सौर कलंक

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
22 जून 2004 को प्रतिबिंबित सौर कलंक की एक छवि।
विस्तृत दृश्य, 13 दिसम्बर 2006

सौर कलंक (अंग्रेज़ी: Sunspots), सूर्य के प्रकाश मंडल की अस्थायी घटनाएं हैं। जब सूर्य के किसी भाग का ताप अन्य भागों की तुलना में कम हो जाता है तो धब्बे के रूप में दिखता है, इसे सौर कलंक कहते हैं। इस धब्बे का जीवनकाल कुछ घंटे से लेकर कुछ सप्ताह तक होता है। कई दिनों तक सौर कलंक बने रहने के पश्चात रेडियो संचार में बाधा आती है।[1]

सन्दर्भ[संपादित करें]