स्थलीय ग्रह

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज
सूर्य के स्थलीय ग्रह - बुध (छ्द्म रंग), शुक्र (वातावरण-छीन), पृथ्वी (यथार्थ रंग), मंगल (वातावरण-छीन), एवं सीरीस (बौना ग्रह)।

स्थलीय ग्रह या चट्टानी ग्रह मुख्य रूप से सिलिकेट शैल अथवा धातुओ से बना हुआ ग्रह होता है। हमारे सौर मण्डल में स्थलीय ग्रह, सूर्य के सबसे निकटतम, आंतरिक ग्रह है।

स्थलीय ग्रह अपनी ठोस सतह की वजह से गैस दानवों से काफी अलग होते हैं, जो कि मुख्यतः हाइड्रोजन, हीलियम, और विभिन्न प्रावस्थाओ में मौजूद पानी के मिश्रण से बने होते हैं।

संरचना[संपादित करें]

लगभग सभी स्थलीय ग्रहों की संरचना एक जैसी होती है - ज्यादातर लोहे का बना हुआ एक केंद्रीय धात्विक सत्व, जिसके चारों ओर एक सिलिकेट आवरण होता है। चंद्रमा भी इनके समान है, पर उसका कोर बहुत छोटे आकार का है। ऐसे ग्रहों पर तंग घाटियाँ, क्रेटर, पर्वत तथा ज्वालामुखी पाये जाते हैं।

सिद्धांततः स्थलीय ग्रह दो प्रकार के होते हैं - सिलिकेट ग्रह, जिनके घटकों में सिलिकॉन यौगिकों का प्रभुत्व होता है एवं कार्बन ग्रह, जिनमें कार्बन के यौगिकों का प्रभुत्व होता है।

संदर्भ[संपादित करें]