर में रेखांकित हिस्से से अलग वाक्यांश होते हैं। यदि वाक्य के शब्दों में कोई दोष नहीं है, तो परीक्षार्थी को पहले वैकल्पिक उत्तर के चयन का सुझाव दिया जाता है। अगर इस वाक्य की मूल वाक्य-रचना में कोई दोष हो, तो परीक्षार्थी को शेष चार वैकल्पिक उत्तर में से उत्तम वैकल्पिक उत्तर के चयन का सुझाव दिया जाता है।[7]

वाक्य-सुधार प्रश्न, परीक्षार्थी की कुशलता को यथा तीन क्षेत्रों - सही अभिव्यक्ति, प्रभावशाली अभिव्यक्ति और सही शब्द-चयन के कौशल को मापने के लिए रूपायित हैं।[7]सही अभिव्यक्ति से तात्पर्य व्याकरण और वाक्य-संरचना से होता है।प्रभावशाली अभिव्यक्ति से तात्पर्य विचार व्यक्त करने के लिए प्रयुक्त स्पष्टता और संक्षिप्तता से है। उचित शब्द-चयन से तात्पर्य शब्दकोश में शब्दों के लिए दिए गए अर्थ के संदर्भ में चुने गए शब्दों की उपयुक्तता और सटीकता से और शब्दों की संदर्भगत प्रस्तुति से है।[7]

विवेचनात्मक-तर्क[संपादित करें]

इसमे तार्किक सोच की परीक्षा होती है। विवेचनात्मक-तर्क मदों में परीक्षार्थी को एक तर्क देकर उसका विश्लेषण करने के लिए कहा जाता है। परीक्षार्थी से निष्कर्ष निकालने, धारणाओं को पहचानने, या तर्क की प्रबलता और कमज़ोरियों की पहचान करने के लिए सवाल किए जा सकते हैं इसमें संक्षिप्त कथन या तर्क प्रस्तुत किए जाते हैं तथा तर्क या कथन के स्वरूप एवं विषय-वस्तु के मूल्यांकन के लिए कहा जाता है। इस प्रकार के प्रश्न, परीक्षार्थी से छोटे परिच्छेदों या अनुच्छेदों में तर्क-वितर्क का विश्लेषण एवं मूल्यांकन करने के लिए कहते हैं। कुछ प्रश्नों के लिए, सभी वैकल्पिक उत्तर, पूछे गए सवाल के जवाब हो सकते हैं। परीक्षार्थी को प्रश्न के सही जवाब को चुनना होगा, यानि, ऐसा उत्तर जिसके लिए अविश्वसनीय, अनावश्यक, असंबद्ध या असंगत होते हुए सामान्य सोच-समझ के स्तर को भी झुठलाने वाली धारणाएं बनाने की आवश्यकता नहीं है।

अनुच्छेद पठन[संपादित करें]

यह बारीक़ी से पढने की क्षमता का परीक्षण करता है। अनुच्छेद पठन के सवाल, परीक्षार्थी को पढ़ने के लिए दिए गए अनुच्छेद से संबंधित होते हैं। अनुच्छेद किसी भी विषय से संबंधित हो सकता है और इससे जुड़े प्रश्न यह परीक्षण करते हैं कि परीक्षार्थी ने कितनी अच्छी तरह से अनुच्छेद और उसमें दी गई जानकारी को समझा है। जैसा कि नाम से ही पता चलता है, यह परीक्षार्थी द्वारा लिखित पाठ के सार और तार्किक संरचना को समझने की क्षमता को परखता है। GMAT में लगभग 200 से 350 शब्दों के अनुच्छेद का उपयोग होता है, जो सामाजिक विज्ञान, जैविक विज्ञान, भौतिक विज्ञान और व्यापार जैसे विषयों को आवृत करते हैं। प्रत्येक अनुच्छेद में उसकी विषय-वस्तु के आधार पर तीन या उससे अधिक प्रश्न होते हैं। प्रश्न में अनुच्छेद के प्रमुख बिंदु के बारे में, लेखक के विशिष्ट कथन के बारे में, अनुच्छेद से निकलने वाले तर्कसंगत निष्कर्ष के बारे में, एवं लेखक की मानसिकता या शैली के बारे में पूछा जा सकता है।

कुल प्राप्तांक[संपादित करें]

"कुल प्राप्तांक" में, जो परिमाणात्मक और मौखिक खंडों से मिलकर बनता है, विश्लेषणात्मक-लेखन मूल्यांकन (AWA) शामिल नहीं है और इसका विस्तार 200 से 800 के बीच है। लगभग दो तिहाई परीक्षार्थी, 400 से 600 के बीच अंक अर्जित करते हैं। प्राप्तांक वितरण, लगभग 100 अंक के मानक विचलन के साथ एक घंटी के वक्र जैसा दिखता है, यानि कि परीक्षा को इस तरह रूपायित किया गया है कि 68% परीक्षार्थी 400 से 600 के बीच अंक अर्जित करें, जब कि मूलतः मध्य प्राप्तांक को 500 के निकट रूपायित किया गया था। 2005/2006 का औसत प्राप्तांक 533 था।[8]

परिमाणात्मक और मौखिक खंडों में एक कंप्यूटर-अनुकूलक परीक्षा शामिल है। पहला प्रश्न मुश्किल हो सकता है। प्रत्येक खंड में अगले कुछ प्रश्न 500 के स्तर के आस-पास हो सकते हैं। यदि परीक्षार्थी सही जबाब देता है, तो अगले प्रश्न कठिन होते जाते हैं। और यदि परीक्षार्थी ग़लत जवाब देता है तो अगले प्रश्न आसान हो जाते हैं, ये प्रश्न, प्रश्नों के एक विशाल भंडार से उठा कर, विद्यमान प्राप्तांक के आधार पर छात्र को दिए जाते हैं। इन सवालों को नियमित रूप से अद्यतन किया जाता है, ताकि इन प्रश्नों को दर्ज करने वाले छात्रों को अनावश्यक लाभ पहुँचने से रोका जाए.

केवल परीक्षार्थी द्वारा दिए गए पिछले प्रश्न के उत्तर पर ही अंतिम प्राप्तांक आधारित नहीं होते हैं (अर्थात्- कम्प्यूटर-अनुकूलक प्रश्नों की प्रस्तुति के माध्यम से प्रश्नों की कठिनाई के स्तर पर पहुंचना). अंक अर्जित करने के लिए प्रयुक्त एल्गोरिथम इससे भी अधिक जटिल है। परीक्षार्थी छोटी-सी ग़लती कर सकता है तथा ग़लत जवाब दे सकता है और कम्प्यूटर उस मद को विसंगति के रूप में पहचानेगा. यदि परीक्षार्थी पहले प्रश्न का उत्तर देने में चूक जाता है, तो ज़रूरी नहीं कि उसके प्राप्तांक घट कर आधे हो जाएंगे.

इसके अलावा, रिक्त छोडे गए प्रश्न (जो हल नहीं किए गए) परीक्षार्थी के लिए, प्रश्नों के ग़लत उत्तर से ज़्यादा तकलीफ़देह हैं। यह SAT के बिलकुल विपरीत है, जिसमें ग़लत उत्तर के लिए दंड का प्रावधान है। प्रत्येक परीक्षा खंड में कई प्रयोगात्मक प्रश्न भी शामिल होते हैं, जिन्हें परीक्षार्थी के प्राप्तांकों में जोड़ा नहीं जाता है, लेकिन भावी परीक्षा की औचित्य को जांचने के लिए शामिल किया जाता हैं।

मौखिक और परिमाणात्मक खंड में प्राप्तांकों का विस्तार 0 से 60 के बीच होता है। विश्लेषणात्मक-लेखन मूल्यांकन में प्राप्तांकों का विस्तार 0 से 6 के बीच है और यह GMAT के दो निबंधों के श्रेणी निर्धारण के औसत को दर्शाता है। निबंधों के लिए अंकों का अर्जन, मौखिक और परिमाणात्मक खंडों से भिन्न होता है और कुल प्राप्तांकों में इनकी गिनती नहीं होती है।

पिछले पांच साल में प्राप्त सभी अंक और निरसन, छात्र के प्राप्तांक रिपोर्ट पर होंगे, जो कि प्राप्तांक-रिपोर्ट में पिछले तीन प्राप्तांकों और निरसन को दर्शाने की विगत नीति में परिवर्तन है।[तथ्य वांछित]

अपेक्षित प्राप्तांक[संपादित करें]

अधिकांश स्कूल, आवेदकों द्वारा अर्जित प्राप्तांकों से संबंधित न्यूनतम स्वीकार्य प्राप्तांक या विस्तृत आंकड़े प्रकाशित नहीं करते हैं। तथापि, आम तौर पर स्कूल अपनी नवीनतम भर्ती के औसत और औसत प्राप्तांक प्रकाशित करते हैं, जिनका इस्तेमाल गाइड के रूप में किया जा सकता है।

लोकप्रिय पत्रिकाओं और रैंकिंग सेवाओं में सूचीबद्ध लगभग सभी शीर्षस्थ बिज़नेस स्कूलों के औसत प्राप्तांक 600 से ऊपर और 700 से नीचे है।

पूर्वस्नातक स्तर पर अच्छा प्रदर्शन, उत्कृष्ट संदर्भ और/या संबंध, विशेष रूप से दमदार प्रयोज्यता वाले निबंध, या कम प्रतिनिधित्व वाले समूह से जुड़े होना जैसी वास्तविक जगत की प्रभावशाली उपलब्धियों के ज़रिए परीक्षा में कम प्राप्तांक पाने की कमी को पूरा किया जा सकता है।

स्नातक प्रबंधन प्रवेश परीक्षा का इतिहास[संपादित करें]

आज जो संस्थान स्नातक प्रबंधन प्रवेश परिषद (GMAC) के नाम से जाना जाता है, 1953 में वह नौ बिज़नेस स्कूलों के एक संगठन के रूप में शुरू हुआ, जिसका लक्ष्य था योग्य आवेदकों के चयन में बिज़नेस स्कूलों की मदद के लिए मानकीकृत परीक्षा विकसित करना.प्रस्तावित पहले वर्ष में, इस मूल्यांकन को (जिसे अब स्नातक प्रबंधन प्रवेश परीक्षा के रूप में जाना जाता है) केवल 2000 से कुछ अधिक बार लिया गया था; हाल के वर्षों में, वार्षिक तौर पर 200,000 से ज़्यादा बार लिया गया है। प्रारंभ में 54 स्कूलों द्वारा प्रवेश के समय परीक्षा प्रयुक्त हुई थी, लेकिन अब विश्व भर में 1500 से अधिक स्कूलों तथा 1800 कार्यक्रमों द्वारा इसका प्रयोग किया जाता है।

2005 के बाद से परीक्षा का संचालन GMAC कर रहा है। 1 जनवरी, 2006 को GMAC ने विक्रेताओं को बदल कर ACT Inc में संयोजित किया, जो विश्व भर में परीक्षा केंद्रों पर परीक्षा के लिए, परीक्षा प्रश्न, तथा CAT सॉफ्टवेयर और Pearson Vue को विकसित करता है।

23 जून, 2008 को GMAC द्वारा एक धोखे के घोटाले की स्वीकारोक्ति की गई थी, जिसमे कुछ 6000 भावी एमबीए छात्र शामिल थे, जिन्होंने ScoreTop.com वेबसाइट पर सदस्यता ग्रहण किया था और संभवतः GMAT में प्रयुक्त "लाइव" सवाल देखे थे। GMAC ने गंभीर सुधारोपायों की घोषणा की थी, जिसमें प्रयोक्ताओं के प्राप्तांकों को रद्द करना, उनके अंक प्राप्त करने वाले स्कूलों को सूचित करना और भावी परीक्षाओं में भाग लेने पर प्रतिबंध लगाना शामिल है। 27 जून को GMAC ने आवेदकों को आश्वस्त किया कि केवल Scoretop के वेबसाइट का उपयोग करके जान-बूझ कर धोखा देने वाले आवेदक ही प्रभावित होंगे.[9] वॉल स्ट्रीट जरनल ने बाद में रिपोर्ट किया कि घोटाले के मद्दे नजर 84 परीक्षार्थियों के प्राप्तांक रद्द किए गए।[10]

इसके अलावा, "प्रॉक्सी" या "रिंगर" द्वारा परीक्षा देने के मामलों की प्रतिक्रिया में, जहां छात्र अपनी जगह परीक्षा देने के लिए किसी और को भुगतान करते हैं, GMAC इस वर्ष से परीक्षा केंद्रों पर फ़ुजित्सु PalmSecure (हथेली की नस की स्कैनिंग तकनीक) शुरू करने जा रहा है। कोरिया और भारत के केंद्रों में सबसे पहले और उसके बाद 2008 के अंत तक संयुक्त राज्य अमेरिका में स्कैनिंग उपकरण उपलब्ध कराए जाएंगे. GMAC ने मई 2009 तक इन्हें सभी परीक्षण केंद्रों में समन्वित करने की योजना बनाई है।[11]

2013 में अगली पीढ़ी के लिए एक GMAT सेट को शुरू करने की योजना के बारे में GMAC ने घोषणा की है। अंतर्राष्ट्रीय विभिन्नताओं पर और अधिक दृढ़ता से ग़ौर किया जाएगा.[12]

पंजीकरण और तैयारी[संपादित करें]

परीक्षार्थी निम्नलिखित दो तरीकों में से किसी एक तरह अपना पंजीकरण करा सकता है:

  • ऑन-लाइन mba.com पर क्रेडिट कार्ड के ज़रिए.
  • mba.com पर सूचीबद्ध किसी एक परीक्षा केंद्र पर फ़ोन के द्वारा.

परीक्षा-तिथि तय करने के लिए, किसी निर्दिष्ट परीक्षा केंद्र से संपर्क करना होगा.

अन्य कंपनियों के पास परीक्षा की तैयारी के विभिन्न विकल्प उपलब्ध हैं, जिसमें GMAT पुस्तकों के उपयोग द्वारा स्वयं पढ़ाई करना, कक्षा में GMAT की तैयारी से संबंधित पाठ्यक्रम (लाइव या ऑन-लाइन), या निजी अध्ययन शामिल हो सकता है।

अन्य नोट[संपादित करें]

  • GMAT में केलकुलेटरों के उपयोग की अनुमति नहीं है। गणना हाथ से करनी होगी.
  • परीक्षार्थियों द्वारा पहनी गई डिजिटल घड़ियों को परीक्षा की अवधि के लिए जब्त किया जा सकता है।
  • GMAT अभ्यास परीक्षाएं सभी जगह उपलब्ध हैं।

इन्हें भी देखें[संपादित करें]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. MBA.com. परीक्षा पंजीकरण वेब साइट.
  2. http://www.gmac.com/NR/exeres/7B5FBE35-23F3-48E4-8E6F-D3D3C9B2347D, frameless.htm? SSLSwitch = 1
  3. http://www.mba.com/mba/TaketheGMAT/Tools/SampleScoreReport.htm
  4. GMAC.com. विश्लेषणात्मक-लेखन मूल्यांकन प्राप्तांक को समझने और उपयोग करने की वेब साइट .12 जुलाई 2007 को देखा.
  5. GMAC.com An Evaluation of Intellimetric Essay Scoring System Using Responses to GMAT AWA Prompts Accessed July 12 2007.
  6. http://www.mba.com/mba/takethegmat/theessentials/gmatscoresandreports/understandingyourgmatscores.htm
  7. ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन काउंसिल, (2005). "दी अफ़िशियल गाइड फ़ॉर GMAT, रिव्यू 11th एडिशन", पृष्ठ 637. ब्लैकवेल पब्लिशिंग लिमिटेड.
  8. GMAC. (2006) प्रोफ़ाइल ऑफ़ ए ग्रेजुएट मैनेजमेंट एडमिशन टेस्ट कैंडिडेट्स: फ़ाइव इयर सम्मरी. 10 जुलाई 2007 को देखा
  9. GMAT चीटिंग स्कैंडल: GMAC बिज़नेस वीक 30 जून 2008.
  10. स्कूल्स कैंसल GMAT स्कोर्स
  11. "Business Schools Try Palm Scans to Finger Cheats". The Wall Street Journal. अभिगमन तिथि 2008-07-25.
  12. http://www.gmac.com/gmac/TheGMAT/The+Next+Generation+GMAT/

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]