सुघट्यता

मुक्त ज्ञानकोश विकिपीडिया से
Jump to navigation Jump to search

भौतिकी और पदार्थ विज्ञान में, सुघट्यता किसी पदार्थ का वह गुण है जो उस विरुपण की व्याख्या करती है जो उस पदार्थ पर आरोपित बलों के फलस्वरूप उसकी आकृति में आये अप्रतिवर्ती परिवर्तन के कारण होता है। जब वस्तु पर प्रत्याशा सीमा से अधिक बल बढ़ाया जाता है तो वस्तु बल हटाने पर अपनी पूर्व अवस्था में नहीं आती बल हटाने पर इसमें कुछ न कुछ विरूपण जरूर रह जाता है वस्तु की इस अवस्था को सुगठी अवस्था कहते हैं इस गुण को घटता कहते हैं

सन्दर्भ[संपादित करें]

बाहरी कड़ियाँ[संपादित करें]