सौ अजान और एक सुजान

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सौ अजान और एक सुजान बालकृष्ण भट्ट द्वारा रचित एक कृति है। लेखक इस कृति को एक प्रबंध-कल्पना मानते हैं।

परिचय[संपादित करें]

कृति का परिचय देते हुए दुलारेलाल लिखते हैं कि- "भट्टजी की यह रचना व्यंग्यात्मक है, और इसमें मानव-जीवन की सामाजिक परिस्थितियों का सुंदर चित्रण पाया जाता है।"[1]

विशेषता[संपादित करें]

बालकृष्ण भट्ट की यह रचना प्रस्तावों में लिखी गई है, जिसमें कुल तेईस प्रस्ताव हैं। प्रत्येक प्रस्ताव का आरंभ एक उपदेश से होता है।

पात्र[संपादित करें]

  • पंडितजी
  • सेठ हीराचंद
  • चंद्रशेखर(चंदू)

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]

हिन्दी विकिस्रोत पर पूरा पढे़ं।


संदर्भ[संपादित करें]

  1. बालकृष्ण, भट्ट (1944). सौ अजान और एक सुजान (सातवाँ संस्करण). लखनऊ: गंगा-ग्रंथागार. पृ॰ 7.