सोऽहम्

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

सोऽहम् (=सो +अहम् = मैं 'वह' हूँ) संस्कृत भाषा में एक महावाक्य है जिसका अर्थ है- "मैं 'वह' हूँ'। वैदिक दर्शन में इसका अर्थ अपने आप को ब्रह्म या सर्वोच्च सत्ता से जोड़ना है।

सन्दर्भ[संपादित करें]