सुधर्मा

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search
सुधर्मा
प्रकार दैनिक समाचार-पत्र
प्रारूप Broadsheet
संपादक के वी सम्पतकुमार
संस्थापना जुलाई 14, 1970; 50 वर्ष पहले (1970-07-14)
राजनैतिक दृष्टिकोण उदार / दक्षिणपन्थी
मुख्यालय मैसूरु, कर्नाटक
वितरण 2000
जालपृष्ठ sudharma.epapertoday.com

सुधर्मा संस्कृत का एकमात्र दैनिक समाचारपत्र है। यह मैसूर से प्रकाशित होता है।[1] इसका प्रकाशन १९७० में आरम्भ हुआ था। इसका वितरण मुख्यतः डाक द्वारा होता है। इस अखबार की अभी 3,000 प्रतियां निकलती हैं और इसकी वार्षिक सदस्यता शुल्क 400 रुपए है।[2]

सन २०२० में सुधर्मा के सम्पादक श्री केवी सम्पत कुमार, उनकी पत्नी जयलक्ष्मी को पद्मश्री से सम्मानित किया गया।[3]

सन्दर्भ[संपादित करें]

  1. "Language and love: The story of India's oldest surviving Sanskrit newspaper". मूल से 12 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 नवंबर 2017.
  2. "भारत का एकमात्र संस्कृत दैनिक 'सुधर्मा' बंद होने के कगार पर, केंद्र से मांगी मदद". मूल से 12 नवंबर 2017 को पुरालेखित. अभिगमन तिथि 12 नवंबर 2017.
  3. पद्म पुरस्कार विजेताओं की लिस्ट में इन वरिष्ठ पत्रकारों ने भी बनाई अपनी जगह

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]