सूची मूल्यांकन

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
यहाँ जाएँ: भ्रमण, खोज

अनुक्रम

सूची का अर्थ[संपादित करें]

यह अवधि सूची का अर्थ १) तैयार माल;२) प्रगति में काम और ३) कच्चे माल और घटकों।


सूची मूल्यांकन का उद्देश्यों[संपादित करें]

आय के निर्धारण[संपादित करें]

व्यापार का सच आय सुनिश्चित करने के लिए सूची का मूल्यांकन के द्वारा ही संभव है। सकल लाभ बेची गई वस्तुओं से अधिक की बिक्री से अधिक है। उद्घाटन सूची जोड़ने और खरीद से सूची को बंद करने की कटौती से पता लगाया है बेच माल की लागत।

वित्तीय स्थिति के निर्धारण[संपादित करें]

अवधि के अंत में सूची पक्का चिट्टा में एक मौजूदा परिसंपत्ति के रूप में दिखाया गया है। सूची कारोबार का गलत वित्तीय स्थिति का खुलासा करने से बचने के लिए सही ढंग से किया जाना चाहिए।

सूची प्रणाली[संपादित करें]

आवधिक सूची प्रणाली[संपादित करें]

[1]इस प्रणाली के एक सतत आधार पर हाथ में मात्रा और माल के मूल्य के बारे में जानकारी प्रदान नहीं करता है। माल का कुल मूल्य को जोड़ने के द्वारा प्राप्त की है प्रयुक्त सामग्री की लागत अवधि के अंत में सूची का मूल्य घटाकर पर अवधि की शुरुआत में हाथ में सूची का मूल्य तक की अवधि के दौरान खरीदी।

सदा की सूची प्रणाली[संपादित करें]

[2]यह भी एक स्वचालित सूची प्रणाली के रूप में जाना जाता है। इस प्रणाली के मामले में भंडार बही एक सतत आधार पर कच्चे माल का संतुलन, प्रगति में काम करने और तैयार माल देता है। उद्देश्य यह है की हर भंडार की सही मात्रा की जानकारी प्राप्त हो। यह सामग्री के भंडार से अधिक कठोर नियंत्रण प्रदान करता है।भौतिक शेयर नियमित रूप से भंडार रिकॉर्ड के साथ सत्यापित किया जा सकता।

सूची के मूल्यांकन के तरीकों[संपादित करें]

सूची की लागत[संपादित करें]

यह खरीद की लागत, रूपांतरण की लागत और अपने वर्तमान स्थान के लिए माल लाने में किए गए अन्य लागत की कुल है।लागत न केवल माल के अधिग्रहण के लिए भुगतान की कीमत भी शामिल है, लेकिन यह भी हर कीमत उन्हें उत्पादन में इस्तेमाल के लिए किए गए। [3]

विशिष्ट पहचान विधि[संपादित करें]

विशिष्ट पहचान विधि[4] के अनुसार, सूची के प्रत्येक आइटम अपनी लागत के साथ की पहचान की है। पहचान की विभिन्न लागत की कुल सूची का मूल्य का गठन। माल या माल एक विशिष्ट नौकरी या ग्राहक के लिए खरीदा गया है जब इस विधि का प्रयोग किया जाता है।

फीफो- पहली पहली बार बाहर विधि में[संपादित करें]

फीफो- पहली पहली बार बाहर विधि में विधि[5] के तहत यह पहली बार प्राप्त हुआ माल पहली बार बेचा जा रहे हैं।

लीफो- बाहर पहली में पिछले विधि[संपादित करें]

जो माल पिछले बार खरीदी वो पहली बार बेचा जा रहे हैं।[6]

उच्चतम को पहले बाहर निकालने कि विधि[संपादित करें]

इस विधि के अनुसार, माल की सूची को सबसे कम संभव मूल्य पर मूल्य की जानी चाहिए। जिस माल को अधिक या उच्चतम मूल्य से खरीदी गयी है उस माल को पहले बेच दिया जाता है। इस माल के खरीद के तारीख पर विचार नहि किया जाता है। यह विधि उपयुक्त है जब बाज़ार अस्थिर होता है क्योंकी भारी कीमत सामग्रियों की लागत उत्पादन या बिक्री से यथाशीघ्र बरामद कर सकते है।

अधारभूत सूची विधि[संपादित करें]

यह विधि प्रत्येक उध्यम एक न्यूनतम मात्रा में सूची में सभी सामग्री को कायम रखने के अधार पर बनाया है। इस मात्रा को ही अधारभूत सूची से जाना जाता है। यह समझा जाता है कि अधारभूत सूची पहले खरीदी गयी सूची भाग से बनाया जाता है। और इसलिए इसे हमेशा इसी कीमत पर मूल्यवान है और इसे निश्चित संपत्ति के रूप में दिखाया जाता है। अगर अधारभूत सूची के ऊपर मात्रा चली जाए तो उस मात्रा को किसि ओर उपयुक्त विधि से मूल्यवान की जाए।

अगले सूची के मूल्य को पहले को दिया जाने वाला विधि[संपादित करें]

यह विधि प्रयास करता है कि जो भी माल वास्तविक कीमत पर जारी या बेच दिया हो, उसके कीमत संभव बाज़ार मूल्य के करीब हो। इस विधि में बेच वस्तुओं की लागत को अगले कीमत से मूल्यवान किया जाता है। अगले कीमत से मूल्यवान करने का अभिप्राय यह है कि वह सूची या माल का कीमत जो मंगवाया गया है लेकिन प्राप्त नही हुए हो। सूची मूल्यांकन ह्मे सूची खरीदा माल के कुल मूल्य से बेचा जारी माल की लागत घटाने के द्वारा पता लगाया जाता है।

भारित औसत अवधि विधि[संपादित करें]

भारित औसत अवधि विधि[7] यह अनुमान पर अधारित है कि जब सभी माल को एक ही सूची समझा जाए तो वह माल की अपना सरूपता या पहचान खो जाता है। इसलिए सूची में कोई विशिष्ट खेप नही होती। इसलिए माल की कीमत औसत कीमतों के अधार पर रखा गया है। यह माल प्रत्येक मूल्य पर खरीदी गई मात्रा के अनुसार भारित है।


शुद्ध वसूली मूल्य या शुद्ध वसूली योग्य मूल्य[संपादित करें]

शुद्ध वसूली मूल्य[8] का अर्थ यह होता है कि " व्यापार के सामान्य पाठ्यक्रम में अनुमानित बिक्रि कीमत कम पूरा करने की लागत और अनुमानित लागत आवश्यक है जो बिक्री बनाने के लिए होता है।" शुद्ध वसूली मूल्य को सभी व्यय जो बिक्री बनाने के लिए खर्च किया जा करने के लिए है हो सकता है ध्यान में लेने के बाद की गणना की जाती है।

सूची को हमेशा लागत या शुद्ध वसूली मूल्य (इन में से जो भी कम हो) पर दिखाना चाहिए। विभिन्न वस्तुओं की शुद्ध वसूलि मूल्य और ऐतिहासिक लागत के साथ तुलना कि प्रतीति निम्र तरीकों में से किसी के द्वारा किया जा सकता है :-

समुच्चय या कुल सूची विधि[संपादित करें]

इस विधि के अन्सार, सूची के विभिन्न वस्तुओं के कुल लागत कीमतों का गणना लगाया जाता है। प्राप्त किए कुल मूल्य को कुल शुद्ध वसूली मूल्य से तुलना की जाती है। इन दो मूल्यों में से जो भी मूल्य कम हो, उस मूल्य का उपयोग किया जाता है।

समूह विधि[संपादित करें]

विधि के अनुसार, सूची में सजातीय वस्तुओं की समूह बनाया जाता है। हर एक समूह के लागत और शुद्ध वसूलि मूल्य की गणना की जाती है। प्रत्येक समूह के लागत या शुद्ध वसूलि मूल्य जो भी कम हो वह मूल्य को सूची मूल्यांकन के लिए उपयोग किया जाता है।

मद मद द्वारा विधि[संपादित करें]

इस विधि के अनुसार, सूची के प्रत्येक वस्तुओं की लागत और शुद्ध वसूली मूल्य क पता लगाया जाता है। फिर सभी वस्तुओं को लागत या शुद्ध वसूली मूल्य से भी कम कीमयत से मूल्य दिया जाता है।

प्रत्याशित मूल्य गिरावट[संपादित करें]

सूची को सिर्फ कम लागत या शुद्ध वसूली मूल्य पर मूल्यांकन की सिद्धांत तभी लागु होती है जब मूल्य की गिरावट वास्तव में हुआ है और नाकी भविश्य में मूल्य की गिरावट की संभावना हो।

लेखांकन मानक २: सूची का मूल्यांकन[संपादित करें]

उद्देश्य[संपादित करें]

सूची के लिए लेखांकन में एक प्राथमिक मुद्दा मूल्य के निर्धारण है। सूची वित्तीय बयान में किया जाता है। उसके बाद ही संबंधित राजस्व में मान्यता प्राप्त कर रहे हैं।यह सूची की लागत के मूल्य का निर्धारण और प्रतीति भी शामिल किया जाता हैं।

क्षेत्र[संपादित करें]

यह वक्तव्य के अलावा अन्य सूची के लिए लेखांकन में लागू किया जाना चाहिए- -निर्माण के ठेके के तहत उत्पन्न होने वाली प्रगति में काम -व्यापार के सामान्य पाठ्यक्रम में उत्पन्न होने वाली प्रगति में काम -शेयर, डिबेंचर और अन्य वित्तीय साधनों व्यापार में स्टॉक के रूप में आयोजित किया।

सूची की लागत[संपादित करें]

सूची की लागत, रूपांतरण और अन्य लागत की लागत खरीद के सभी लागत शामिल करना चाहिए।

खरीद की लागत[संपादित करें]

इस लागत में खरीद की लागत के अलावा शुक्ल और करों, माल दुलाई अंदर की ओर और अन्य व्यय जो अधिग्रहण के सीधे कारण माने जाते हैं भी शामिल है। व्यापार छूट, छूट, आदि जैसे अन्य वस्तुओं को खरीद की लागत से घटाया जाता है।

रूपांतर की लागत[संपादित करें]

रूपांतर की लागत में जो भी लागत सीधे उत्पादन की इकाइयों से संबंधित हो जैसे की प्रत्यक्ष श्रम। इस लागत में व्यवस्थित आवंटन के निश्चित और चर उत्पादन परिचालन, जो सामग्रि को तैयार माल में परिवर्तित करते समय खर्च हो, वे भी शामिल किया गया है।

अन्य लागत[संपादित करें]

इन लागतों में वही खर्च डाले जाते है जो सामग्रियों को एक जगह से दूसरी जगह तक पहुँचाने के लिये हो। इसमें कभी कभी विशिष्ट ग्राहकों के लिये उत्पादों की बनावट की लागत भी डाल दिया जाता है।

प्रकटीकरण[संपादित करें]

वित्तीय विवरणों यह सब जानकारी का खुलासा करना चाहिए :

१) सूची मापने के लिये जो भी लेखांकन नीतियों को अपनाया हो, उसका खुलासा अवश्यक है २) सूची और इसके वर्गीकरण की कुल किमत का भी खुलासा अवश्यक है।

सन्दर्भ[संपादित करें]

http://en.wikipedia.org/wiki/Inventory_valuation

Maheshwari, S., Maheshwari, S., & Maheshwari, S. (2012). Inventory valuation. In Financial Accounting (Fifth ed.). Noida: Vikas Publishing House Pvt.

Shukla, M. (2009). Final Accounts. In Advanced Accounts. New Delhi: S. Chand &.