सुधीर चौधरी (पत्रकार)

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुधीर चौधरी
Sudhir Chaudhary, Journalist.jpeg
चौधरी, ज़ी न्यूज़ के दफ्तर में
व्यवसाय पत्रकार, न्यूज ऐंकर, सम्पादक
सक्रिय वर्ष 1993—आज तक
प्रसिद्धि कारण डीएनए (DNA / डेली न्यूज ऐण्ड एनालिसिस) नामक दैनिक प्राइम टाइम शो के ऐंकरिंग के लिये।
पुरस्कार रामनाथ गोयनका सम्मान - पत्रकारिता में उत्कृष्टता के लिये (हिन्दी प्रसारण श्रेणी, २०१३)[1][2][3]

सुधीर चौधरी एक भारतीय पत्रकार, समाचार एंकर और सम्पादक हैं। वह हिन्दी समाचार चैनल ज़ी न्यूज़ में मुख्य सम्पादक के रूप में कार्य करते हैं। जिसके चलते उन्हें पत्रकारिता के क्षेत्र में उत्कृष्टता के लिए “रामनाथ गोयनका” पुरस्कार के सम्मानित किया गया है।

जीवन परिचय

सुधीर चौधरी का जन्म 7 जून 1974 में हरियाणा के पलवल में हुआ था। उनकी राशि मिथुन है। उन्होंने कला में स्नातक की पढ़ाई करने के लिए दिल्ली विश्वविद्यालय में दाखिला लिया। स्नातक की पढ़ाई पूरी करने के बाद, उन्होंने पत्रकारिता के क्षेत्र में डिप्लोमा करने के लिए नई दिल्ली स्थित जनसंचार संस्थान में दाखिला लिया। वह अक्सर अपने स्कूल और कॉलेज के दिनों में विभिन्न वाद विवाद प्रतियोगिताओं में भाग लेते थे।

परिवार

सुधीर चौधरी एक हिन्दू परिवार से सम्बन्धित हैं। उनके परिवार के बारे में इस समय ज्यादा जानकारी नहीं है। सुधीर ने नीती चौधरी से विवाह किया। जिससे उनका एक बेटा है।

करियर

वर्ष 1993 में, सुधीर ने ज़ी न्यूज़ के एक पत्रकार के रूप में अपने पत्रकारिता करियर की शुरुआत की। उस समय ज़ी न्यूज़ ने अपना संचालन शुरू ही किया था। सुधीर चौधरी ज़ी न्यूज़ चैनल में एक समाचार एंकर के रूप में शामिल हुए और वर्ष 2001 में घटित भारतीय संसद हमले और कारगिल युद्ध सहित कई प्रमुख समाचारों को कवर किया। वह उस टीम का हिस्सा भी थे, जिसने अटल बिहारी वाजपेयी और परवेज़ मुशर्रफ़ के बीच हुई, इस्लामाबाद की बैठक को कवर किया। वर्ष 2003 में, उन्होंने ज़ी न्यूज़ से इस्तीफा दे दिया और हिन्दी समाचार चैनल “सहारा समय” में शामिल हो गए। सुधीर ने सहारा समूह द्वारा सहारा समय के शुभारम्भ में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई। जहाँ उन्होंने कुछ समय तक कार्य किया और उसके बाद इण्डिया टीवी में शामिल हो गए। उसके कुछ समय वाद वह चैनल के प्रधान सम्पादक के रूप में “लाइव इण्डिया’ में शामिल हो गए। वर्ष 2012 में, सुधीर “ज़ी न्यूज़” में वापस लौट आए और एक सम्पादक के रूप में कार्य करना शुरू किया। तब से, वह लोकप्रिय प्राइम टाइम न्यूज शो “डेली न्यूज एनालिसिस” (डी॰एन॰ए॰) की मेजबानी कर रहे हैं। वर्ष 2015 में, सुधीर को पत्रकारिता में उत्कृष्टता प्रदान करने के लिए रामनाथ गोयनका पुरस्कार से सम्मानित किया गया। उन्हें दिल्ली गैंगरेप पीड़िता के दोस्त का साक्षात्कार लेने के लिए भी सम्मानित किया गया है।

उगाही का आरोप तथा गिरफ्तारी

नवम्बर 2012 में सुधीर चौधरी तथा उनके साथी समीर अहलूवालिया को अवैध वसूली के आरोप में गिरफ्तार किया गया था।[4] यह गिरफ्तारी उद्योगपति तथा कांग्रेस सांसद नवीन जिन्दल द्वारा दर्ज एक शिकायत पर आधारित थी। इसमें जिन्दल ने कहा कि दोनों पत्रकारों ने उनसे, जिन्दल समूह तथा कोयला घोटाले को जोड़ती हुई कोई खबर ना चलाने के बदले 100 करोड़ रुपए माँगे। दोनों को तिहाड़ जेल में 14 दिन की न्यायिक हिरासत में भेजा गया, हालाँकि बाद में वे जमानत पर छूट गए।[5]

सन्दर्भ

  1. "Zee News senior editor Sudhir Chaudhary gets Ramnath Goenka Excellence". satyavijayi. मूल से 23 मार्च 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2015-11-25.
  2. "Sudhir Chaudhary gets Ramnath Goenka Excellence". द इंडियन एक्सप्रेस. मूल से 5 नवंबर 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2015-11-23.
  3. "Sudhir Chaudhary gets Ramnath Goenka Excellence". financial express. मूल से 17 अगस्त 2016 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 2015-11-24.
  4. "ज़ी टीवी के पत्रकार गिरफ्तार". बीबीसी. 27 नवम्बर 2012.
  5. "तिहाड़ जेल गए जी न्यूज के संपादक". अमर उजाला. 30 नवम्बर 2012.

बाहरी कड़ियाँ